Exclusive

अमेठी: उत्तर प्रदेश के अमेठी जैसे वीवीआईपी ज़िले की गड्ढा युक्त सड़कें सरकार के गड्ढा मुक्त सड़कों के दावों वाले बयान को मुंह चिढ़ा रही हैं लेकिन सरकार है के जिसनें अमेठी में ज़ुबानी विकास करने का मन बना लिया है। यह भी पढ़ें: यूपी में दिखने लगा समायोजन रद्द होने का असर, शिक्षामित्र ने की …

लखनऊ: कांग्रेसियों की बहुत लंबे समय से चली आ रही मांग को पार्टी के राष्ट्री य अध्यक्ष राहुल गांधी ने जल्दग ही पूरा करने का मन बना लिया है। प्रियंका गांधी के राजनीति में प्रवेश को लेकर अटकलें अब‍ खत्म  हो गई हैं। लेकिन प्रियंका रायबरेली से नहीं अमेठी से चुनावी मैदान में उतरेंगी। उनहें स्मृंति ईरानी के मुकाबले …

लखनऊ: प्रदेश सरकार ने आयुष पर फोकस करने का मन बना लिया है। इसके लिए सरकार न केवल एक भारी भरकम फंड जारी करने की तैयारी में है। बल्कि प्रदेश भर में चार सौ तीन आयुष गांव बनाने का भी फैसला किया गया है। अब मेडिसिन बोर्ड को कृषि महकमे से हटाकर आयुष के अधीन …

हर वर्ष करीब तीन लाख और अब तक करीब 1.5 करोड़ बांग्लादेशी भारत वर्ष में घुसपैठ कर चुके हैं। (माधव गोडबोले की रिपोर्ट, 2000) बड़ी संख्या में बांग्लादेशियों के घुसपैठ के कारण असम ‘वाह्य अक्रमण एवं आंतरिक अशांति‘ से ग्रस्त है। (सर्वोच्च अदालत की टिप्पणी, 2005) बांग्लादेशी घुसपैठियों की बड़ी संख्या में मौजूदगी आंतरिक सुरक्षा …

इमरान खान नियाज़ी। अपने 70 साल के इतिहास में अर्ध लोकतंत्र और पूर्ण सैन्य शासन के बीच झूलते पाकिस्तान के होने वाले प्रधानमंत्री। क्रिकेट खेले तब इंतेहा कर दी। पाकिस्तान के लिए विश्वकप जीता। इश्क किया तो पूरी दूनिया में शोर बरपा। इमरान की बायोग्राफी लिखने वाले क्रिस्टोफर सैनफोर्ड के मुताबिक लड़कियां उन पर जान …

लखनऊ : उत्तर प्रदेश सरकार को काबिल अफसरों की भारी किल्लत झेलनी पड़ रही है। सूबे में अच्छे अफसर इतने कम हो गए हैं कि जो हैं उन पर भारी बोझ लदा है। इससे प्रशासनिक मशीनरी चाह कर भी बहुत अच्छे ढंग से परफॉर्म नहीं कर पा रही है। हालांकि आज ही इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान …

लखनऊ: वे क्रिकेटर थे।  नेता बन गए। अब तो बड़े नेता हो गए। इसलिए दुनिया में आज उनको लेकर कई तरह की चर्चाएं हैं। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बनने जा रहे इमरान खान की वे प्रेम कथाएं  अचानक चर्चा में आ गयीं हैं जिनके चलते उनको प्ले बॉय तक कहा गया था। कभी पकिस्तान की प्रधानमंत्री …

तीस साल बाद आये अविश्वास प्रस्ताव में कौन जीता, कौन हारा, यह संदेश भले ही निकल आया हो। लेकिन अविश्वास प्रस्ताव के दौरान संसद में जो मंजर दिखा उसमें लोकतंत्र हारा। जनता हारी। जनार्दन हारे। अविश्वास प्रस्ताव लाने और इसके समर्थन में खड़े विपक्ष को खुद को लोकतंत्र, जनता, जनार्दन नहीं मान लेना चाहिए। क्योंकि …

कांग्रेस भले ही अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के कांग्रेस के मुसलमानों की पार्टी होने की बात कहे जाने को लेकर बचाव कर ले। लेकिन उसके नेता दिग्विजय सिंह और पी. चिदंबरम द्वारा कभी प्रयोग किया गया ‘हिंदू आतंकवाद‘ अथवा ‘भगवा आतंकवाद‘ का क्या बचाव होगा? शशि थरूर का यह कहना कि अगर भाजपा अगला …

जिस देश और समाज को उसके इतिहास का ज्ञान नहीं होता। इतिहास पर गर्व नहीं होता। वह काल के साथ कवलित हो जाता है। हमारे इतिहास से शुरू से छेड़छाड़ हो रही है। पाठ्यक्रमों में इतनी भ्रामक सूचनाएं हैं कि सरकार बदलते ही छात्र को पुराना इतिहास बेमानी लगने लगता है। नये इतिहास केे सामने …