अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला: ED को जेल में बंद मिशेल से पूछताछ के लिए मिली इजाजत

आरोप है कि अगस्ता वेस्टलैंड ने डील फाइनल कराने के लिए क्रिश्चियन को करीब 350 करोड़ रुपये सौंपे थे, जो भारतीय राजनेताओं, एयरफोर्स के अफसरों और नौकरशाहों को देने थे। क्रिश्चियन ने घूस की रकम ट्रांसफर करने के लिए दो कंपनियों ग्लोबल सर्विसेज एफजेडई, दुबई और ग्लोबल ट्रेड एंड कॉमर्स सर्विसेज, लंदन का इस्तेमाल किया था।

नई दिल्ली: अगस्ता वेस्टलैंड मामले में तिहाड़ जेल में बंद क्रिश्चियन मिशेल से पूछताछ के लिए ED को इजाजत मिल गई है।  याचिका पर सुनवाई करते हुए आज सीबीआइ कोर्ट ने ईडी को 13,14 मार्च को पूछताछ करने के लिए अनुमति दी है। मामले की अगली सुनवाई 14 मार्च को होगी।

दरअसल ED ने मिशेल से दोबारा पूछताछ करना चाहती है जिसके लिए सीबीआइ कोर्ट से इजाजत देने की मांग की गई थी। इससे पहले अगस्ता वेस्टलैंड मामले में जेल में बंद क्रिश्चियन मिशेल से पूछताछ के मामले में दिल्ली की दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने तिहाड़ जेल प्रशासन को नोटिस जारी किया था।

सीबीआई कोर्ट ने गौतम खेतान की जमानत याचिका खारिज कर दी है, जिसे काला धन अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया था। वह वर्तमान में प्रवर्तन निदेशालय की न्यायिक हिरासत में है। अगस्ता वेस्टलैंड मामले में कथित बिचौलियों ईसाई क्रिश्चियन मिशेल ने आज सीबीआई कोर्ट के समक्ष कहा कि उन्हें तत्कालीन सीबीआई वरिष्ठ अधिकारी राकेश अस्थाना ने चेतावनी दी थी कि अगर वह भारत वापस आते हैं तो उनके जीवन को नरक बना दिया जाएगा। यह सच हो गया है।

ED ने की गौतम खेतान की 8.4 करोड़ की संपत्ति कुर्क

गौरतलब है कि 3600 करोड़ के अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला मामले में दिल्ली के वकील गौतम खेतान की 8.46 करोड़ संपत्ति को ईडी ने सोमवार को जब्त कर लिया। ईडी ने सोमवार को कहा कि वीवीआईपी हेलिकॉप्टर मामले में आरोपी खेतान के विदेशों में अघोषित रूप से अकाउंट्स को लेकर एक दूसरी आपराधिक जांच के तहत कार्रवाई की है।

ये भी पढ़ें— अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला: ED ने की गौतम खेतान की 8.4 करोड़ की संपत्ति कुर्क

ईडी ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग ऐक्ट (PMLA) के तहत गौतम खेतान की दिल्ली, हरियाणा और उत्तराखंड में स्थित संपत्तियों को जब्त किया है। बता दें कि अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला मामले में गौतम खेतान जमानत पर है और ईडी ने उसके खिलाफ PMLA के तहत एक नया आपराधिक मामला दर्ज किया था और उसे 25 जनवरी को गिरफ्तार किया था।

मिशेल को पिछले साल 22 दिसंबर को दुबई से प्रत्यर्पण संधि के तहत गिरफ्तार किया गया था। ईडी ने 5 जनवरी को अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकाप्टर घोटाले के मामले में पूछताछ के लिए मिशेल को न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। मिशेल ईडी और सीबीआइ द्वारा गिरफ्तार किए गए अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले के तीन आरोपियों में से एक है, उसके अलवा इस सौदे में दो अन्य बिचौलिए गुइदो हाश्के और कार्लो गेरेसा थे।

जानिए कौन है क्रिश्चियन मिशेल

क्रिश्चियन मिशेल पर अगस्ता-वेस्टलैंड डील में 36,00 करोड़ रुपए की मनी लॉन्ड्रिंग करने और रिश्वत लेने का आरोप है। मिशेल बहुचर्चित अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला मामले में उन 3 बिचौलियों में से एक हैं, जिनके खिलाफ जांच की जा रही है। गुइदो हाश्के और कार्लो गेरेसा भी इस घोटाले में शामिल हैं। 57 वर्षीय मिशेल, फरवरी 2017 में गिरफ्तारी के बाद से दुबई की जेल में था। उसे यूएई में कानूनी और न्यायिक कार्यवाही के लंबित रहने तक हिरासत में भेज दिया गया था। भारत ने 2017 में यूएई से क्रिश्चियन को भारत प्रत्यर्पित करने की आधिकारिक अपील की थी। इस संबंध में यूएई की अदालत को जरूरी दस्तावेज भी सौंपे गए।

ये भी पढ़ें— अगस्ता वेस्टलैंड मामले में क्रिश्चियन मिशेल को बड़ा झटका, जमानत की याचिका खारिज

मिशेल पर हैं ये आरोप

अगस्ता वेस्टलैंड मामले के आरोपी मिशेल पर आरोप है कि उसने अपने दो और साथियों के साथ मिलकर यह आपराधिक षडयंत्र रचा। मिशेल के साथ इस मामले में तत्कालीन वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी और उनके परिवार के सदस्य भी शामिल रहे हैं। ईडी को जांच में पता चला था कि मिशेल अपनी दुबई की कंपनी ग्लोबल सर्विसेज के माध्यम से दिल्ली की एक कंपनी को शामिल करके अगस्ता वेस्टलैंड से रिश्वत ली।

रिश्वत के लिए मिशेल को सौंपे गए थे 350 करोड़

आरोप है कि अगस्ता वेस्टलैंड ने डील फाइनल कराने के लिए क्रिश्चियन को करीब 350 करोड़ रुपये सौंपे थे, जो भारतीय राजनेताओं, एयरफोर्स के अफसरों और नौकरशाहों को देने थे। क्रिश्चियन ने घूस की रकम ट्रांसफर करने के लिए दो कंपनियों ग्लोबल सर्विसेज एफजेडई, दुबई और ग्लोबल ट्रेड एंड कॉमर्स सर्विसेज, लंदन का इस्तेमाल किया था।

ये भी पढ़ें— अगस्ता वेस्टलैंड केसः राजीव सक्सेना और दीपक तलवार को लाया गया भारत