भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर सर्मथकों के साथ पहुंचे दिल्ली, हुंकार रैली में होंगे शामिल

भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद शुक्रवार को दिल्ली के जंतर-मंतर पर हुंकार भरेंगे। चंद्रशेखर को गुरुवार शाम चार बजे मेरठ के आनंद अस्पताल से छुट्टी मिल गई। वह दर्जनभर समर्थकों सहित दिल्ली पहुंच गए हैं।

नई दिल्ली: भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद शुक्रवार को दिल्ली के जंतर-मंतर पर हुंकार भरेंगे। चंद्रशेखर को गुरुवार शाम चार बजे मेरठ के आनंद अस्पताल से छुट्टी मिल गई। वह दर्जनभर समर्थकों सहित दिल्ली पहुंच गए हैं। इससे पहले चंद्रशेखर ने कहा कि दिल्ली में जंतर-मंतर पर शुक्रवार को होने वाली बहुजन हुंकार रैली में वह हर हाल में शामिल होंगे।

शुक्रवार को बसपा संस्थापक कांशीराम की जयंती है। खबरों के मुताबिक इस रैली में कांशीराम की बहन भी शामिल हो सकती हैं। अगर ऐसा होता है तो चंद्रशेखर और मायावती के बीच दलितों की राजनीति करने के मुद्दे पर खींचतान बढ़ सकती है। बता दें कि मायावती कांशीराम की राजनीतिक को आगे बढ़ाने का दावा करती रही हैं।

यह भी पढ़ें…..तस्वीरों में देखिए आपदाग्रस्त लोगों की मदद के लिए उतरे सेना के एमआई और एडवांस लाइट हेलीकॉप्टर

यूपी के देवबंद में मंगलवार को पुलिस ने बहुजन हुंकार यात्रा को आचार संहिता के उल्लंघन में रोक दिया था और भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर को हिरासत में ले लिया था। ब्लड प्रेशर की शिकायत के बाद उनका उपचार मेरठ के आनंद अस्पताल में चल रहा था। एक दिन पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, ज्योतिरादित्य सिंधिया और राजबब्बर भी चंद्रशेखर से मिलने हॉस्पिटल पहुंचे थे।

यह भी पढ़ें…..जिनका मूलांक है 5 वो न खरीदें काले रंग का कार, जानिए आपके लिए कौन सा रंग है निषेध

गुरुवार शाम चार बजे चंद्रशेखर को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। इसके तुरंत बाद वह समर्थकों सहित दिल्ली रवाना हो गए। मेरठ से करीब चार-पांच गाड़ियों में उनके समर्थक भी साथ गए हैं। सुरक्षा के लिहाज से पुलिस भी साथ है।

यह भी पढ़ें…..न्यूजीलैंड की 2 मस्जिदों में हुई अंधाधुंध गोलीबारी,दहली बांग्लादेश की टीम, 27 की मौत,एक गिरफ्तार

दिल्ली रवाना होने से पहले चंद्रशेखर ने कहा कि शुक्रवार को दिल्ली में बहुजन हुंकार रैली में वह हर सूरत में पहुंचेंगे। इसके लिए वह आखिरी दम तक जुटे रहेंगे। उन्होंने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि देवबंद में यात्रा रोकने का मकसद दंगा कराना था। चंद्रशेखर ने यह भी कहा कि सरकार उनकी रैली को विफल करना चाहती है, इसलिए दिल्ली जाने वाली 17 गाड़ियों को रद्द किया गया है।