Opinion

सत्रहवें लोकसभा चुनाव की रणभेरी के साथ ही लोकतंत्र के उत्सव की शुरुआत हो गई है। इसे सियासी कुम्भ भी कह सकते हैं। लोकतंत्र के इस पर्व पर हर बार की तरह तमाम खट्टी मीठी यादें होंगी। कुछ नए मतदाता जुड़ेंगे। कुछ का नाम सियासी चैसर की चालाक चालबाजियों के चलते मतदाता सूची से बाहर …

अब जबकि चीन ने मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के प्रस्ताव को वीटो कर ही दिया है तब भारत की जनता क्या चीनी उत्पादों को बहिष्कार करेगी।

लोकसभा चुनाव का तापमान धीरे धीरे बढ़ रहा है। दोनो पक्षों की सेनाएं सज रही हैं। सत्ता पक्ष पर विपक्ष की पैनी निगाह है और सत्ता पक्ष विपक्ष को निरंतन खड़ा होने का मौका नहीं देना चाहता है। मुद्दा विहीन होते चुनाव में चुनावी मुद्दों की दोनो पक्षों को ही तलाश है। रुठों को मनाने में सभी लगे हैं।

जयपुर:गुरुवार, फाल्गुन शुक्लपक्ष अष्टमी 14 मार्च से फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा 21 मार्च तक होलाष्टक रहेगा। इस अवधि में भोग से दूर रह कर तप करना ही अच्छा माना जाता है। इसे भक्त प्रह्लाद का प्रतीक माना जाता है। सत्ययुग में हिरण्यकशिपु ने घोर तपस्या करके ब्रह्मा जी से वरदान पा लिया। वह पहले विष्णु का …

पुलवामा हमले के महज 12 दिनों के बाद ही जिस प्रकार से भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तानी सीमा में 50 किमी अंदर घुसकर पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के बालाकोट में जैश के ठिकानों पर बमबारी करते हुए उनके आतंकी ठिकानों को ध्वस्त करते हुए 300 आतंकियो को मार गिराया है वह अविस्मरणीय बन गया है। …

राम जन्मभूमि मामला सुप्रीम कोर्ट की चौखट पर जाकर एक बार फिर अटक गया है। कहां तो पूरे देश की निगाहें सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर थीं, सब को उम्मीद थी कि अदालत के फैसले से लंबे समय से चले आ रहे इस विवाद को कोई दिशा मिल जाएगी। हिन्दूवादी संगठन मंदिर निर्माण शुरू करने को पहले से ही बेताब हैं।

पुलवामा हमले के बाद से देश में भावनाओं का ज्वार अपने चरम पर है। लेकिन कुछ लोग इसे सिर्फ अपने को चर्चा में लाने के लिए यूज कर रहे हैं। ताकि उनकी प्रोफाइल से देशभक्ति टपकती रहे। ऐसे ही कुछ मंदभुद्दीयों (बुद्धि है नहीं इनके) ने लखनऊ में भगवा कंधे पर डाल कश्मीरियों को घेरकर पीटा।

जयपुर: कभी मायके तो कभी ससुराल  में महिलाएं अक्सर घरेलू हिंसा का शिकार होती है, लेकिन इससे बचने का रास्ता उसे नजर नहीं आता। ऐसे में महिलाओं के लिए जानना जरूरी है, घरेलू हिंसा अधिनियम को। घरेलू हिंसा से महिला संरक्षण अधिनियम 2005 भारत की संसद द्वारा पारित एक अधिनियम है जिसका उद्देश्य घरेलू हिंसा …

अंततः यू. पी. का एक खाकीधारी ही मूल में निकला, जिसने भारत के सत्तरसाला संघीय ढाँचे को दरका दिया। भाजपा और तृणमूल के बीच जंग का शंख निनादित करा दिया। चंदौसी के कॉलेज प्राचार्य का यह आई. पी. एस. पुत्र (राजीव कुमार) सात वर्ष पूर्व ममता बनर्जी की घोरतम घृणा का पात्र था। वे इसे कांग्रेस का भेदिया मानती थीं।

बहुत गम्भीर आरोप मढ़ा है नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर (7 फ़रवरी) लोक सभा में। इस बयान का प्रभाव चंद महीने बाद होने वाले सत्रहवीं लोकसभा के आम चुनाव पर पड़ेना तय है। मसलन दसवीं लोक सभा के निर्वाचन में बोफोर्स की खरीद के विवाद से राजीव गांधी हार गये थे। उच्चतम न्यायालय ने हालांकि पाया कि राफेल जहाज के क्रय में सब सही है।