दुनिया में पांचवे स्थान पर पहुंचा देश का मेट्रो नेटवर्क: हरदीप सिंह पुरी

मेट्रो विस्तार के लिए देश में करीब 1000 किलोमीटर की डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार की जा रही है। जबकि 900 किलोमीटर निर्माणाधीन है। जिसका जल्द ही कार्य पूरा कर लोगों के लिए इस सेवा को शुरू कर दिया जाएगा।

नोएडा: मेट्रो विस्तार के लिए देश में करीब 1000 किलोमीटर की डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार की जा रही है। जबकि 900 किलोमीटर निर्माणाधीन है। जिसका जल्द ही कार्य पूरा कर लोगों के लिए इस सेवा को शुरू कर दिया जाएगा।

उक्त बातें बात इलेक्ट्रानिक सिटी से नोएडा सिटी सेंटर तक सेक्शन के उद्घाटन के समय राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार ) आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय हरदीप सिंह पुरी ने कहीं।

श्री पूरी ने कहा कि ग्लोबल मेट्रो सिस्टम के तहत देश के मेट्रो विस्तार दुनिया में पांचवे नंबर है। जिसे आगे और बढ़ाया जाता रहेगा। उन्होंने कहा कि आज मुझे यह बताते हुए खुशी है कि मेट्रो लोगों की लाइफ लाइन बन चुका है। इसी का नजीता है कि एनसीआर में हरियाणा में 30 किलोमीटर यूपी में 60 किलोमीटर व दिल्ली में 285 किलोमीटर का नेटवर्क बन चुका है।

ये भी पढ़ें…आशुतोष की तस्वीरों में ​देखिए लखनऊ मेट्रो का उदघाटन समारोह

जिस पर मेट्रो अपनी सेवा दे रही है। इससे प्रतिदिन लाखों लोग अपने गंतव्य को सही समय पर प्रदूषण मुक्त सफर कर रहे है। देश में 600 किलोमीटर मेट्रो के रूट पर मेट्रो का संचालन किया जा रहा है। जबकि 900 किलोमीटर निमाणार्धीन है। वहीं, 1000 किलोमीटर की डीपीआर तैयार की जा रही है। जल्द ही नोएडा के इस सेक्शन को अभी और आगे बढ़ाया जाएगा। यह सेवा लगातार लोगों के लिए बढ़ाई जा रही है। मुझे आज भी याद है कि 5 सितंबर 2017 को लखनऊ में मेट्रो की एक छोटी लाइन 8.50 किलोमीटर का उद्घाटन किया गया।

इसके बाद से अब तक कुल 24 किलोमीटर का नेटवर्क लखनऊ में बनाया जा चुका है। ऐसे ही कानपुर, आगरा में  भी  मेट्रो का निर्माण जल्द किया जाएगा। ताकि वहां के लोग भी प्रदूषण मुक्त सफर का आनंद ले सके।

ये भी पढ़ें…इलेक्ट्रानिक सिटी से मोहननगर तक हो सकता है मेट्रो का विस्तार, डेढ़ लाख लोगों को मिलेगा फायदा

उधर आज नोएडा में ही  सेक्टर-32 सिटी सेंटर से सेक्टर-63 इलेक्ट्रॉनिक्स तक ब्लू लाइन मेट्रो विस्तार (6.675 किलोमीटर रूट) का उद्घाटन  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने  किया। उन्होंने ग्रेटर नोएडा में पंडित दीनदयाल उपाध्याय इंस्टीट्यूट एवं आर्किलॉजी के उद्घाटन स्थल से ही हरी झंडी दिखाई। जिसके बाद सेक्टर-63 इलेक्ट्रॉनिक्स सिटी से मेट्रो को रवाना कर दिया गया। शाम चार बजे यह रूट जनता को समर्पित कर दिया गया। जिसमें मुसाफिरों ने बैठकर नोएडा इलेक्ट्रॉनिक्स सिटी से लेकर दिल्ली स्थित सेक्टर-21 द्वारका तक सफर किया। इस नये रूट से इलेक्ट्रॉनिक्स सिटी से सिटी सेंटर तक 12.23 मिनट में दूरी को तय किया गया।

हालांकि इलेक्ट्रॉनिक सिटी सेक्शन में व्यस्त समय के दौरान 5.26 मिनट में मेट्रो सेवा मिली। जिस पर लोगों ने कहा कि सड़क मार्ग के जरिए अभी  तय सिटी सेंटर तक पहुंचने में करीब 40 से 45 मिनट का समय लगता था, आज सिर्फ 12 मिनट में दूरी तय हो गई। इस योजना के शुरू होते ही नोएडा शहर पूरी तरह से मेट्रो नेटवर्क की जद में आ चुका है। ऐसे में अब एनसीआर के किसी अभी शहर में जाना और भी आसान हो गया है।

2009 में दिखाई थी हरी झंडी
मंगू सिंह ने कहा कि 12 नवंबर 2009 में नोएडा सेक्टर-15 से सिटी सेंटर तक के सेक्शन को पूर्व मु यमंत्री मायावती ने हरी झंडी दिखाई दी। ऐसे में इस सेक्शन को इलेक्ट्रानिक सिटी विस्तार दिया गया है। इसका निर्माण •ाी अपने तय समय में पूरा किया गया है। ऐसे में करीब 10 साल बाद यह सेक्शन गाजियाबाद की सीमा तक पहुंच गया। ऐसे में गाजियाबाद के लोगों को •ाी राहत मिलेगी।
नोएडा में सीधे पांच लाख लोगों को मिलेगा फायदा

यह सेक्श्न सेक्टर-34, 52, 22 के आवासीय इलाकों के साथ सेक्टर-59, 61, 62 और सेक्टर-63 इलेक्ट्रानिक सिटी के वाणिज्यिक क्षेत्रों के लिए बहुत फायदेमंद होगा। अंतिम स्टेशन यानी सेक्टर-63 इलेक्ट्रानिक सिटी नोएडा-गाजियाबाद बार्डर पर है। लिहाजा गाजियाबाद के मुसाफिर इस सेवा का लाभ ले सकेंगे।

इसके साथ नोएडा के सेक्टर-61, 62, इलेक्ट्रानिक सिटी में कई कारपोरेट कार्यालय होने के साथ साथ वाणिज्यिक एंक्लेव है। साथ ही सेक्टर-57, 58, 59, 63, 64, 65, 67, 68 औद्योगिक सेक्टर है। यहां पर फेज-3 में 3578 इकाइयों का संचलान हो रहा है। जिसमें प्रतिदिन करीब पांच लाख लोग काम करने आ रहे है। इनको अभी इस रूट के मेट्रो संचालन का बहुत लाभ मिलेगा। इस खंड ने शहर के बड़े अस्पतालों को दिल्ली के बड़े अस्पतालों को भी जोड़ दिया है। यानी यहां सेक्टर-62 में फोर्टिस, सेक्टर-63 में लाइफ केयर अस्पताल है। यह दिल्ली के एम्स, सफदरजंग, गंगाराम जैसे अस्पतालों से जुड़ गए है।

ये भी पढ़ें…
-कमिश्नर ऑफ मेट्रो रेल से टी (सीएमआरएस) ने चार मार्च को रूट का सर्वे किया था।
-छह मार्च को दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) को रूट पर व्यावसायिक मेट्रो संचालन की अनुमति प्रदान की।
-पूरा रूट ब्राड गेज और सेंट्रल वर्ज पर तैयार किया गया है।
-रूट का अलाइनमेंट एनएच-24 के साथ-साथ है।
-सेक्टर-52 और नोएडा इलेक्ट्रॉनिक सिटी स्टेशन पर पार्किंग की सुविधा।
-इस स्टेशन पर एक अतिरिक्त ट्रैक  बनाया गया है, जो निमार्णाधीन नोएडा सेक्टर-63 डिपो से सीधे जुड़ेगा।
-संपत्ति के विकास और पार्किंग के लिहाज से इस स्टेशन पर विशेष प्रबंध किए गए हैं।
-नोएडा इलेक्ट्रॉनिक्स सिटी मेट्रो खंड के खुलने के बाद फेज थ्री का नेटवर्क 152.92 किलोमीटर हुआ।

ब्लू लाइन विस्तार की स्थित
वर्ग सं या
रूट 6.675 किलोमीटर
स्टेशन 06
कुल लागत 1200 करोड़ रुपये

    Tags: