शाहजहांपुर में मनाई जाती है खास होली, सुरक्षा के लिए बनाए गए 150 से ज्यादा सेक्टर मजिस्ट्रेट

लोकसभा चुनाव को लेकर जिला प्रशासन लगातार मीटिंग कर रहा है और अधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी कर रहा है, लेकिन इस लोकसभा चुनाव से पहले होली का त्योहार भी है। इसे लेकर पुलिस प्रशासन पर बड़ी जिम्मेदारी भी है।

शाहजहांपुर: लोकसभा चुनाव को लेकर जिला प्रशासन लगातार मीटिंग कर रहा है और अधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी कर रहा है, लेकिन इस लोकसभा चुनाव से पहले होली का त्योहार भी है। इसे लेकर पुलिस प्रशासन पर बड़ी जिम्मेदारी भी है।

जिला प्रशासन ने लोकसभा चुनाव के लिए 264 सेक्टर मजिस्ट्रेट बनाए हैं, तो वहीं अतिसंवेदनशील होली के पर्व को देखते हुए 150 से ज्यादा त्योहार के लिए सेक्टर मजिस्ट्रेट बनाएं है। जिनको इस मीटिंग मे ट्रेनिंग दी गई है।

दरअसल उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में होली का पर्व अतिसंवेदनशील माना जाता है। जिला प्रशासन का भी यही मानना है। ऐसे में डीएम की अगुवाई में यहां होली के पर्व पर निकलने वाले लाॅट साहब के जुलूस में किसी भी तरह की गड़बड़ी न हो इसलिए प्रशासनिक अधिकारीयों में 150 से ज्यादा सेक्टर मजिस्ट्रेट बनाए हैं जो होली पर्व के दिन निकलने वाले जुलूस में कड़ी नजर रखेंगे।

यह भी पढ़ें…..मुंबई ब्रिज हादसे पर इन नेताओं ने जताया दुःख, बीजेपी प्रवक्ता जमकर हुई ट्रोल

मजिस्ट्रेट को बताया गया है कि इस जिले में होली का पर्व कितना अतिसंवेदनशील होता है। ऐसे में कोई भी सेक्टर मजिस्ट्रेट इसको लेकर बिल्कुल भी लापरवाही न बरते। इस मीटिंग में डीएम अमृत त्रिपाठी, एसपी एस चिनप्पा, एसपी सिटी दिनेश त्रिपाठी समेत सभी पुलिस प्रशासन के अधिकारी मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें…..भारत-नेपाल सीमा पर पुलिस ने पकड़ी 50 लाख की हेरोइन, 2 नेपाली व्यक्ति गिरफ्तार

इसके अलावा इसी मीटिंग में लोकसभा चुनाव के लिए भी सेक्टर मजिस्ट्रेट को बुलाया गया था। चुनाव में ईवीएम की सुरक्षा और ईवीएम का संचालन कैसे किया जाए इसकी जिम्मेदारी के बारे में सेक्टर मजिस्ट्रेट को बुलाया गया था। चुनाव में 264 सेक्टर मजिस्ट्रेट बनाए गए हैं जिनको ईवीएम का संचालन और उसकी सुरक्षा की ट्रेनिंग भी दी गई है।

यह भी पढ़ें…..लोकसभा चुनाव : जानिए फरीदकोट लोकसभा सीट के बारे में, सिर्फ यहां…

डीएम अमृत त्रिपाठी का कहना है कि लोकसभा चुनाव के लिए 264 सेक्टर मजिस्ट्रेट बनाए गए हैं जिनको ईवीएम की सुरक्षा और उसका संचालन कैसे किया जाए। इसकी जिम्मेदारी समझाई गई है। साथ ही उनको ट्रेनिंग भी दी गई है। इसके अलावा चुनाव से पहले होली का त्योहार है जो इस जिले में अतिसंवेदनशील होता है। उसके लिए भी 150 से ज्यादा सेक्टर मजिस्ट्रेट बनाए हैं। उसकी भी जिम्मेदारी से अवगत कराया गया है।