लक्ष्मी-गणेश ही नहीं दीपावली पर इनकी पूजा का भी है विधान, भूलकर भी करना न इन्हें नाराज

hanuman

लखनऊ: नरक चतुर्दशी को छोटी दीवाली कहते हैं। इस बार 29 अक्टूबर को छोटी दिवाली है, लोग इस दिन अपने घर के सभी बेकार चीजों और कबाड़ को घर से बाहर निकालते हैं और अपने घर को साफ करते हैं। मान्यता के अनुसार इस दिन को भगवान हनुमान के जन्मदिन के रूप में भी मनाया जाता हैं।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें हनुमान जी का नरक चतुर्दशी से कैसे जुड़ा है रिश्ता…

hanuman2
दरअसल अलग-अलग भाषाओं में लिखी रामायण के कई अंकों में भगवान राम के भक्त महावीर हनुमान जी का जन्म दीपावली के एक दिन पहले नरक चतुर्दशी बताया गया है। हनुमान जी को रूद्र का ग्याहरवां अवतार माना गया है।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें क्यों करते हैं छोटी दीवाली पर हनुमान का स्मरण…..

bajrang-bali
कार्तिक के कृष्ण चतुर्दशी को पवनपुत्र हनुमान की जयंती मनाई जाती है। इस दिन भगवान अपने भक्तों के ऊपर बहुत जल्द प्रसन्न होते हैं इसलिए इस दिन इनकी  पूजा बड़े ही विधि-विधान से करनी चाहिए।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें क्यों करते हैं छोटी दीवाली पर हनुमान का स्मरण…..

hanumans
कहा हैं कि हनुमान जी को गुस्सा नहीं आता है इसलिए जो लोग बहुत ज्यादा गुस्सा करते हैं उन्हें हनुमान जी की उपासना करने की सलाह दी जाती है। हनुमान जी को बजरंग-बली इसलिए कहते हैं क्योंकि इनका शरीर एक वज्र की तरह मजबूत है।
आगे की स्लाइड्स में ब्रहमचारी थे हनुमान , फिर जानें उनकी पत्नी का नाम….
hanumaji

कुछ पुराणों में उल्लेख है कि भगवान हनुमान जी आजीवन ब्रह्मचारी नहीं थे, उनकी पत्नी का नाम सुवरचला था जो कि सूर्य की पुत्री थी, क्योंकि सुवरचला ने योनी से जन्म नहीं लिया था, इसलिए उनके स्वरूप का वर्णन कहीं नहीं मिलता।