Astro

लखनऊ:  दुर्गा जी का सातवां स्वरूप कालरात्रि है। इनका रंग काला होने के कारण ही इन्हें कालरात्रि कहते हैं। असुरों के राजा रक्तबीज का वध करने के लिए देवी दुर्गा ने अपने तेज से इन्हें उत्पन्न किया था। इनके शरीर का रंग घने अंधकार की तरह एकदम काला है, सिर के बाल बिखरे हुए हैं …

सहारनपुर: देवी दुर्गा के सभी रूपों की पूर्जा अर्चना की जाती है। देश के अलग-अलग भागों में उनके अलग-अलग स्वरुपों का पूजन होता है। सहारनपुर जनपद मुख्यालय से 46 किलोमीटर दूर स्थित देवबंद नगर। यहां  देवी मां के बाला सुंदरी रूप की पूजा की जाती है। कहा जाता है कि मां गौरी (सती) का यहां …

रांची: नवरात्रि के आते ही देश भर के मंदिरों में देवी के भक्तों की भीड़ बढ़ जाती है। लोग दूर-दूर स्थित मां के मंदिरों में दर्शन के जिए जाते हैं। देवी दुर्गा के तमाम रूपों में से एक और रूप है, जिसे छिन्नमस्तिके के नाम से जाना जाता है। छिन्नमस्तिके देवी के नाम से मशहूर …

लखनऊ: चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रत्येक तिथि का धर्मशास्त्रों में  विशेष महत्व है। इसकी प्रतिपदा से चैत नवरात्रि शुरू होती है। इस दौरान  नवरात्रि के साथ रामनवमी होने से महत्व दोगुना हो जाता है। कहा गया है कि त्रेता युग में इसी दिन मर्यादा पुरुषोत्म राम का जन्म हुआ था। रघुकुल शिरोमणि महाराज दशरथ और …

लखनऊ: पं. सागरजी महाराज के अनुसार जानें कैसा रहेगा मगंलवार का दिन। मेष: आज के दिन कार्यक्षेत्र में चीजे बेहतरी की ओर बढ़ सकेंगी, अगर आप आगे बढ़कर उन लोगों से भी दुआ-सलाम करें जो आपको ज्यादा पसंद नहीं करते। वह काम जो आज आप दूसरों के लिए स्वेच्छा से करेंगे, न सिर्फ औरों के …

कानपुर: कानपुर शहर से करीब साठ किलोमीटर दूर घाटमपुर में मां कुष्मांडा देवी का अद्भुत मंदिर है । जहां माता रानी मंदिर में एक पिंड के रूप में लेटी हुई मुद्रा में है। देवी के चौथे अवतार मां कुष्मांडा के पिंड से पानी रिसता रहता है। यहां जल रिसनेे का क्या रहस्य इसका अब तक कुछ पता …

लखनऊ: स्कंदमाता दुर्गा देवी का 5वां रूप है। कहते हैं कि मां के रूप की पूजा करने से मूढ़ भी ज्ञानी हो जाते हैं। स्कंद कुमार कार्तिकेय की मा होने के कारण इन्हें स्कंदमाता के नाम से जाना जाता  है। इनके विग्रह में भगवान स्कंद बालरूप में इनकी गोद में विराजित हैं।  देवी की चार …

लखनऊ: मां दुर्गा के कात्यायिनी रूप को फलदायिनी  भी कहा जाता है। महर्षि कात्यायन के यहां पुत्री के रूप में आश्विन कृष्ण चतुर्दशी को जन्म लेकर माता ने  महिषासुर का वध किया था। इन्होंने शुक्ल सप्तमी, अष्टमी और नवमी तक तीन दिन तक कात्यायन ऋषि की पूजा ग्रहण कर दशमी को महिषासुर का वध किया …

लखनऊ: नवरात्रि में चौथे दिन देवी के रूप कूष्मांडा  की पूजा की जाती है। ब्रह्मांड को जन्म देने के कारण इस देवी को कूष्मांडा कहा जाता है। जब सृष्टि नहीं थी, चारों तरफ अंधकार ही अंधकार था, तब इसी देवी ने अपने हास्य से ब्रह्मांड की रचना की थी। इसीलिए इसे सृष्टि की आदि स्वरूपा …

लखनऊ: सोमवार नवरात्रि का चौथा दिन मां कुष्मांडा की पूजा का दिन है । पं. सागरजी महाराज के अनुसार जानें क्या कहता है राशिफल । मेष:  कुछ लोगों के लिए जल्द ही शादी की शहनाई बज सकती है, जबकि दूसरे जिंदगी में नए रोमांस का अनुभव करेंगे। सहकर्मियों और वरिष्ठों के पूरे सहयोग के चलते …