गुरु हैं नाराज तो खाएं चना दाल,ग्रहों के अनुसार खाने में क्या करें इस्तेमाल

grah

लखनऊ:  ग्रह-नक्षत्रों के प्रभाव का असर हमारे जीवन पर बहुत पड़ता है। प्रभाव शुभ और अशुभ दोनों होते हैं। इनका असर शरीर और मन दोनों पर पड़ता है। शरीर में ग्रहों से संबंधित सभी तत्व मौजूद रहते हैं। ये ग्रह और नक्षत्र उन्हीं तत्वों को प्रभावित करते हैं और ये तत्व हमारे  भोजन से संबंधित होते हैं। मतलब कि जैसा भोजन होगा वैसा ही मन होगा। इसलिए अगर ग्रहों को करना है शांत तो ग्रहों के अनुसार करें भोजन में करें इन चीजोें का इस्तेमाल….
आगे की स्लाइड्स में पढ़ें किस ग्रह में क्या खाएं….
sun-moon
सूर्य
सूर्य के अच्छे प्रभाव के लिए लोगों को अपने आहार में गेहूं, आम, गुड़ आदि को शामिल करना चाहिए।

चन्द्र
चन्द्रमा मन का कारक है अत: चन्द्रमा की अनुकूलता के लिए गन्ना, गन्ना, शकर, दूध और दूध से बने पदार्थ, आइसक्रीम और मिठाइयों को अपने आहार में शामिल करना चाहिए।
आगे की स्लाइड्स में पढ़ें मंगल, बुध और गुरु के लिए कैसे भोजन का करें इस्तेमाल….


budh-guru

 मंगल
आपकी कुंडली में यदि मंगल अशुभ है तो अपने आहार में गुड़, मसूर की दाल, अनार, जौ और शहद का उपयोग कर सकते हैं।

बुध
बुध ग्रह हमारे व्यापार और उद्योग को संचालित करता है। यदि यह कुंडली के नीच भाव में बैठकर अशुभ फल दे रहा है तो मटर, जुवार, कुलपी, हरी दालें, मूंग, हरी सब्जियां आहार को खाएं।

गुरु
यदि गुरु या बृहस्पति ग्रह आपकी कुंडली में अशुभ फल दे रहा है तो चना, चना दाल, बेसन, मक्का, केला, हल्दी, सेंधा नमक, पीली दालें और फलों को अपने भोजन में शामिल करें।
आगे की स्लाइड्स में पढ़ें  शुक्र और  शनि के लिए कैसे भोजन का करें इस्तेमाल….
mulli

शुक्र
शुक्र ग्रह जब नीच का होकर अशुभ फल देने लगे तो त्रिफला, दाल चीनी, कमलगट्टा, मिश्री, मूली और सफेद शलजम का प्रयोग करना चाहिए।

 शनि
शनि ग्रह का अशुभ फल जातक को पीड़ा देता है। इसकी अनुकुलता के लिए भोजन में तिल, उड़द, कालीमिर्च, मूंगफली का तेल, अचार, लौंग, तेजपत्ता तथा काले नमक का उपयोग करना चाहिए। इससे अशुभ प्रभाव शुभ में बदल जाता है।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें  राहु -केतु  और अन्य दिनों के लिए कैसे भोजन का करें इस्तेमाल….
halwa

राहु और केतु
राहु और केतु की पीड़ा से बचने के लिए उड़द, तिल और सरसों को खाना है।

अन्य उपाय
रविवार को चना, सोमवार को खीर अथवा दूध, मंगलवार को चूरमा तथा हलवा, बुधवार को हरी सब्जी, गुरुवार को चने की दाल अथवा बेसन का प्रयोग, शुक्रवार को मीठा दही और शनिवार को उड़द का सेवन करने से सभी ग्रह प्रसन्न रहते हैं।