जब ये दो ग्रह होते हैं आमने-सामने तो जानिए जीवन में पड़ने वाला प्रभाव

जयपुर: शनि और मंगल को एक दूसरे का शत्रु माना जाता है। ज्योतिष में इन ग्रहों का आमने सामने होना अच्छा नहीं माना जाता है। शनि और मंगल का यह योग बहुत ही खतरनाक होता है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार शनि और मंगल का यह दृष्टि संबंध योग 26 नवंबर 2017 तक रहेगा।ज्योतिषियों के अनुसार पिछली बार मंगल कन्या राशि के छठे भाव में आया था। इसके अलावे शनि भी अपने 9 वें भाव में रहते हुए धनु राशि में आया है। इसलिए कन्या और धनु के आमने-सामने होने के कारण घातक संबंध बना है। इस संबंध को ही ज्योतिषियों ने दृष्टि संबंध बताया है। शनि और मंगल का यह विनाशक योग प्रायः सभी राशियों को बुरी तरह प्रभावित करेगा।

यह भी पढ़ें….झाडू से जुडे ये टोटे अगर करते हैं ट्राई, तो घर में धन की बरसात हो जाए
मंगल और शनि का संबध
ज्योतिष में मंगल को अग्नि ग्रह माना गया है। मंगल ग्रह अपने स्वभाव में बहुत हिंसक होता है। इसके अलावे शनि एक क्रूर ग्रह है। जिसे तैलीय चीज बहुत अधिक पसंद है। ज्योतिषियों का मानना है कि कि जब आग और तेल मिलेंगे तो स्थिति तो विध्वंसक होगी ही। इसलिए इन दोनों ग्रहों का किसी भी प्रकार से संबंध बनना व्यक्तिगत जीवन में उत्पात मचाता है।