हाथ की उंगली में पहना ये छल्ला बदलता है किस्मत, रखता है बीमारियों से दूर

जयपुर: चांदी की उत्पति भगवान शिव के नेत्रों से माना गया है। शास्त्रों अनुसार, जहां चांदी होता है वहां वैभव और संपन्नता आती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यह शुक्र और चंद्रमा ग्रह से जुड़ी हुई धातु है। यह शरीर में जल तत्व और कफ को नियंत्रित करता है, इसके अलावा खूबसूरती और सुख-समृद्धि बढ़ाने में भी यह चमत्कारिक रूप से फायदेमंद है।इसलिए चंद्रमा और शुक्र के शुभ योग पाने और इनके नियंत्रण के लिए चांदी का इस्तेमाल किया जाता है। टॉक्सिन्स को शरीर से बाहर निकालने के लिए भी इसका इस्तेमाल होता है। इसके अलावा घर में किसी भी रूप में चांदी का होना नकारात्मक ऊर्जा को दूर कर सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाता है।  जिनमें पानी रखे चांदी के छल्ले का उपाय चमत्कारिक फल देता है।

यह भी पढ़ें….हथेली की ये रेखा बताती है बनेंगे वैज्ञानिक या होंगे शातिर अपराधी!

बाजार से किसी भी डिजाइन में अपनी पसंद का चांदी का एक छ्ल्ला ले आएं। किसी भी गुरुवार की रात इसे पूरी रात के लिए पानी में डालकर रखें। सुबह इसे भगवान विष्णु के चरणों पर रख दें और पूरी विधि-विधान से उनकी पूजा करें। पूजा खत्म होने के बाद छल्ले को चंदन लगाएं, फिर धूप दिखाकर अक्षत चढ़ाएं। यह छल्ला अभिमंत्रित हो चुका है। अब इसे दाहिने हाथ की सबसे छोटी अंगुली यानि कि कनिष्ठा अंगुली में पहन लें। इसके कई फायदे मिलते हैं। सबसे पहले तो चंद्रमा और शुक्र से जुड़ा होने के कारण यह खूबसूरती बढ़ाता है। चेहरे की चमक बढ़ती है और दाग-धब्बे मिट जाते हैं। इसके अलावा यह  मस्तिष्क शांत करता है और अगर बहुत अधिक गुस्सा आता है तो उसे भी नियंत्रित करेगा।

कमजोर चंद्रमा सबसे पहले व्यक्ति की मानसिक क्षमता को कम करता है, चांदी का यह अभिमंत्रित छल्ला चंद्रमा को मजबूत करके आपकी मानसिक क्षमताओं को बढ़ाता है। साथ ही अगर कफ, अर्थराइटिस, जोड़ों या हड्डियों से जुड़ी परेशानियां हों तो यह उसमें भी आपको लाभ पहुंचाता है। सबसे बड़ी बात कि आपको इसका असर बहुत जल्दी दिखता है।जिन लोगों को अंगूठी पहनना पसंद ना हो वे इसी प्रकार से अभिमंत्रित करके चांदी की चेन भी पहन सकते हैं। यह वात, कफ और पित्त तीनों को ही नियंत्रित करता है। इससे आपकी वाक-क्षमता यानि की बोलने की क्षमता में अद्भुत विकास होता है। जिन्हें बोलने में परेशानी होती हो या हकलाहट की समस्या हो उन्हें यह उपाय अवश्य करना चाहिए।

यह भी पढ़ें….इस माह में करते हैं शादी तो जीवनभर रहेगी रोमांस की कमी

अगर यह भी आप ना कर सकें तो चांदी के ग्लास में पानी पीना भी कफ की समस्या दूर कर सकती है। चांदी की कटोरी या चम्मच से शहद खाएं, इससे अगर आपको साइनस की समस्या हो या बार-बार सर्दी-खांसी होती हो, तो वह दूर हो जाएगी। इससे शरीर के विषैले तत्व भी निकल जाते हैं और बार-बार बीमार नहीं पड़ते हैं।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App