पति की उम्र रहेगी लंबी, मांग में सिंदूर लगाने से पहले रखें इन बातों का ख्याल

Published by suman Published: November 11, 2016 | 3:14 pm

sindoor
लखनऊ:
शादीशुदा हिंदू महिलाओं के सिर पर लाल रंग का सिंदूर बहुत फबता है। महिलाओं के लिए सिंदूर, हर गहने से बढ़कर है। औरतों को सिंदूर के अलावा मंगलसूत्र भी उन्हें किसी भी अन्य मूल्यवान वस्तु से अधिक प्रिय है। महंगे से महंगे अभूषण भी उनके लिए मंगलसूत्र के आगे कम हैं। ये मान्यताएं और उनका विश्वास ही है, जो इन चीजों को इतना अधिक महत्व देता है।

लेकिन आपको पता है कि जो सिंदूर महिलाएं लगाती है वो कितनी बारीकी से लगानी चाहिए और उसका महत्व भी है। सुहाग की निशानी सिंदूर का संबंध पति की खुशियों से जुड़ा होता हैं। विवाहित होकर भी सिंदूर ना लगाना अशुभ माना जाता है। सिंदूर उस महिला के लिए रिवाज और मान्यताओं के नाम पर भी जरूरी होता है। सिंदूर लगाते वक्त इन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

 यह भी पढें:  OMG: लड़कियां मेकअप के समय करती हैं ऐसी गलतियां, कहीं आप भी तो नहीं?


sindoor2

*मान्यता के अनुसार यदि पत्नी के मांग के बीचों-बीच सिंदूर लगा हुआ है, तो उसके पति की कभी भी अकाल मृत्यु नहीं हो सकती है। माना जाता है कि यह सिंदूर उसके पति को संकट से बचाता है। एक मान्यता है कि औरत अपने मांग के सिंदूर को बालों में छिपा लेती है, उसका पति समाज में भी छिप जाता है। उसके पति को सम्मान दरकिनार कर देता है। इसलिए यह कहा जाता है कि सिंदूर लंबा और ऐसे लगाएं कि सभी को दिखे।

*एक और मान्यता के अनुसार जो स्त्री बीच मांग में सिंदूर लगाने की बजाय किनारे की तरफ सिंदूर लगाती है, उसका पति उससे किनारा कर लेता है। इन पति-पत्नी के आपसी रिश्तों में मतभेद ही बना रहता है।

 यह भी पढें: सोलह श्रृंगार से धर्म का है मेल, समझ से परे है इसमें विज्ञान का खेल


sindoor3

सिंदूर लगाने के पीछे की कहानी
जो औरत बीच मांग में सिंदूर लगाती है और सिंदूर भी काफी लंबा लगाती है, तो उसके पति की आयु लंबी होती है। इस वजह से सुग्रीव ने बलि से बहुत मार खाई और किसी तरह अपनी जान बचाते हुए वह श्रीराम के पास पहुंचा और यह सवाल किया कि उन्होंने बलि को क्यों नहीं मारा। जिस पर श्रीराम ने कहा कि तुम्हारी और बलि की शक्ल एक सी है, इसलिए मैं भ्रमित हो गया और वार ना कर सका। किंतु यह पूरी सच्चाई नहीं है। क्योंकि भगवान श्रीराम किसी को पहचान ना सकें, ऐसा नहीं हो सकता। उनकी दृष्टि से कोई नहीं बच सकता। असली बात तो यह थी कि जब श्रीराम बलि को मारने ही वाले थे तो उनकी नजर अचानक बलि की पत्नी तारा की मांग पर पड़ी, जो कि सिंदूर से भरी हुई थी। इसलिए उन्होंने सिंदूर का सम्मान करते हुए बलि को तब नहीं मारा। किंतु अगली बार जब उन्होंने यह पाया कि बलि की पत्नी स्नान कर रही है, तो मौका पाते ही उन्होंने बलि को मार गिराया। इसी कहानी के आधार पर यह मान्यता बनी हुई है कि जो पत्नी अपनी मांग में सिंदूर भरती है, उसके पति की आयु लंबी होती है।