मंगल का मिथुन में गोचर, जानिए किसकी बदलेगी किस्मत और क्या पड़ेगा आपकी राशि पर प्रभाव?

Published by May 28, 2017 | 1:45 pm


लखनऊ: ज्योतिष शास्त्र में मंगल को शक्तिशाली ग्रह कहा जाता है। मंगल का स्वभाव बेहद उग्र होता है। यह साहस, आत्म विश्वास, ऊर्जा, क्रोध, अहंकार और युद्ध का कारक है। मंगल का सीधा प्रभाव मनुष्य के स्वभाव और आत्म विश्वास पर पड़ता है। मंगल के शुभ प्रभाव से साहस, वीरता और आत्म विश्वास समेत विभिन्न गुणों में वृद्धि होती है, लेकिन मंगल की अशुभ स्थिति से व्यक्ति की क्षमता व उसका आत्मविश्वास कमज़ोर होता है।

इसके अलावा रक्त जनित रोग भी होते हैं। 27 मई 2017 की रात मंगल मिथुन राशि में गोचर कर चुका है। 11 जुलाई 2017 को दोपहर 15:20 बजे मंगल इस राशि से निकलकर कर्क राशि में प्रवेश करेगा। मंगल के इस गोचर का प्रभाव सभी 12 राशियों पर पड़ेगा। इस राशिफल के ज़रिए जानते हैं मंगल के गोचर का आपकी राशि पर होने वाला प्रभाव।
जानिए मंगल ग्रह के विभिन्न भावों में प्रभाव-


मेष: मंगल ग्रह आपकी राशि से तीसरे भाव में गोचर करेगा। इसके परिणाम स्वरूप आपका साहस एवं संकल्प और भी मजबूत होगा। इस दौरान आप किसी भी चुनौती को सहर्ष स्वीकार करेंगे और अपने कार्य को पूरे जोश और उत्साह के साथ पूर्ण करेंगे। आप अपने विरोधियों को मात देने में सक्षम होंगे। यदि कोर्ट-कचहरी में आपका केस लंबित है, तो उसका फ़ैसला आपके हक़ में आ सकता है। हालांकि घर में भाई-बहन के साथ आपका विवाद हो सकता है। यात्रा पर जाने के भी योग बन रहे हैं। उधर, माता-पिता जी की सेहत में थोड़ी गिरावट देखने को मिल सकती है। कार्य क्षेत्र में आप अच्छा कार्य करेंगे, परंतु आय सामान्य गति से बढ़ेगी।
उपायः प्रतिदिन माथे पर केसरिया तिलक लगाएं।

आगे की स्लाइड में जानिए गोचर का वृषभ राशि पर प्रभाव

 


वृषभ: मंगल आपकी राशि से दूसरे भाव में गोचर करेगा। इसके कारण आप धन का संचय कर सकते हैं। किसी से बोलते समय आपको अपने शब्दों पर ग़ौर करना होगा, अन्यथा किसी को आपकी बात बुरी लग सकती है। बच्चों को लेकर किसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है। जीवन साथी की सेहत में गिरावट संभव है, लेकिन अगर सेहत का ख़्याल पूरी तरह से रखा जाए तो इस समस्या से गुजरना नहीं पड़ेगा। आमदनी में वृद्धि होने की संभावना है। विदेशी संबंधों के चलते आपको लाभ प्राप्त हो सकता है। यदि आप शादीशुदा हैं, तो ससुराल पक्ष से आपकी अनबन संभव है। व्यवसाय में साझेदारी आपके लिए अच्छी साबित हो सकती है।
उपायः तांबे की थाल में चार केले को हनुमान मंदिर में चढ़ाएं।

आगे की स्लाइड में जानिए गोचर का मिथुन राशि पर प्रभाव

 

मिथुन: मंगल ग्रह आपकी राशि से प्रथम भाव में गोचर करेगा। इसलिए मंगल का यह गोचर आपके लिए अधिक प्रभावशाली रहेगा। गोचर की शुरुआत में आपके स्वभाव में क्रोध एवं ज़िद्दीपन देखा जा सकता है। इस दौरान आप वाहन सावधानी पूर्वक चलाएं। वैवाहिक जीवन में थोड़ी कड़वाहट घुलने के आसार हैं, इस बात का ख़्याल रखते हुए जीवन साथी के साथ बहसबाज़ी न करें। वहीं माता जी की सेहत का ख़्याल रखें। किसी तरह के विवाद से भी आपका सामना हो सकता है। आमदनी बढ़ाने पर आपका पूरा ध्यान रहेगा, परंतु मानसिक तनाव भी आपको घेरे रह सकता है।
उपायः प्रतिदिन मां लक्ष्मी की आराधना और मंत्र का पाठ करें।

आगे की स्लाइड में जानिए गोचर का कर्क राशि पर प्रभाव

 


कर्क: मंगल ग्रह आपकी राशि से बारहवे भाव में गोचर करेगा। इस दौरान आपको शारीरिक समस्याएं हो सकती हैं। वे छात्र जो विदेश में अध्ययन करने की इच्छा रखते हैं, परिस्थिति उनके लिए अनुकूल रह सकती है। आपके ख़र्च में वृद्धि संभव है। विरोधियों पर भी आपके दांव भारी पड़ेंगे। जीवन साथी की सेहत में थोड़ी गिरावट हो सकती है। अतः उनका ख़्याल रखें। जीवन साथी के स्वभाव में आक्रमकता देखने को मिल सकती है, हो सकता है कि इस दौरान वे आप पर हावी होने का प्रयास करें। इसके अतिरिक्त रक्त जनित रोग एवं नींद न आने की परेशानी से आप गुज़र सकते हैं।

आगे की स्लाइड में जानिए गोचर का सिंह राशि पर प्रभाव

 


सिंह: इस गोचर के दौरान मंगल आपकी राशि से ग्यारहवे भाव में संचरण करेगा। इसलिए आपकी उन्नति के लिए यह सकारात्मक समय होगा। हालांकि इस दौरान आपको जो भी लाभ प्राप्त होगा, उसमें उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकता है। आप अपनी इच्छाओं को पूरा करने में सक्षम होंगे और शत्रुओं पर आप हावी रहेंगे। कार्यों को पूरा करने में आपको सफलता मिलेगी। हालांकि प्रेम जीवन में कुछ कहासुनी संभव है। इसलिए साथी के साथ किसी तरह की बहस से बचें। लंबी यात्रा आपको सुखद परिणाम दे सकती है। समय आपके लिए अनुकूल है, अतः इसका पूरा लाभ उठाएं। बच्चों को लेकर छोटी-मोटी परेशानी हो सकती है। गोचर के दौरान आप अपनी प्रॉपर्टी को बेचने का विचार कर सकते हैं और इससे आपको मुनाफ़ा भी प्राप्त हो सकता है। उपायः प्रतिदिन महामृत्युंजय मंत्र का जप करें।

आगे की स्लाइड में जानिए गोचर का कन्या राशि पर प्रभाव

 


कन्या: मंगल आपकी राशि से दसवें भाव में गोचर करेगा। ऐसे में आपके करियर में जबरदस्त उछाल आ सकता है। ऑफिस में आपके अधिकार क्षेत्र का दायरा बढ़ेगा। हालांकि ध्यान रखें, कोई शख़्स आपके विरोध में साज़िश रच सकता है। अपने ग़ुस्से पर क़ाबू रखें। माता जी की सेहत में गिरावट आ सकती है। घर में लोगों के बीच आपसी सामंजस्य की कमी देखने को मिलेगी। ऐसे में आपको घर में अपना अधिक समय देना पड़ सकता है। बच्चों का स्वास्थ्य भी प्रभावित हो सकता है। जीवन साथी को आपके ससुराल से कोई प्यारा-सा तोहफ़ा मिलने की संभावना है।
उपायः विष्णु सहस्त्रनम् स्त्रोत का जप करें।

आगे की स्लाइड में जानिए गोचर का तुला राशि पर प्रभाव

 


तुला: मंगल ग्रह आपकी राशि से नौवें भाव में जाएगा। इस दौरान आपकी आय में वृद्धि हो सकती है और आप किसी लंबी दूरी की यात्रा कर सकते हैं। पिताजी के साथ वैचारिक मतभेद होने की संभावना है। समाज में आपका मान-सम्मान बढ़ेगा। जीवन साथी से भी आपको पूरा सहयोग प्राप्त होगा, जिससे आप कामयाबी हासिल कर सकेंगे। जीवन साथी के साथ मधुर संबंध बनाए रखें। ख़र्च थोड़ा बढ़ सकता है। भाई-बहन और मां की सेहत में गिरावट की संभावना है।
उपायः मंगलवार के दिन मसूर की दाल दान में दें।

आगे की स्लाइड में जानिए गोचर का वृश्चिक राशि पर प्रभाव

 


वृश्चिक: मंगल ग्रह आपकी राशि से आठवे भाव में गोचर करेगा। जिसके प्रभाव से आपको कोई शारीरिक पीढ़ा हो सकती है। यह गोचर आपको अप्रत्याशित लाभ भी दे सकता है। इस दौरान आप ख़ुद को ग़ैर-क़ानूनी गतिविधियों से दूर रखें। घर में भाई-बहन से थोड़ी कहासुनी हो सकती है। जीवन साथी के स्वभाव में ग़ुस्सा आपको नज़र आ सकता है, अच्छा होगा कि आप उनसे किसी प्रकार की बहसबाज़ी न करें। आप अपना पुराना उधार चुकता कर सकते हैं। वाहन चलाते वक़्त नियमों का पालन अवश्य करें और विवादों से ख़ुद को दूर रखें।
उपायः देवी-देवताओं की आराधना करें और ध्यान लगाएं।

आगे की स्लाइड में जानिए गोचर का  धनु राशि पर प्रभाव

 


धनु: मंगल आपकी राशि से सातवे भाव में जाएगा। इस दौरान आपके तथा आपके जीवन साथी के स्वभाव में आक्रामकता देखी जा सकती है, जो आप दोनों के रिश्ते को प्रभावित कर सकती है। कार्य क्षेत्र में आपकी पदोन्नति हो सकती है। हालांकि कुछ कारणों से मानसिक तनाव भी संभव है। विदेश में बसने की योजना भी इस दौरान आपके द्वारा बनाई जा सकती है। आर्थिक रूप से यह गोचर आपके लिए अच्छा साबित हो सकता है।
उपायः प्रतिदिन सूर्य को जल का अर्घ्य दें।

आगे की स्लाइड में जानिए गोचर का  मकर राशि पर प्रभाव


मकर: मंगल के गोचर की इस अवधि में यदि आपकी राशि का अवलोकन करें तो, मंगल आपकी राशि से छठे भाव में जाएगा। क़ानूनी मसलों में आपको सफलता मिलने की संभावना है। गोचर के दौरान किसी प्रकार की ग़ैर क़ानूनी गतिविधियों से ख़ुद को अलग रखें। आपके स्वभाव में ग़ुस्सा देखा जा सकता है। वहीं आपके ख़र्चों में वृद्धि की संभवना है। कार्य क्षेत्र में आप बेहतर प्रदर्शन करने का प्रयास करेंगे। हालाँकि आपके पिता को उनके कार्य के दौरान चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। जीवन साथी की सेहत का ख़्याल रखें, उनकी सेहत में गिरावट आ सकती है। यदि आपके पिताजी एवं जीवन साथी किसी क्षेत्र में कार्यरत हैं तो उनका तबादला हो सकता है। बच्चों को गोचर का लाभ मिलेगा, परंतु वे स्वभाव से ज़िद्दी हो सकते हैं। करियर के लिए मंगल का गोचर आपके लिए शुभ संकेत दे रहा है। लंबी यात्रा पर भी जाने के योग हैं।
उपायः श्री गणेश जी की आराधना करें और उन्हें मोदक का भोग लगाएं।

आगे की स्लाइड में जानिए गोचर का कुंभ राशि पर प्रभाव


कुंभ: मंगल आपकी राशि से पांचवे भाव में जाएगा। इसके प्रभाव से आपके प्रेम जीवन में तनाव और विवाद जैसी समस्याएं आ सकती हैं। इस दौरान नौकरी परिवर्तन पर भी आप विचार कर सकते हैं। आमदनी के साथ ख़र्च में भी वृद्धि संभव है। अपनी सेहत का ख़्याल रखें। गोचर आपके जीवन साथी के लिए बेहतर साबित हो सकता है क्योंकि उन्हें इस दौरान किसी तरह का लाभ संभव है। दोस्तों के साथ आप मौज़ मस्ती करेंगे। बच्चों के स्वास्थ्य की देखभाल करें। भाई-बहन के लिए गोचर अच्छा साबित हो सकता है। इस दौरान आप किसी नए शख़्स के साथ रिश्ता क़ायम कर सकते हैं, हालांकि शुरुआत में दोनों के बीच तक़रार देखने को मिल सकती है।
उपायः मंगलवार के दिन गुड़ एवं लाल मसूर की दाल दान करें।

आगे की स्लाइड में जानिए गोचर का मीन राशि पर प्रभाव


मीन: मंगल ग्रह आपकी राशि से चौथे भाव में जाएगा। ऐसे में माता जी की सेहत में थोड़ी गिरावट देखने को मिल सकती है। उनके साथ आपका वैचारिक मतभेद भी संभव है। घरेलू जीवन से आप थोड़े असंतुष्ट दिख सकते हैं। वैवाहिक जीवन में भी शांति का अभाव रह सकता है। जीवन साथी को उनके कार्य क्षेत्र में कोई बड़ी ज़िम्मेदारी मिल सकती है। वहीं आप भी अपने ऑफ़िस में बेहतर प्रदर्शन करेंगे, जिसका आपको लाभ भी प्राप्त होगा। आप वाहन अथवा कोई प्रॉपर्टी ख़रीद सकते हैं। काम के सिलसिले में घर से दूर जाना पड़ सकता है।
उपायः प्रतिदिन हनुमान जी की उपासना करें।