बिहार चुनाव: पहले चरण की 71 सीटों पर RJD के सामने गढ़ बचाने की चुनौती

भाजपा और जदयू के गठबंधन ने 2019 के लोकसभा चुनाव में राजद-कांग्रेस व अन्य सहयोगी दलों के महागठबंधन की पूरी तरह से हवा निकाल दी थी।

Bihar Assembly Election 2020 71 seats in phase-1 challenge for RJD

RJD के सामने गढ़ बचाने की चुनौती (photo Social media)

मनीष श्रीवास्तव

पटना। बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण के जिन 16 जिलों की 71 विधानसभा सीटों पर 28 अक्टूबर को वोटिंग होनी है उसे वैसे तो लालू यादव का गढ़ माना जाता रहा है लेकिन यहां जब-जब भाजपा को जदयू का साथ मिला है तो उसने इस गढ़ को फतेह करने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। वर्ष 2010 के विधानसभा चुनाव में भाजपा और जदयू के गठबंधन ने लालू यादव के इस मजबूत किलें को ध्वस्त कर दिया था। जबकि वर्ष 2015 के चुनाव में नीतीश जब लालू के साथ आ गए तो एक बार फिर यहां लालू का परचम लहराया। लेकिन इसके बाद वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में नीतीश के फिर से राजग के साथ चले जाने से लालू यादव की राजद का तो सूपड़ा ही साफ हो गया।

2010 के विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार की जदयू और भाजपा का गठबंधन

वर्ष 2010 के विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार की जदयू और भाजपा का गठबंधन था तो लालू यादव की राजद और रामविलास पासवान की लोजपा गठबंधन करके चुनाव मैदान में उतरे थे। जबकि कांग्रेस अकेले ही इस चुनाव में उतरी थी। जिसमे जदयू को 115 और भाजपा को 91 सीटों पर जीत मिली थी। इस तरह जदयू-भाजपा गठबंधन ने कुल 243 सीटों में से 206 पर जीत हासिल की थी।

Tejashwi And Nitish

ये भी पढ़ें- बेटियों को रोजगार: लाखों मज़दूर लौटे राज्य, सरकार के सामने बड़ी चुनौती, बना दबाव

 

राजद और लोजपा ने किया था गठबंधन

इस चुनाव में राजद को 22 तथा लोजपा को 03 और कांग्रेस को महज 04 सीटे ही मिली थी। वामदलों की बात करे तो एक सीट के साथ केवल सीपीआई ही विधानसभा में पहुंचने में कामयाब हो पायी थी। इस चुनाव में पहले चरण की 71 सीटों में भाजपा व जदयू गठबंधन 61 सीटों पर अपना परचम फहरानें में कामयाब रही थी। जिसमे भाजपा को 22 तथा जदयू को 39 सीटों पर सफलता मिली थी। जबकि राजद और लोजपा गठबंधन को केवल 06 सीटों से संतोष करना पड़ा था। जिसमे राजद को 05 तथा लोजपा को महज 01 सीट पर कामयाबी हासिल हुई थी। इस चुनाव में कांग्रेस को 01, झारखंड मुक्ति मोर्चा को 01 तथा 02 निर्दलीयों को जीत हासिल हुई थी।

Bihar Assembly Election 2020 71 seats in phase-1 challenge for RJD

2015 में नीतीश कुमार ने छोड़ा BJP का साथ, लालू यादव का थामा दामन

वर्ष 2015 कि बिहार विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार ने भाजपा का साथ छोड़ कर लालू यादव का दामन थाम लिया था। इस चुनाव में लालू और नीतीश की जोड़ी वाले महागठबंध ने भाजपा की अगुवाई वाले राजग का सफाया कर दिया था। इस वर्ष पहले चरण के चुनाव में 71 सीटों में से 27 पर राजद ने तो 18 पर जेडीयू ने कब्जा कर लिया। भाजपा को यहां केवल 13 सीटें ही मिली थी। जबकि कांग्रेस ने 09 सीटों पर जीत दर्ज की थी। इसके अलावा जीतनराम मांझी की हिंदुस्तान आवाम मोर्चा को 01, सीपीआई माले को 01 और एक सीट पर निर्दलीय को जीत मिली थी।

ये भी पढ़ें-यूपी उपचुनाव: सत्ताधारी दल ने उड़ाई आचार संहिता की धज्जियां, जिम्मेदार खामोश

पासवान की लोजपा का खाता भी नहीें खुल पाया

इस चुनाव में पासवान की लोजपा का खाता भी नहीें खुल पाया था। इस वर्ष पहले चरण की इन 71 सीटों पर सबसे ज्यादा 22 यादव समुदाय के प्रत्याशियों को जीत मिली थी। जबकि क्षत्रिय, भूमिहार और कुशवाहा समुदाय के 07-07 प्रत्याशी जीतने में सफल रहे थे। वहीं, 03 सीटों पर कुर्मी और 13 सुरक्षित सीटों पर एससी-एसटी समुदाय के प्रत्याशी जीते थे।

bihar election 2020 Chirag paswan lead LJP after ram vilas paswan death against JDU

2019 के लोकसभा चुनाव में JDU फिर भाजपा के साथ

वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में नीतीश एक बार फिर भाजपा के साथ राजग में शामिल हो गए थे। इस चुनाव में विधानसभा क्षेत्रों के हिसाब से भाजपा को 23 और जदयू को 26 सीटों पर जीत हासिल हुई थी तथा लोजपा को 12 सीटों पर कामयाबी मिली थी। जबकि राजद को 05 सीटों पर, कांग्र्रेस, सीपीआई माले तथा बीएलएसपी को 01-01 सीट पर ही सफलता मिल पायी थी।

ये भी पढ़ें-तेजस्वी पर फेंकी चप्पल: रैली में दो बार हुआ ऐसा, जनसभा में मच गया हड़कंप

JDU-BJP का गठबंधन सब पर भारी

कुल मिला कर भाजपा और जदयू के गठबंधन ने राजद-कांग्रेस व अन्य सहयोगी दलों के महागठबंधन की पूरी तरह से हवा निकाल दी। बिहार की 40 लोकसभा सीटों में से 39 पर राजग का कब्जा हो गया। इस चुनाव में महागठबंधन का जातीय समीकरण पूरी तरह से फेल हो गया तथा मुस्लिम-यादव गठजोड़ का गणित भी पूरी तरह से गड़बड़ा गया।

Bihar Election 2020 BJP-JDU Narendra Modi Nitish join Campaign 12 rallies organised

वर्ष 2015 के विधानसभा चुनाव में लालू और नीतीश ने एक साथ आ कर भले ही भाजपा को परास्त कर दिया हो लेकिन अब समीकरण बदल गए है। नीतीश एक बार फिर राजग के साथ है। इस चरण की आधी से ज्यादा सीटों पर राजग का कब्जा है। ऐसे में तेजस्वी यादव के सामने अपनी सीटों को बचाये रखने की बड़ी चुनौती है।

पहले चरण में इन सीटों पर चुनाव

बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 71 विधानसभा सीटें है, जिनमें कहलगांव, सुल्तानगंज, अमरपुर, धोरैया (एससी), बांका, कटोरिया (एसटी), बेलहर, तारापुर, मुंगेर, जमालपुर, सूर्यगढ़, लखीसराय, शेखपुरा, बरबीघा, मोकामा, बाढ़, मसौढ़ी (एससी), पालीगंज, बिक्रम, संदेश, बराहरा, आरा, अगियांव (एससी), तरारी, जगदीशपुर, शाहपुर, ब्रह्मपुर, बक्सर, डुमरांव, रायपुर (एससी), मोहनिया (एससी), भभुआ, चैनपुर, चेनारी (एससी), सासाराम, करगहर, दिनारा, नोखा, देहरी, कराकट, अरवल, कुर्था, जहानाबाद, घोसी, मखदूमपुर (एससी), गोह, ओबरा, नबी नगर, कुटुम्बा (एससी), औरंगाबाद, रफीगंज, गुरुआ, शेरघाटी, इमामगंज, (एससी), बाराचट्टी (एससी), बोध गया (एससी), गया टाउन, टेकारी, बेलागंज, अतरी, वजीरगंज, राजौली (एससी), हिसुआ, नवादा, गोबिंदपुर, वरसालीगंज, सिकंदरा (एससी), जमुई, झाझा, चकाई शामिल हैं।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App