Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

बिहार चुनाव में पीढ़ियां की टक्कर, इलेक्शन बना नई पीढ़ी बनाम पुरानी पीढ़ी

इस विधानसभा चुनाव में दिग्गज नेता शरद यादव बीमार है, जबकि लालू यादव जेल में है, रामविलास पासवान और रघुवंश प्रसाद सिंह का कुछ दिनों पहले निधन हो चुका है। यही कारण है कि इस बार विधानसभा का चुनाव कुछ बदला बदला सा दिख रहा है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 21 Oct 2020 5:43 AM GMT

बिहार चुनाव में पीढ़ियां की टक्कर, इलेक्शन बना नई पीढ़ी बनाम पुरानी पीढ़ी
X
बिहार चुनाव में पीढ़ियां की टक्कर, इलेक्शन बना नई पीढ़ी बनाम पुरानी पीढ़ी (Photo by social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

श्रीधर अग्निहोत्री

नई दिल्ली: इस बार बिहार विधानसभा का यह ऐसा पहला चुनाव है जिसमें नई पीढी पूरी तरह से सक्रिय होकर चुनाव मैदान में है। इसमें कई तो खुद चुनाव मैदान में न उतरकर प्रचार प्रसार में बढ़चढ़ कर हिस्सा ले रही है। यदि कुछेक नेताओं को छोड़ दिया जाए तो अधिकतर नेताओ के बेटे बेटियां इस चुनाव से अपने राजनीतिक कैरियर का आगाज करने जा रहे हैं। पूरा चुनाव नई पीढ़ी बनाम पुरानी का बन चुका है।

ये भी पढ़ें:कानपुर गोलीकांड के शहीद: स्मृति दिवस इनके बिना अधूरा, सीएम ने किया सम्मानित

इस बार विधानसभा का चुनाव कुछ बदला बदला सा दिख रहा है

इस विधानसभा चुनाव में दिग्गज नेता शरद यादव बीमार है, जबकि लालू यादव जेल में है, रामविलास पासवान और रघुवंश प्रसाद सिंह का कुछ दिनों पहले निधन हो चुका है। यही कारण है कि इस बार विधानसभा का चुनाव कुछ बदला बदला सा दिख रहा है।

कोरोना संक्रमण के बीच हो रहे बिहार विधानसभा चुनाव में बिहार की राजनीति में कई सालों तक अपना दबदबा बनाए रखने वाले लालू प्रसाद यादव की पत्नी राबडी देवी खुद तो सक्रिय नहीं हैं पर उनके दोनो बेटे तेज प्रताप और तेजेस्वी यादव एक बार फिर अपनी राजनीतिक किस्मत आजमाने उतरे है। पिछले 2015 के चुनाव में दोनो भाईयों ने चुनाव जीतकर सत्ता में अपनी भागाीदारी हासिल की थी। लालू यादव की बेटी मीसा भी अपने भाईयों का प्रचार करने में लगी हुई हैं।

लव सिन्हा का राजनीतिक केरियर बनाने में जुटे हुए हैं

नब्बे के दशक में भाजपा में शामिल हुए फिल्म अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा और उनकी पत्नी पूनम सिन्हा पिछला लोकसभा चुनाव हारकर अब अपने बेटे लव सिन्हा का राजनीतिक केरियर बनाने में जुटे हुए हैं। उनके बेटे लव सिन्हा फिल्मों में हाथ आजमा चुके हैं चिराग पासवान की तरह ही फिल्मों से असफल होने के बाद अब राजनीति में हाथ आजमाने उतरे है। वह कांग्रेस के टिकट पर बांकीपुर विधानसभा से चुनाव मैदान में है। फिल्म अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा जल्द ही अपने भाई का चुनाव प्रचार करने आने वाली है।

अध्यक्ष शरद यादव की पुत्री सुभाषिनी यादव ने हाल ही में कांग्रेस ज्वाइन की है

इनके अलावा जनता दल (लोकतांत्रिक) के अध्यक्ष शरद यादव की पुत्री सुभाषिनी यादव ने हाल ही में कांग्रेस ज्वाइन की है। वह भी चुनाव मैदान में है। एक समय केन्द्र सरकार में मंत्री और समता पार्टी के नेता रहे स्व दिग्विजय सिंह की बेटी श्रेयसी सिंह बांका विधानसभा सीट से अपनी किस्मत आजमाने उतरी है। वह पूर्व सांसद पुतुल सिंह की बेटी होने के साथ ही अन्र्तराष्ट्रीय खिलाडी है। उन्हे अर्जुन पुरस्कार भी मिल चुका है।

ये भी पढ़ें:धमाके से हिला शहर: दिवाली के लिए बड़ा बम बना रहे थे छात्र, विस्फोट में चार घायल

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री तथा हम पार्टी के अध्यक्ष जीतन राम मांझी के दामाद इंजीनियर देवेंद्र कुमार मांझी भी मैदान में हैं। जबकि उनके बेटे कुछ माह पूर्व विधान परिषद सदस्य के तौर पर निर्वाचित हो चुके हैं।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story