Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

गंगा से सटे गांवों को गंगा ग्राम बनाया जाएगा: पीएम नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि नमामि गंगे परियोजना के तहत गंगा से सटे गांवों को गंगा ग्राम बनाया जाएगा, साथ ही नाले के जरिए जाने वाले गंदे पानी को रोका जाएगा।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 15 Sep 2020 8:07 AM GMT

गंगा से सटे गांवों को गंगा ग्राम बनाया जाएगा: पीएम नरेंद्र मोदी
X
मिशन अमृत और राज्य सरकार की योजनाओं के तहत बीते 4-5 सालों में बिहार के शहरी क्षेत्र में लाखों परिवारों को पानी की सुविधा से जोड़ा गया है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पटना: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि नमामि गंगे परियोजना के तहत गंगा से सटे गांवों को गंगा ग्राम बनाया जाएगा, साथ ही नाले के जरिए जाने वाले गंदे पानी को रोका जाएगा।

बीते 1 साल में, जल जीवन मिशन के तहत पूरे देश में 2 करोड़ से ज्यादा पानी के कनेक्शन दिए जा चुके हैं। आज देश में हर दिन 1 लाख से ज्यादा घरों को पाइप से पानी के नए कनेक्शन से जोड़ा जा रहा है,स्वच्छ पानी, न सिर्फ जीवन बेहतर बनाता है बल्कि अनेक गंभीर बीमारियों से भी बचाता है।

Namami Ganga नमामि गंगा परियोजना के तहत साफ की गंगा नदी की फोटो (सोशल मीडिया)

ये भी पढ़ेंः छात्रों के लिए एलान: अगले हफ्ते से खुलेंगे स्कूल, केंद्र ने जारी की गाइडलाइंस

राष्ट्रनिर्माण के काम में बिहार का बहुत बड़ा योगदान: पीएम मोदी

ये बातें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को बिहार में नमामि गंगे से जुड़ी कई प्रोजेक्ट्स की शुरुआत के दौरान कही। उन्होंने कहा कि राष्ट्रनिर्माण के इस काम में बहुत बड़ा योगदान बिहार के लोगों का भी है, बिहार तो देश के विकास को नई ऊंचाई देने वाले लाखों इंजीनियर हर साल देता है।

पीएम मोदी ने कहा कि आज जिन चार योजनाओं का उद्धाटन हो रहा है उसमें पटना शहर के बेउर और करमलीचक में सीवर ट्रीटमेंट प्लांट के अलावा अमृत योजना के तहत सीवान और छपरा में पानी से जुड़े प्रोजेक्ट्स भी शामिल है।

उन्होंने विपक्ष पर तंज कसते हुए कहा कि अब केंद्र और बिहार सरकार के संयुक्त प्रयासों से बिहार के शहरों में पीने के पानी और सीवर जैसी मूल सुविधाओं में निरंतर सुधार देखने को मिल रहा है।

मिशन अमृत और राज्य सरकार की योजनाओं के तहत बीते 4-5 सालों में बिहार के शहरी क्षेत्र में लाखों परिवारों को पानी की सुविधा से जोड़ा गया है।

ये भी पढ़ेंः छात्रों के लिए एलान: अगले हफ्ते से खुलेंगे स्कूल, केंद्र ने जारी की गाइडलाइंस

Engineer भारतीय इंजीनियर की फोटो(सोशल मीडिया)

जब शासन पर स्वार्थनीति हावी हो जाती है, वोटबैंक का तंत्र सिस्टम को दबाने लगता है: पीएम मोदी

प्रधानमंत्री यहीं नहीं रके बल्कि आगे कहा कि चाहें सड़कें हो, गलियां हों, पीने का पानी हो, ऐसी अनेक मूल समस्याओं को या तो टाल दिया गया या फिर जब भी इनसे जुड़े काम हुए वो घोटालों में बदल गये गए।

जब शासन पर स्वार्थनीति हावी हो जाती है, वोटबैंक का तंत्र सिस्टम को दबाने लगता है, तो सबसे ज्यादा असर समाज के उस वर्ग को पड़ता है, जो प्रताड़ित है, वंचित है, शोषित है। बिहार के लोगों ने इस दर्द को दशकों तक सहा है।

उन्होंने बिहार के लोगों से कहा कि यहां की धरती तो आविष्कार और इनोवेशन की पर्याय रही है, हमारे भारतीय इंजीनियरों ने हमारे देश के निर्माण में और दुनिया के निर्माण में भी अभूतपूर्व योगदान किया है। चाहे काम को लेकर समर्पण हो, या उनकी बारीक नज़र, भारतीय इंजीनियरों की दुनिया में एक अलग ही पहचान है।

ये भी पढ़ेंः सरकारी कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, इतने प्रतिशत बढ़ी सैलरी, खुशी की लहर

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story