एक अरब का हुआ लोकपाल, जाने कैसे सीतारमण के बही खाते से

सरकार ने मौजूदा वित्त वर्ष के लिये एक फरवरी को पेश किये गए अपने अंतरिम बजट में लोकपाल के लिये वर्ष 2018-19 में निर्धारित 4.29 करोड़ रुपये की राशि में फेरबदल नहीं किया था।

#Budget2019: लोकपाल को मिला 100 करोड़ से ज्यादा का बजट

#Budget2019: लोकपाल को मिला 100 करोड़ से ज्यादा का बजट

नई दिल्ली: देश की पहली महिला वित्त मंत्री ने आज लोकसभा में बजट पेश किया। इस बार भ्रष्टाचार विरोधी लोकपाल को 100 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया गया है, जबकि केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) के लिये वित्त वर्ष 2019-20 में 35.55 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया गया है।

लोकपाल को मिला 100 करोड़ से ज्यादा…

यह भी पढ़ें: बजट 2019 : अगर आपने भी खोल रखा है जनधन खाता तो पढ़ें ये जरुरी खबर

सरकार ने मौजूदा वित्त वर्ष के लिये एक फरवरी को पेश किये गए अपने अंतरिम बजट में लोकपाल के लिये वर्ष 2018-19 में निर्धारित 4.29 करोड़ रुपये की राशि में फेरबदल नहीं किया था।

2019-20 में कुल 101.29 करोड़ की रकम

यह भी पढ़ें: Budget 2019: जानिए बजट में क्या सस्ता और क्या हुआ महंगा

भ्रष्टाचार निरोधक निकाय को इस साल मार्च में अपना अध्यक्ष और सदस्य मिले थे। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा शुक्रवार को पेश किये गए बजट के मुताबिक लोकपाल के लिये 2019-20 में कुल 101.29 करोड़ की रकम निर्धारित की गई है।

सीवीसी को 35.55 करोड़ रुपये की राशि

यह भी पढ़ें: बजट की सौगात : अब सरकारी और प्राइवेट दोनों ट्रेनों पर सवारी होगी मजेदार

यह प्रावधान लोकपाल के लिये स्थापना एवं निर्माण संबंधी व्यय के उद्देश्य से किया गया है। लोकपाल अभी राष्ट्रीय राजधानी के एक पांच सितारा होटल से अपना काम कर रहा है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 23 मार्च को न्यायमूर्ति पिनाकी चंद्र घोष को लोकपाल के अध्यक्ष के तौर पर पद की शपथ दिलाई थी। न्यायमूर्ति घोष ने 27 मार्च को लेकपाल के आठ सदस्यों को पद की शपथ दिलाई थी। वहीं सीवीसी को मौजूदा वित्त वर्ष में 35.55 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की गयी है।

यह भी पढ़ें: बजट 2019: 3 करोड़ से ज्यादा छोटे दुकानदारों को मिलेगी पेंशन, 59 मिनट में मिलेगा लोन