एग्रो, फॉर्मा और बैंक के शेयर्स में भारी गिरावट

केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने जैसे ही बजट को पेश किया, 100 अंकों की तेजी में कारोबार कर रहे शेयर बाजार में मायूसी छा गई और लगभग 200 अंकों के निचले स्तर पर ट्रेंड करने लगा। रियल्टी, ऑइल एंड गैस सेक्टर, फॉर्मा इेडेक्स, फर्टिलाइजर्स, ऑटो सेक्टर, आईटी सेक्टर, बैंकेक्स और मेटल कंपनियों के शेयर्स में भारी गिरावट देखी गई। हालांकि रेलवे शेयर्स में मिलाजुला रुख रहा है।

लखनऊ: केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने जैसे ही बजट को पेश किया, 100 अंकों की तेजी में कारोबार कर रहे शेयर बाजार में मायूसी छा गई और लगभग 200 अंकों के निचले स्तर पर ट्रेंड करने लगा। रियल्टी, ऑइल एंड गैस सेक्टर, फॉर्मा इेडेक्स, फर्टिलाइजर्स, ऑटो सेक्टर, आईटी सेक्टर, बैंकेक्स और मेटल कंपनियों के शेयर्स में भारी गिरावट देखी गई। हालांकि रेलवे शेयर्स में मिलाजुला रुख रहा है।

ये भी देंखे:बजट 2019: 3 करोड़ से ज्यादा छोटे दुकानदारों को मिलेगी पेंशन, 59 मिनट में मिलेगा लोन

रेलवे में पीपीपी, बाजार में शेयर्स फिसले

सप्ताह के आखिरी कारोबार के दौरान, शुक्रवार को केंद्रीय बजट 2019-20 पेश करते हुए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि भारतीय रेलवे यात्री और माल सेवाओं में सार्वजनिक-निजी भागीदारी (पीपीपी) के माध्यम से निजी क्षेत्र की बड़ी भागीदारी की अनुमति देने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि रेलवे के बुनियादी ढांचे को वर्ष 2030 तक 50 लाख करोड़ रुपये के निवेश की जरूरत है। भारतीय रेलवे के विकास के लक्ष्य को सार्वजनिक क्षेत्र अकेले पूरा नहीं कर सकता है, इसके लिए निजी क्षेत्र की बड़ी भागीदारी जरूरी है।

बजट के बाद रेलवे कंपनियों के शेयर्स में मिला-जुला असर देखा गया। कंटेनर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के शेयर्स 0.33 फीसदी, बीईएमएल के शेयर्स 0.22 फीसदी और नेल्को के शेयर्स में 0.17 फीसदी की उछाल दर्ज हुई है, जबक हिंद रेक्टीफायर्स के शेयर्स 1.93 फीसदी, टेक्समैको रेल एंड इंजीनियरिंग के शेयर्स 1.24 फीसदी और टीटागढ़ वैगन्स के शेयर्स 0.24 फीसदी तक लुढ़क गए।

ये भी देंखे:असमंजस वाला बजट, किसी के लिए कुछ भी स्पष्ट नहीं, किसान, महिला और युवा सबको झटका: AAP सांसद संजय सिंह

फर्टिलाइजर्स लुढ़के

बजट को लेकर एग्रो सेक्टर की नजर शेयर बाजार पर बनी हुई थी। जैसे ही वित्तमंत्री ने किसानों को ‘जीरो बजट खेती’ की ओर वापस लौटने की अपील की, कुछ देर के बाद ही शेयर बाजार पर फर्टिलाइजर्स कंपनियों के शेयरों में गिरावट दर्ज होने लगी। राष्ट्रीय उर्वरक, चंबल फर्टिलाइजर्स, मनग्लोरे केमिकल्स, राष्ट्रीय रसायन और उर्वरक, मेष एग्रो, सप्तक केमिकल्स एंड बिजनेस के शेयर्स में एक फीसदी से पांच फीसदी तक की गिरावट दर्ज की गई।

ये भी देंखे:दिल्ली: कड़कड़डूमा में स्वास्थ्य विभाग की इमारत में भीषण आग, मौके पर 22 फायर ब्रिगेड की गाड़ियां

येस बैंक 5.25 फीसदी फिसला

बजट के बाद बैंकेक्स शेयर पर भी असर पड़ा है। सबसे ज्यादा नुकसान येस बैंक को हुआ है। बैंक इंडेक्स पर पंजीकृत 12 बैंकों में से केवल तीन बैंकों के शेयर्स ही 0.26 फीसदी से 1.37 फीसदी की बढ़त बनाने में सफल हुए हैं, जबकि नौ बैंकों के शेयर्स में भारी गिरावट देखी जा रही है। येस बैंक के शेयर्स शुक्रवार को 5.25 फीसदी की भारी गिरावट में चले गए हैं, जबकि आईडीएफसी के शेयर्स 2.44 फीसदी, आरबीएल बैंक के शेयर्स 1.61 फीसदी, पीएनबी के शेयर्स 1.22 फीसदी, फेडरल बैंक के शेयर्स 0.51 फीसदी, बैंक ऑफ बड़ौदा के शेयर्स 0.50 फीसदी, एक्सिस बैंक के शेयर्स 0.38 फीसदी, एचडीएफसी बैंक के शेयर्स 0.38 फीसदी और आईसीआईसीआई बैंक के शेयर्स 0.14 फीसदी की भारी गिरावट में कारोबार कर रहे हैं।

ये भी देंखे:#Budget2019: पैन नहीं होने पर आधार के जरिये आयकर रिटर्न भर सकेंगे करदाता

फॉर्मा की हालत पतली

बजट पेश होने से पहले फॉर्मा कंपनियों के शेयर्स में तेजी देखी जा रही थी। निफ्टी फॉर्मा सूचकांक गुरुवार को 7994.70 अंक पर क्लोज हुआ था। बजट में फॉर्मा कंपनियों को राहत मिलने की आस थी लेकिन फॉर्मा कंपनियों को कोई राहत नहीं मिली, जिससे 8082.70 अंक का हाई बनाने के बाद फॉर्मा इंडेक्स 7989.85 अंक के निचले स्तर तक लुढ़क गया। सन फॉर्मा के शेयर्स में सबसे ज्यादा 2.65 फीसदी की गिरावट दर्ज हुई, जबकि बॉयोकॉन के शेयर्स में 1.67 फीसदी, ल्युपिन के शेयर्स में 1.52 फीसदी, कैडिला के शेयर्स में 1.39 फीसदी, डीवीज लैब के शेयर्स में 0.99 फीसदी, सिप्ला के शेयर्स में 0.25 फीसदी और ग्लेनमार्क के शेयर्स में 0.18 फीसदी की गिरावट देखी गई।