बजट सत्र 2020: मोदी सरकार 2.0 का इकोनॉमिक सर्वे पेश

उम्मीद की जा रही है कि आज के भाषण में राष्ट्रपति ना सिर्फ इस साल के लिए मोदी सरकार का एजेंडा पेश करेंगे। बल्कि 2024 तक मोदी सरकार की भावी योजनाओं की रुपरेखा भी देश के सामने पेश करेंगे। 

बजट सत्र 2020 Live: पेश हुआ इकोनॉमिक सर्वे, GDP ग्रोथ 6 से 6.5 रहने का अनुमान

बजट सत्र 2020 Live: पेश हुआ इकोनॉमिक सर्वे, GDP ग्रोथ 6 से 6.5 रहने का अनुमान

नई दिल्ली: संसद का बजट सत्र आज से शुरु हो रहा है। बजट सत्र आज से शुरू होकर 3 अप्रैल तक चलेगा। इस दौरान एक फरवरी को वित्त वर्ष 2020-21 का आम बजट पेश किया जायेगा। बजट सत्र का पहला चरण 31 जनवरी से 11 फरवरी तक और दूसरा चरण दो मार्च से तीन अप्रैल तक चलेगा। इस दौरान आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद संसद के सेंट्रल हॉल में दोनों सदनों के संयुक्त अधिवेशन को संबोधित किया।

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का दूसरा इकोनॉमिक सर्वे

इस बजट सत्र में शामिल होने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संसद में मौजूद हैं। संसद जाने से पहले मीडिया को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ये सत्र इस दशक का पहला सत्र है। ये सत्र दशक को मजबूत बनाने वाला सत्र हो। यह नरेंद्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का दूसरा इकोनॉमिक सर्वे है। इसमें उन्‍होंने वित्‍त वर्ष 2020-21 के लिए देश की जीडीपी ग्रोथ 6 से 6.5 फीसदी रहने का भरोसा जताया है। बता दें कि फिलहाल वित्‍त वर्ष 2019-20 के लिए देश की जीडीपी ग्रोथ का अनुमान 5 फीसदी है। वहीं, इससे पिछले वित्‍त वर्ष के दौरान 6.8 फीसदी था।

ये भी पढ़ें—बंद हुए बैंक: अब नहीं करा पाएंगे कोई काम, करना होगा इतने दिनों का इंतजार


इस सत्र में आर्थिक विषयों पर चर्चा केंद्रित हो। उन्होंने कहा हमारी सरकार की पहचान दलित, पिछड़े, वंचित और महिलाओं को सशक्त करने की रही है। इस दशक में भी हम इसी दिशा में आगे बढ़ेंगे। दोनों सदनों में आर्थिक विषयों पर बहुत व्यापक चर्चा होनी चाहिए और दिनों दिन ये चर्चा समृद्ध होती रहे।

राष्ट्रपति ने अभिभाषण शुरू किया

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी संसद भवन पहुंच चुके हैं। यहां पीएम मोदी के अलावा, लोकसभा के अध्यक्ष और राज्यसभा के सभापति उनकी अगुवाई किए। राष्ट्रपति ने अभिभाषण दिया। राष्ट्रपति कोविन्द ने अपने अभिभाषण में कहा कि हमारा संविधान, इस संसद से तथा इस सदन में उपस्थित प्रत्येक सदस्य से राष्ट्रहित को सर्वोपरि रखते हुए देशवासियों की आशाओं-आकांक्षाओं की पूर्ति करने और उनके लिए आवश्यक कानून बनाने की अपेक्षा भी रखता है। उन्होंने कहा कि यह दशक भारत के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इस दशक में, हमारी स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होंगे। मेरी सरकार के प्रयासों से पिछले पाँच वर्षों में इस दशक को भारत का दशक और इस सदी को भारत की सदी बनाने की मजबूत नींव रखी जा चुकी है।

ये भी पढ़ें—जामिया में फायरिंग पर जवाब नहीं दे पाएं डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा

विपक्षी दल CAA/ एनआरसी के खिलाफ किया विरोध प्रदर्शन

बताते चलें कि संसद भवन में विपक्षी दल नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। इस प्रदर्शन की अगुवाई कांग्रेस की अंतरिम अध्य़क्षा सोनिया गांधी ने किया। विपक्षी पार्टियों के कई बड़े नेता संसद परिसर में महात्मा गांधी की मूर्ति के सामने हाथों में बैनर लेकर खड़े थे। चूंकि देश के आर्थिकल हालात खराब है लिहाजा सर्वेक्षण में देश के अर्थव्यवस्था की तस्वीर और उसकी चुनौतियों और निदान के बारे में बताया जाएगा।