बिज़नेस

सऊदी अरब की अध्यक्षता में गुरुवार को G-20 देशों की वर्चुअल बैठक हुई। बैठक में कई अहम फैसले लिए गए हैं। दुनिया के 19 देशों और यूरोपीय संघ के लीडर्स की यह बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई।

देश में कोरोना वायरस की वजह से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में लोगों की मदद के लिए कई दिग्गज हस्तियां सामने आ रही हैं। अब देश की नामी बिजनेस संस्था बजाज ग्रुप भी आगे आई है।

दिल्ली में मोहल्ला क्लीनिक के डाक्टर से नौ लोगों को संक्रमण हुआ है। खुली रहेंगी आवश्यक वस्तुओं की दुकानें। दूध सब्जी वालों को पास की जरूरत नहीं। गुजरात में 38 लोगों में कोरोना की पुष्टि। दिल्ली गुरुग्राम सीमा पर बैरीकेडिंग। मुम्बई में लॉक डाउन में सख्ती। लाउडस्पीकर से एनाउंसमेंट। इस महीने रिटायर होने वाले सरकारी कर्मचारियों को मिलेगा एक्सटेंशन। संभल में चामुंडा मंदिर पहली बार नवरात्र में बंद।

कोरोना वायरस के चलते देश में हर तरह के एहतियात बरते जा रहे हैं। जियो ने अपने तरीके से ग्राहकों को सहूलियत देने का प्लान किया है। उसने हाल ही में...

कोरोना संकट की वजह से लोग घरों से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं, कारोबार बंद पड़ा है। कोरोनावायरस की वजह से सरकार ने अगले तीन महीने तक किसी भी बैंक के एटीएम से पैसा निकालने पर कोई चार्ज नहीं लेने का एलान किया है।

आरबीआई ने बैंकिंग तंत्र को मजबूत करने के लिए बड़ा फैसला लिया है। केंद्र बैंक ने बाजार में एक लाख करोड़ रुपये का अतिरिक्त धन छोड़ने की घोषणा की है।

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) ने कोरोना वायरस (कोविड-19) के खिलाफ हमारी सामूहिक लड़ाई में राष्ट्र की सेवा में अपनी ड्यूटी 24 घंटे 7 दिन देने का संकल्प लिया है।

कोरोना के संकट से निपटने को लेकर मोदी सरकार जल्द ही बड़ा एलान कर सकती है। ये घोषणा बेलआउट पैकेज को लेकर होगी। इसके तहत सरकार कोरोनावायरस से बुरी तरह प्रभावित हुए सेक्टरों को राहत पहुंचा सकेगी।

दुनिया भर के शेयर बाजारों पर कोरोना ने कहर बरपाया है। इसकी वजह से ही दुनिया के शेयर बाजार में कोहराम मचा हुआ है। सोमवार को भारतीय शेयर बाजार में भी भारी गिरावट देखी गई।

सरकार की 400 करोड़ रुपये की वित्तीय लागत से चार मेडिकल इक्विपमेंट्स पार्कों में साझा बुनियादी सुविधाओं के वित्त पोषण के लिए मेडिकल इक्विपमेंट्स पार्कों के संवर्धन की योजना है। इसके अलावा 3,420 करोड़ रुपये की वित्तीय लागत से चिकित्सा उपकरणों के स्वदेशी विनिर्माण के संवर्धन के लिए उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन (पीएलआई) योजना भी है।