UP में प्रवासियों की वापसी से गहराया कोरोना संकट, पैदा हुआ यह नया खतरा

देश के विभिन्न प्रदेशों से प्रवासियों की वापसी के बाद सूबे में कोरोना वायरस की रफ्तार में काफी तेजी आई है। पिछले नौ दिनों के दौरान 940 प्रवासी संक्रमित पाए गए हैं। इन प्रवासियों में अधिकांश मुंबई, नासिक, अहमदाबाद,सूरत और दिल्ली आदि महानगरों से लौटे हैं।

लखनऊ: देश के विभिन्न प्रदेशों से प्रवासियों की वापसी के बाद सूबे में कोरोना वायरस की रफ्तार में काफी तेजी आई है। पिछले नौ दिनों के दौरान 940 प्रवासी संक्रमित पाए गए हैं। इन प्रवासियों में अधिकांश मुंबई, नासिक, अहमदाबाद,सूरत और दिल्ली आदि महानगरों से लौटे हैं। बस्ती में 50 प्रवासियों के संक्रमित पाए जाने के एक दिन बाद ही बाराबंकी में भी 95 प्रवासियों के एक साथ संक्रमित मिलने से स्वास्थ्य विभाग के होश उड़ गए हैं। प्रवासियों की वापसी के साथ अब गांवों में भी कोरोना का संक्रमण फैलने का नया खतरा पैदा हो गया है।

पांच हजार से ऊपर मरीजों का आंकड़ा

प्रदेश में बुधवार को कोरोना वायरस से संक्रमिक मरीजों का आंकड़ा 5000 के ऊपर पहुंच गया है। पिछले पांच दिनों के दौरान प्रदेश में 1000 से अधिक लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। 15 मई को कोरोना से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 4057 था तो पांच दिनों के अंदर बुधवार को यह आंकड़ा 5220 पर पहुंच गया। पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना के 294 केस सामने आ चुके हैं। प्रदेश में कोरोना के इन मरीजों में अच्छी-खासी संख्या प्रवासियों की है।

यह भी पढ़ें…UP के इस जिले में फूटा कोरोना बम, एक साथ म‍िले 95 मरीज, प्रशासन में हड़कंप

940 प्रवासी संक्रमित मिले

पूरे प्रदेश में बुधवार को 207 प्रवासी कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। बाराबंकी में 95, गाजीपुर में 18, रामपुर में 10, मऊ में 9 और वाराणसी में 8 प्रवासी संक्रमित मिले हैं। इसके साथ ही मुजफ्फरनगर और पीलीभीत में 8-8 , अंबेडकरनगर में 7 और गोरखपुर, संत कबीरनगर व मैनपुरी में 6-6 प्रवासी संक्रमित पाए गए हैं। बीते 9 दिनों के दौरान कोरोना से संक्रमित प्रवासियों की संख्या बढ़कर 940 तक पहुंच गई है।

पूर्वांचल में भी कोरोना की रफ्तार तेज

जहां तक पूर्वांचल का सवाल है तो वाराणसी और आजमगढ़ मंडल में बुधवार को जो 39 लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं उनमें से 37 प्रवासी हैं। इनमें सबसे ज्यादा संक्रमित 18 मरीज गाजीपुर में मिले हैं। ये सभी दिल्ली, गुजरात और महाराष्ट्र से 8 से 14 मई के दौरान घर वापस लौटे थे। इसके साथ ही गाजीपुर में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या 60 हो गई है। मऊ में एक ही परिवार के चार समेत नौ प्रवासी संक्रमित मिले हैं। इनमें से आठ मुंबई और एक दिल्ली से लौटा था।

यह भी पढ़ें…चमगादड़ों से इंसानों तक सीधे नहीं पहुंचा वायरस, वैज्ञानिकों को बीच कड़ी की तलाश

कई जिलों में सभी संक्रमित प्रवासी

चंदौली में जो 3 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं वे तीनों प्रवासी हैं। इनमें से 2 लोग मुंबई से और एक गुजरात से लौटा था। बलिया में अभी तक कोरोना के 13 केस सामने आए हैं और वे सभी प्रवासी हैं। इसी तरह सोनभद्र में भी जो तीन केस मिले हैं वे सभी प्रवासी हैं। भदोही में अभी तक मिले आठों मरीज प्रवासी हैं। मऊ में अभी तक कोरोना के 13 केस सामने आए हैं और ये सभी प्रवासी हैं। इससे समझा जा सकता है कि प्रवासियों के लौटने के बाद पूर्वांचल में कोरोना की रफ्तार में कितनी तेजी आई है।

प्रवासियों के जरिए गांवों में संक्रमण नहीं

प्रदेश शासन के लिए राहत की बात यह है कि अभी इन प्रवासियों के जरिए गांव में संक्रमण नहीं फैला है। अभी तक जितने भी मामले सामने आए हैं, वे सभी खुद ही संक्रमित होकर विभिन्न राज्यों से प्रदेश में पहुंचे हैं। प्रवासियों के जरिए गांव में संक्रमण का मामला नहीं पाया गया है। प्रदेश शासन की ओर से गांव की निगरानी कमेटियों को सतर्क किया गया है और प्रवासियों को क्वारंटीन किए जाने का निर्देश दिया गया है।

यह भी पढ़ें…फिर पांच हजार से ज्यादा आए कोरोना केस, लेकिन रिकवरी रेट ने दी राहत

पांच लाख से ज्यादा प्रवासियों की स्क्रीनिंग

इस बीच प्रदेश के प्रमुख सचिव चिकित्सा व स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि दूसरे राज्यों से लौट रहे प्रवासियों की निगरानी के काम में तेजी लाई गई है। उन्होंने बताया कि अभी तक पांच लाख से ज्यादा प्रवासियों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि शासन इन प्रवासियों के जरिए संक्रमण की रफ्तार रोकने की कोशिश में जुटा हुआ है ।