हत्यारे मौलाना साद के गुनाहों की दास्तां सुनकर आप के होश उड़ जाएंगे

मौलाना साद पर देशभर में कोरोना फैलाने का तो आरोप है ही साथ ही देवबंदी उलमा भी इसके खिलाफ फतवा जारी कर चुके हैं। वर्तमान में मौलाना साद व उसके पांच सहयोगी फरार हैं। तब्लीगी जमात पर कई मुस्लिम मुल्कों में प्रतिबंध लगा हुआ है। आतंकवादियों से भी जमात के रिश्तों की बात सामने आती रही है।

तब्लीगी जमात के मौलाना साद के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का केस दर्जे किया गया है। अपराध शाखा ने मौलाना मोहम्मद साद के खिलाफ पुख्ता सबूत जुटाने के बाद ही कार्रवाई की है। पहले भी यह कहा गया था कि सबूत मिलने के बाद ही साद के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। साद का क्वारंटीन समय खत्म हो चुका है।

मौलाना साद शब-ए-बारात से लेकर हर वह चीज मरकज के फेसबुक अकाउंट पर पोस्ट कराता रहा है, जिसमें उसे साजिश के तहत फंसाने की बात कही जा रही है। अलामी अमीर हजरतजी मौलाना साद साहब के नाम से यह अकाउंट चल रहा है।

इसे भी पढ़ें

बुरा फंसी ये अदाकारा: कोरोना की वजह से हुआ ऐसा, दूसरी शादी भी टालनी पड़ी

अमेरिका में हाहाकार: कोरोना ने मचाया तांडव, पिछले 24 घंटों में इतनी ज्यादा मौतें

कोरोना वायरस के खतरे और लॉकडाउन के बाद भी निजामुद्दीन मरकज में जमातियों का जमावड़ा लगाने वाले मौलाना साद से पुलिस लगातार कागजी कार्रवाई के जरिए सवालों का जवाब मांगती रही है, लेकिन मौलाना मरकज के नाम से सोशल मीडिया पर बने अकाउंट पर खुद को निर्दोष साबित करने में जुटा रहा है।

खुद को शातिर मान रहे मौलाना साद ने अपने अकाउंट से एक जनवरी 2020 से 30 मार्च 2020 तक के सभी पोस्ट हटा दिए हैं। जबकि खुद को पाक साफ साबित करने के लिए 2018-19 के पोस्टों को शेयर करवा कर वह मुहिम छेड़ रहा है।

साद के साथ कई मौलानाओं की भी तलाश

अपराध शाखा को मरकज के दफ्तर से पांच प्रिंटर मिले थे। इसके चलते यह माना जा रहा है कि जब प्रिंटर हैं तो कम्प्यूटर भी रहे होंगे। इन्हीं कंप्यूटरों में कुछ ऐसा है जिसे साद नहीं चाहता कि सामने आए। इसलिए अब सारा जोर कंम्प्यूटरों की तलाश पर है। मरकज के स्टाफ और मौलानाओं का कहना है कि इन कंप्यूटरों के बारे में मौलाना साद को जानकारी है।

इसे भी पढ़ें

गुजरात: बुधवार को कोरोना के 56 नए मामले, कुल 695 मरीज, अब तक 30 की मौत

उत्तर प्रदेश में कोरोना से अब तक 11 लोगों ने गंवाई जान, 715 लोग हुए संक्रमित

जानकारी मिली है कि अब क्राइम ब्रांच मौलाना साद की गिरफ्तारी की पूरी तैयारी कर चुकी है और किसी भी समय मौलाना साद को गिरफ्तार किया जा सकता है। लेकिन मौलाना साद को अकेले गिरफ्तार किया जाएगा या कुछ और लोग भी हैं इस कतार में, इस संबंध में जानकारों का कहना है कि क्राइम ब्रांच के रडार पर पांच छह मौलाना भी हैं। इन्हें भी गिरफ्तार किया जाना है।

मौलाना साद पर देशभर में कोरोना फैलाने का तो आरोप है ही साथ ही देवबंदी उलमा भी इसके खिलाफ फतवा जारी कर चुके हैं। वर्तमान में मौलाना साद व उसके पांच सहयोगी फरार हैं। तब्लीगी जमात पर कई मुस्लिम मुल्कों में प्रतिबंध लगा हुआ है। आतंकवादियों से भी जमात के रिश्तों की बात सामने आती रही है।