जानें किस बात पर क्रिकेटर रोहित शर्मा ने कहा ‘अब नहीं करूंगा तो कब करूंगा’

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ लक्ष्य का पीछा करते हुए रोहित शर्मा ने नाबाद 122 रन की पारी खेली थी और कप्तान विराट कोहली ने इसे उनकी सर्वश्रेष्ठ वनडे पारी करार दिया था। भारतीय उप कप्तान रोहित ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि मैं अब 200 के करीब मैच खेल चुका हूं। अगर मैं अब नहीं करूंगा तो कब करूंगा। ’’

Published by PTI Published: June 8, 2019 | 10:21 pm
Modified: June 8, 2019 | 10:27 pm

file photo

लंदन: इस अनुभवी खिलाड़ी ने अब तक 207 मैच खेल लिये हैं। रोहित शर्मा के लिये दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ लगाया गया शतक कोई बड़ी पारी नहीं था लेकिन टीम को लक्ष्य तक पहुंचाने से उन्हें काफी खुशी मिलती है और उनका कहना है कि वह भारत के लिये लगातार यह सब करने के लिये अब काफी अनुभवी हो गये हैं।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ लक्ष्य का पीछा करते हुए रोहित शर्मा ने नाबाद 122 रन की पारी खेली थी और कप्तान विराट कोहली ने इसे उनकी सर्वश्रेष्ठ वनडे पारी करार दिया था। भारतीय उप कप्तान रोहित ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि मैं अब 200 के करीब मैच खेल चुका हूं। अगर मैं अब नहीं करूंगा तो कब करूंगा। ’’

ये भी देखें : ऐसा व्यक्ति होता है कला प्रेमी,इसके मित्रों की संख्या होती है अधिक

उन्होंने कहा, ‘‘अनुभव आपको काफी चीजें सिखाता है। यह अब मेरे खेल में दिखता है। क्योंकि आप अपनी टीम के लिये पारी शुरू करते हो, आप सुनिश्चित करना चाहते हो कि आप पारी को भी खत्म करो। इससे आपको संतोष मिलता है। ’’

रोहित के नाम अब 23 वनडे शतक हो गये हैं। उन्होंने कहा, ‘‘जब मैंने यह पहले मैच में किया तो उससे जो संतोष मिलता है वो शतक जड़ने से कहीं ज्यादा होता है। ’’

वनडे में वह उस शीर्ष तीन शतक जड़ने वाली एलीट सूची में शामिल हो चुके हैं जिसमें सचिन तेंदुलकर, विराट कोहली और रोहित शर्मा शामिल हैं तो रोहित ने कहा कि वह इन उपलब्धियों को सहर्ष स्वीकार करेंगे लेकिन टीम की जीत में अहम भूमिका निभाना उनके लिये हमेशा मुख्य लक्ष्य रहा है।

ये भी देखें : अब चलती ट्रेन में ले सकेंगे मालिश का मजा, जल्द ही इस रूट पर दी जायेगी सुविधा

रोहित ने कहा, ‘‘व्यक्तिगत रूप से मैं इन सब पर ध्यान नहीं देता। यात्रा जारी रहेगी और ये उपलब्धियां आती रहेंगी। मैं सिर्फ यह सुनिश्चित करना चाहता हूं कि जितने भी मैचों में मैं खेलूं, उनमें अपनी टीम को ज्यादा से ज्यादा मैच में जीत दिलाऊं। यह बल्लेबाज के तौर पर मेरा एकमात्र काम है। हां, साथ ही आपके नाम उपलब्धियां भी जुड़ती रहती हैं। ’’

 

(भाषा)