Top

दो मंजिल ऊंची छत पर कर रहे थे काम, अचानक गिरी शटरिंग और हो गया हादसा

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 22 Sep 2018 9:29 AM GMT

दो मंजिल ऊंची छत पर कर रहे थे काम, अचानक गिरी शटरिंग और हो गया हादसा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हरदोई: जिले के कोतवाली शहर क्षेत्र में शनिवार को लापरवाही के चलते हादसा हो गया। इस हादसे में जहां दो मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गए। वहीं निर्माणाधीन साइट पर मौजूद मिस्‍त्री की मौत हो गई। प्रत्‍यक्षदर्शियों के मुताबिक शटरिंग बांधते वक़्त लापरवाही के चलते शटरिंग के नीचे का मैटेरियल खिसक गया। इस घटना में दो मजदूर घायल हो गए और एक मिस्त्री की जान चली गई। जान हथेली पर रखकर चंद पैसों की खातिर करीब दो मंजिल की ऊंचाई छज्‍जा बांध रहे कर्मचारियों के साथ यह भयानक हादसा हो गया।

दो मंजिल से नीचे आ गिरे मजदूर

हरदोई जिले के कोतवाली शहर क्षेत्र के झब्बापुरवा में निर्माणाधीन घर मे काम कर रहे एक मिस्त्री रामोतार 40 वर्ष की दर्दनाक मौत हो गयी और दो मजदूर सुरेश कुमार 30 वर्ष और कमलेश उर्फ कल्लू 28 वर्ष गंभीर रूप से घायल हो गए। बता दें कि छज्जा बनाये जाने के लिए शटरिंग को बांधा जा रहा था। शटरिंग बांधने के बाद मिस्त्री और दो मजदूर छज्जे की शटरिंग के ऊपर बैठ कर मरम्मत कार्य को पूरा ही कर रहे थे कि अचानक छज्जे की शटरिंग के नीचे का मैटेरियल खिसक गया और करीब दो मंजिल की ऊंचाई पर बन रहे छज्जे की पूरी शटरिंग नीचे आ गिरी। इसके साथ मे उसके ऊपर बैठे मिस्त्री और लेबर भी नीचे गिर गए। जिसमें मिस्त्री की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गयी और मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों का जिला अस्पताल में इलाज़ जारी है।

किस्‍मत से बची दो मजदूरों की जान

खतरों का सामना करके ये मजदूर और मिस्त्री काम करते हैं और अपनी मौत को दावत देते हैं। बता दें कि निर्माणाधीन घर में जहां छज्जे की शटरिंग को बंधा जा रहा था। उसके नीचे 11 हज़ार के वी की लाइन गयी हुई है। गनीमत ये रही कि बाकी दो मजदूर बच गए क्योंकि शटरिंग इन तारों से हट कर गिरी।

वहीं मिस्त्री रामोतार के परिजनों को घटना की खबर मिलते ही पूरे परिवार में मातम छा गया। मृतक अपने परिवार का भरण पोषण करने वाला अकेला व्यक्ति था। अब रामोतार के बीवी बच्चों की देख रेख करने वाला कोई नहीं रहा। वहीं मामले की पूरी जानकारी से एक मजदूर ने अवगत कराया और जानकारी दी कि इस घर के निर्माण कार्य में करीब 15 लोग काम कर रहे थे।

सीओ सिटी हरदोई विजय कुमार राणा ने बताया कि इस घटना में अभी किसी भी प्रकार की कोई सूचना प्राप्त नहीं हुई है। अगर किसी लापरवाही की शिकायत प्राप्त होगी तो मामले की जांच कर कार्यवाही की जाएगी।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story