Top

परीक्षा देने के लिए बनाया अंगूठे का Clone, इस गलती से धरा गया ‘साल्‍वर’

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 12 Nov 2017 11:47 AM GMT

परीक्षा देने के लिए बनाया अंगूठे का Clone, इस गलती से धरा गया ‘साल्‍वर’
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : प्रतियोगी परीक्षाओं में बायोमेट्रिक तकनीक को धता बताता आ रहा एक साल्‍वर रविवार को यहां धर दबोचा गया।इस बार उसके पकड़ में आने की वजह अंगूठे का गलत क्‍लोन बनाना रहा। यह वाकया हाईकोर्ट के 4386 ग्रुप सी और डी के पदों पर भर्ती परीक्षा के दौरान यहां हुआ।

स्‍कूल के गेट पर धरा गया साल्‍वर

पारा थनाध्‍यक्ष अजय कुमार त्रिपाठी ने बताया पारा स्थित मानवता इंटर कालेज में यह घटना उस समय हुई जब साल्‍वर अजीत कुमार पुत्र रामदास निवासी मकरन, नेवादा ने बायोमैट्रिक के जरिए ओरिजनल कैंडीडेट अमरदीप सिंह की अटेंडेंस लगानी चाही। बायोमैट्रिक मशीन में अटेंडेंस लगाने के लिए जैसे ही उसने अपना अंगूठा लगाया वैसे ही मशीन फिंगर प्रिंट रीड करने की जगह बीप की आवाज करने लगी। जिसका मतलब यह है कि थंब इंप्रेशन ओरिजनल नहीं है। बीप की आवाज करते ही केंद्र अधीक्षक ने साल्‍वर को धर दबोचा। उसके अंगूठे की पड़ताल की गई तो यह पता चला कि उसने कंप्‍यूटर के मार्फत अंगूठे का क्‍लोन तैयार करने की तकनीक सीखी और फिर अपने दोस्‍त की मदद से एडहेसिव से ओरिजनल कैंडीडेट के अंगूठे का क्‍लोन तैयार करके अपने अंगूठे पर चढ़ा लिया था। क्‍लोन अंगूठे पर ठीक से सेट नहीं हो पाया था। नतीजतन वह धरा गया। इसके बाद परीक्षा केंद्र अधीक्षक ने पुलिस बुलाकर उसे गिरफ्तार करवा दिया। पुलिस ने इस मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया है, आरोपी से पूछताछ जारी है। हाल ही में इलाहाबाद में इसी परीक्षा में सेंध लगाने की तैयारी कर रहा एक गिरोह पकड़ा गया था। यह छानबीन की जा रही है कि कहीं इसका उससे कोई संबंध तो नहीं है।

4386 पदों के लिए थी परीक्षा

इस परीक्षा में हाईकोर्ट में जूनियर असिस्‍टेंट, क्‍लर्क और चपरासी सहित 4386 पदों के लिए लिखित परीक्षा चल रही थी।इस परीक्षा में करीब 50 हजार कैंडीडेट परीक्षा दे रहे थे।

इलाहाबाद से 2 दिन पहले हुई थी बड़ी गिरफ्तारी

इस परीक्षा के आयोजन से दो दिन पहले ही राजधानी से 250 किलोमीटर दूर इलाहाबाद में इसी परीक्षा में पास कराने का ठेका लेने वाले एक बड़े गिरोह का भंडाफोड़ हुआ था। इसमें एसटीएफ ने चार सदस्‍यीय गैंग को अरेस्‍ट करके उनके पास से 38 हजार कैश, 45 ब्‍लूटुथ डिवाइस, 30 डिवाइस स्‍टीकर, 11 मोबाइल, 10 नए सिमकार्ड और 18 बैंकों के साइन किए चेक बरामद किए थे। यह पूरा गैंग इसी परीक्षा में सेंधमारी के लिए कैंडीडेट को डिवाइस ट्रेनिंग देने के लिए इकटठा हुआ था।जिसे मुखबिर की सूचना के बाद अरेस्‍ट किया गया था।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story