Top

पंचायत के तुगलकी फरमान के बाद होता रहा इंसानियत का कत्ल, सोती रही पुलिस

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 28 Oct 2017 5:12 PM GMT

पंचायत के तुगलकी फरमान के बाद होता रहा इंसानियत का कत्ल, सोती रही पुलिस
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बिजनौर : यूपी के बिजनौर में एक युवक के प्यार की सजा उसके साथ परिवार को भी भोगनी पड़ी। पंचायत ने पहले तो पूरे परिवार की जमकर पिटाई की। बाद में जूते की माला पहनाकर प्रेमी को पूरे गांव में घुमाया। इसके साथ ही पंचायत ने परिवार को गांव छोड़ने का फरमान सुना डाला। मिली जानकारी के मुताबिक ये तांडव घंटों चलता रहा। लेकिन चुस्त दुरुस्त होने का दम भरने वाली पुलिस कहीं नजर नहीं आई।

ये है पूरा मामला

बिजनौर के बढ़ापुर थाना क्षेत्र के इस्लामपुर में एक पंचायत ने तुगलकी फरमान सुना सजा भी दे डाली। पुश्तों से कमाई इज्जत सिर्फ तीन घंटों में नीलाम कर दी गई। लेकिन कानून के पहरेदारों को भनक भी नहीं लगी। पीड़ित परिवार 2 घंटे तक रहम की भीख मांगता रहा। लेकिन किसी का दिल नहीं पसीजा। युवक और उसके परिवार के तीन सदस्यों के गले में जूतों का हार डालकर घुमाया गया। जानवरों की तरह पीटा गया। युवक को पीपल के पेड़ पर 1 घंटे उल्टा लटका दिया गया। 3 घंटे तक इन वहशी इंसानों ने इंसानियत का कत्ल किया लेकिन कोई बचाने नहीं आया।

आरोप है कि पीड़ित परिवार ने जब थाने में आपबीती सुनाई तो पुलिस ने रसूखदारों के दबाव में कोई कार्यवाही करना उचित नहीं समझा। लेकिन मीडिया में मामला आने पर सोई पुलिस जागी और आननफानन में 7 के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story