Top

वेस्ट यूपी में एनकाउंटर का सिलसिला जारी, तीन बदमाश गिरफ्तार

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 13 Jan 2018 5:10 PM GMT

वेस्ट यूपी में एनकाउंटर का सिलसिला जारी, तीन बदमाश गिरफ्तार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा : नोएडा टू इलाके में शनिवार देर शाम को पुलिस व बदमाशों के बीच मुठभेड़ हुई। इनमें बाइक सवार दो बदमाशों के पैर में गोली लग गई। मुठभेड़ के दौरान पुलिस ने तीनों बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है। घायल बदमाशों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दोनों बदमाश खतरे से बाहर हैं। तीसरे गिरफ्तार बदमाश से पुलिस की टीम पूछताछ कर रही है। गिरफ्तार बदमाशों ने चार दिन पहले फेज टू के एक उद्यमी की कार पर फायरिंग की थी और अगले दिन दो करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी थी।

शनिवार देर शाम को फेज टू कोतवाली के प्रभारी शावेज खान सेक्टर-80 के पास चेकिंग कर रहे थे। तभी बाइक सवार तीन युवकों को रूकने का इशारा किया। इस पर बाइक सवार बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी। इसके बाद पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए कई राउंड फायर किए। इसमें बाइक सवार दो बदमाशों गढ़ी चौखंडी निवासी आजाद व विकास को गोली लग गई। और संजू बाल बाल बच गया। संजू से पुलिस पूछताछ कर रही है। इन बदमाशों ने फेज टू के एक फैक्ट्री मालिक उमेश विग की कार पर सोमवार रात फायरिंग कर दी थी। उस वक्त कार में उनकी बेटी भी थी। मंगलवार को एक बदमाश ने उद्यमी को फोन किया था और कहा था कि उसने ही रात में उसकी कार पर फायरिंग की है। उसने उद्यमी की बेटी का भी नाम बताया था। फिर बदमाशों ने उनसे दो करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी थी। इसके बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया था।

ये भी देखें :योगी राज ! कैबिनेट मंत्री लक्ष्मी नारायण के समधी को मारी गोली, मौत

बागपत के रहने वाले हैं तीनों आरोपी

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार आजाद, विकास व संजू तीनों बागपत के रहने वाले हैं। आजाद व विकास दोस्त हैं और संजू विकास का जीजा है। दोनों दोस्त संजू के गढ़ी चौखंडी स्थित घर में बीच बीच में आते हैं। इन तीनों ने ही उमेश बिज से रंगदारी मांगी थी।

उद्यमी का चालक है मास्टर माइंड

दो करोड़ की रंगदारी मांगने के मामले में उद्यमी उमेश विग का चालक अरविंद मास्टर माइंड है। अभी वह फरार चल रहा है। पुलिस की दो टीमें उसकी गिरफ्तारी के लिए दबिश दे रही है। गिरफ्तार बदमाश आजाद की अरविंद से दोस्ती है। अरविंद ने ही मुखबिरी कर उससे रंगदारी मांगने की प्लानिंग की। घटना से पहले आजाद, विकास संजू ने मिलकर मोबाइल लूटा था। उस मोबाइल से ही रंगदारी मांगी गई थी। घटना की रात अरविंद उद्यमी की मुखबिरी कर रहा था। संजू फैक्ट्री की गेट पर खड़ा था। आजाद व विकास फैक्ट्री से कुछ दूर आगे था। जब उद्यमी अपनी बेटी व चालक के साथ फैक्ट्री से निकनेल तो उसने संजू को बताया। संजू ने आजाद व विकास से संपर्क किया और फिर उनकी कार पर फायरिंग हुई थी।

अरुण कुमार सिंह, एसपी सिटी कहते हैं पुलिस मुठभेड़ में दो करोड़ की रंगदारी मांगने वाले तीन बदमाशों को गिरफ्तार किया है। दो बदमाशों को गोली लगी है और दोनों खतरे से बाहर हैं। इन बदमाशों ने पुलिस चेकिंग के दौरान पुलिस टीम पर फायरिंग की तो पुलिस ने जवाबी कार्रवाई करते हुए बचाव में गोली चलाई। तीनों बदमाशों के आपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story