Top

कुख्यात साबिर को पुलिस ने मार गिराया, अब निशाने पर परिवार !

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 5 Jan 2018 1:49 PM GMT

कुख्यात साबिर को पुलिस ने मार गिराया, अब निशाने पर परिवार !
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

शामली : माना जाता है कि जो अपराधी है, सिर्फ उसे सजा दी जाए। उसके परिजनों ने यदि उसके अपराध में कोई हिस्सेदारी नहीं की तो उन्हें परेशान न किया जाए। लेकिन यूपी पुलिस पर आरोप लग रहे हैं कि उसने ऐसा ही किया और परिजन अब दहशत में जीने को मजबूर हैं।

मामला कैराना क्षेत्र का है। जहां पुलिस मुठभेड में बदमाश साबिर ढेर हुआ था। साबिर के घर वालो का आरोप है कि दो दिन से लगातार पुलिस आकर उन्हे परेशान कर रही है। पुलिसकर्मी ने पिटाई भी की और घर के कई सदस्यो को उठाकर ले गए। परिजनों के मुताबिक मुठभेड़ का उन्हें पता ही नहीं चला। बस गोलियों की आवाज आई थी। और चिल्लाकर कह रहें थे कि अंकित को गोली लग गई है।

ये भी देखें :पत्नी की हत्या कर पार्क में झूल गया फांसी के फंदे पर, दहेज हत्या या कुछ और !

आपको बता दें, जंधेडी गांव में 2 जनवरी की रात को पुलिस ने एक लाख रूपये के ईनामी साबिर को मुठभेड में ढेर कर दिया था। जिसमें एक पुलिसकर्मी अंकित तोमर भी शहिद हो गया था। साबिर के परिजनो का आरोप है कि दो दिन से पुलिस लगातार परेशान कर रही है। जबकि उनका साबिर से कोई संबंध नहीं था।

परिजनों ने बताया साबिर को पहले ही बेदखल कर दिया गया था। साबिर की मां ने बताया कि बुधवार को पुलिस घर पर आई और घर पर आये रिश्तेदारों व घरवालों सहित गांव के 9-10 लोगों को उठाकर ले गई। इसके बाद गुरूवार रात को फिर पुलिस वाले आए और घर में तोड़फोड़ मचा दी। घर का सारा सामान तहस नहस कर दिया। सारे घर के दरवाजे-खिडकियां तोड डाली। घर पर जो रिश्तेदार मिलने आये थे उनकी भी गाडियां तोड डाली और पिटाई की है।

साबिर की छोटी बहन फुरकाना ने बताया कि हमें तो पता भी नहीं था कि वह कब आता है। हमने शोर सुना और फिर गोलियों की आवाज सुनाई दी। उसके बाद किसी से बात करते हुए आवाज आई की साहब जी अंकित के गोली लग गई है। जिस काम से आए थे। वो हो गया। उसके बाद पता चला कि भाई और भाभी को उठाकर ले गये है।

साबिर की मां ने बताया कि वो आया इसका कुछ नहीं पता। हम तो नीचे अपने कमरे में थे। हमने तो फायरिंग की आवाज सुनी है, और साबिर व उसकी बहू को लेकर गए। रात पुलिस आई और तोड़फोड़ करके गई है। पुलिस वाले के गोली लगी इसका हमें कुछ मालूम नहीं है।

ये भी देखें :लव- सेक्स- धोखा: अब न्याय की आस, खटखटाया अदालत का दरवाजा

परिजन कहते हैं जो बदमाश था वो मारा गया उससे हमारा कोई मतलब भी नहीं था। लेकिन पुलिस ने हमारे घर में तोड़फोड़ और मारपीट शुरू कर दी है। घर के सभी जानवरों को भी खोलकर जंगलो में भगा दिया है। जिनका कुछ पता नहीं चला। इसमें हमारी क्या गलती है।

देखें तस्वीरें :

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story