Top

हवालात से फरार 25 हजार का इनामी एक साल बाद गिरफ्तार

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 23 Nov 2017 7:38 PM GMT

हवालात से फरार 25 हजार का इनामी एक साल बाद गिरफ्तार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

झांसी : करीब एक साल पहले पेशी के दौरान झांसी न्यायालय की हवालात की जाली काटकर फरार हुए हत्यारोपी को झांसी स्वॉट और बड़ागांव व नवाबाद थाना पुलिस की संयुक्त टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। फरार कैदी के पास से तमंचा और कारतूस बरामद किए गए हैं। हत्यारोपी के खिलाफ संबधित धाराओं में मामला दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। गिरफ्तार हत्यारोपी पर 25 हजार रुपये का इनाम घोषित है।

ये भी देखें :नोएडा एनकाउंटर के बाद बैकफुट पर आई यूपी पुलिस, तो सामने आए योगी

एसएसपी जे.के शुक्ल ने गुरुवार को बताया कि स्वाट प्रभारी उमेश त्रिपाठी, थानाध्यक्ष बड़ागांव प्रवीण कुमार और नवाबाद थाना प्रभारी दीपक मिश्रा की संयुक्त टीम को मुखबिर से खबर मिली कि बड़ागांव थानांतर्गत डायमंड फैक्ट्री तिराहा पर न्यायालय की हवालात से भागा हत्यारोपी है। इस सूचना पर पुलिस टीम मौके पर पहुंची और बदमाश को पकड़ लिया। उसकी पहचान रिंकू उर्फ राम प्रसाद रायकवार पुत्र घनश्याम निवासी मलयाना बड़ागांव के रूप में हुई। उसके पास 315 बोर का तमंचा, 3 जिंदा कारतूस और 1 खोखा कारतूस बरामद हुआ।

एसएसपी ने बताया कि 5 अक्टूबर 2016 में पेशी के लिए झांसी न्यायालय लाया गया था। जहां उन्हें न्यायालय की हवालात में बंद कर दिया गया था। हवालात की जाली काटकर पांच शांति कैदी भाग गए थे, जिनके लिए पुलिस टीमें गठित की गई थीं। फरार कई आरोपी पहले ही पकड़े जा चुके थे, जबकि रिंकू को अब पकड़ा गया है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story