Top

आतंकी सैफुल्ला का शव लेने से परिवार का इनकार, कहा- जैसा किया, वैसा अंजाम हुआ

सैफुल्ला का शव लेने से इनकार करते हुए पिता सरताज अहमद ने कहा कि वह उसका शव लेकर तमाशा नहीं बनाना चाहते। उन्होंने कहा कि सैफुल्ला ने कोई अच्छा काम तो किया नही था। वह देशद्रोही था इसलिये उसका शव नहीं लेंगे।

zafar

zafarBy zafar

Published on 8 March 2017 10:28 AM GMT

आतंकी सैफुल्ला का शव लेने से परिवार का इनकार, कहा- जैसा किया, वैसा अंजाम हुआ
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आतंकी सैफुल्ला का शव लेने से परिवार का इनकार, कहा- जैसा किया, वैसा अंजाम हुआ

कानपुर: राजधानी लखनऊ के ठाकुरगंज में मारे गये आईएसआईएस आतंकी सैफुल्ला के पिता सरताज अहमद ने उसका शव लेने से इनकार कर दिया है। आतंकी के पिता ने कहा कि वह देशद्रोही का शव नहीं लेंगे। उन्होंने कहा कि उसने जैसा किया, उसके साथ वैसा ही अंजाम हुआ। सरताज अहमद के तीन पुत्रों में सैफुल्ला सबसे छोटा था।

परिवार ने नहीं लिया शव

-सैफुल्ला का शव लेने से इनकार करते हुए पिता सरताज अहमद ने कहा कि वह उसका शव लेकर तमाशा नहीं बनाना चाहते।

-उन्होंने कहा कि सैफुल्ला ने कोई अच्छा काम तो किया नही था। वह देशद्रोही था इसलिये उसका शव नहीं लेंगे।

-सरताज अहमद ने कहा कि सैफुल्ला के बारे में उन्हें खबरों से जानकारी मिली।

-पिता ने बताया कि भाइयों में सबसे छोटा सैफुल्ला कोई काम नहीं करता था इसलिये ढाई महीने पहले मैंने उसे मारा था।

-पिता के अनुसार पिटाई के बाद वह घर से भाग गया था। इसके बाद सैफुल्ला और परिवार के बीच कोई संबंध नही रहा था।

-सरताज अहमद के अनुसार बीते सोमवार को सैफुल्ला ने फोन करके बताया कि उसे वीजा मिल गया है और वह सऊदी अरब जा रहा है।

सही हुआ अंजाम

-पिता ने कहा कि सैफुल्ला इस किस्म का नहीं था, लेकिन न जाने कब वह इन गतिविधियों में पड़ गया।

-सैफुल्ला के बड़े भाई खालिद ने भी कहा कि उसका जो अंजाम हुआ वह सही है।

-भाई खालिद ने बताया कि सैफुल्ला से मिलने आतिफ नाम का एक लड़का आया करता था, जिसने सैफुल्ला के जाने बाद घर आना बंद कर दिया था।

आगे देखिये कुछ और फोटोज...

आतंकी सैफुल्ला का शव लेने से परिवार का इनकार, कहा- जैसा किया, वैसा अंजाम हुआ

zafar

zafar

Next Story