Top

वीडियो: गरीब से घूस लेते लेखपाल कैमरे में कैद, वीडियो वायरल होने पर हड़कंप

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 4 Sep 2018 2:30 PM GMT

वीडियो: गरीब से घूस लेते लेखपाल कैमरे में कैद, वीडियो वायरल होने पर हड़कंप
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हापुड़: जिले में सोशल मीडिया पर धौलाना तहसील के एक लेखपाल का रिश्‍वत लेते वीडियो वायरल हो रहा है। भ्रष्‍टाचार मुक्‍त प्रदेश का दावा करने वाली सरकार और उसके अधिकारियों की नाक के नीचे गरीबों से छोटे-मोटे काम के एवज में मोटी रकम की मांग की जा रही है। आलम ये है कि मांग पूरी न होने पर लेखपाल गरीबों के काम को हाथ तक नहीं लगा रहे हैं। ऐसा ही एक वाकया पीडित के दोस्‍त ने मोबाइल में कैद कर लिया। अब जब घूस लेते लेखपाल का वीडियो वायरल हो गया है, तो अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है।

ये है मामला

धौलाना तहसील के किसान अब्दुल जब्बार का बेटा महराज अपना हिस्सा प्रमाण पत्र लेने लेखपाल ओमबीर सिंह के पास पहुंचा तो लेखपाल ने हिस्सा प्रमाण पत्र देने के बदले दो हजार रूपये की मांग कर डाली। पीड़ित ने काफी खुशामद करने के बाद लेखपाल को आठ सौ रूपये दिए, तब जाकर किसी तरह लेखपाल ने हिस्सा प्रमाण पत्र दिया। पीड़ित के साथ गये उसके दोस्त ने पैसों के बदले हिस्सा प्रमाण पत्र लेने की वीडियो क्लिप बना ली और वीडियो वायरल कर दिया।

पीडित के मुताबिक आज से 2 दिन पहले पीड़ित का पिता जब हिस्सा प्रमाण पत्र बनवाने के लिए लेखपाल के पास गया तो लेखपाल ने तीन हजार रुपये में प्रमाण पत्र बनाने के लिए बोला था। पैसे नहीं देने पर पीड़ित के पिता किसान अब्दुल जब्बार को लेखपाल ने अपने ऑफिस से भगा दिया था। तब यह बात उसने अपने बेटे को बताई। इस पर अगले दिन जब हिस्सा प्रमाण पत्र लेने के लिए पीड़ित का बेटा लेखपाल के पास पहुंचा तो लेखपाल ने दूसरी बार में दो हजार रूपये की मांग कर डाली। किसी तरह खुशामद करने पर लेखपाल आठ सौ रूपये के बदले हिस्‍सा प्रमाण पत्र देने को राजी हो गया। यह सारी बातें पीड़ित के साथ में गए दोस्त ने अपने मोबाइल के कैमरे में कैद कर ली।

लेखपाल बोला- जबरन रूपये लेने का बना रहे थे दबाव

आरोपित लेखपाल का कहना है कि शिकायतकर्ता ने हिस्सा प्रमाण पत्र की मांग की थी, जिसे उसने बना लिया था। वह जब लेने आया तो उसका एक साथी बार-बार रुपये लेने की बात कर रहा था, जबकि शिकायतकर्ता रुपये जबरन दे रहा था। इस पर मैंने उससे कहा कि वह अपने साथी को ही रूपये दे दे। मुझे रूपये नहीं चाहिए। मैंने कोई रुपये नहीं लिए हैं। शिकायतकर्ता उसे ब्लैकमेल करना चाहता था। लेकिन वह उसके झांसे में नहीं आया तो शिकायत कर दी है।

[playlist type="video" ids="267732"]

sudhanshu

sudhanshu

Next Story