Top

फोटोजर्नलिस्‍ट के परिवार पर जानलेवा हमला, पुश्‍तैनी हक मांगने पर लात-घूंसों से जमकर की पिटाई

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 14 Sep 2018 11:48 AM GMT

फोटोजर्नलिस्‍ट के परिवार पर जानलेवा हमला, पुश्‍तैनी हक मांगने पर लात-घूंसों से जमकर की पिटाई
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बाराबंकी: योगी सरकार में पत्रकारों और उनके परिजनों के साथ दबंग बेखौफ होकर गुंडई करने पर उतारू हैं। आलम ये है कि दिवंगत वरिष्‍ठ छायाकार के परिजनों को दिन दहाड़े बेदर्दी से दबंगों द्वारा मारा पीटा जाता है। इतना ही नहीं जान से मारने की धमकी तक दी जाती है। दबंग इस बात का भी दावा करते हैं कि पुलिस भी उनका कुछ नहीं कर सकती। वहीं पुलिस भी पीडितों के साथ साथ दबंगों की तरफ से एफआईआर पंजीकृत करके कहीं न कहीं दबंगों के दावे पर ठप्‍पा लगाती नजर आ रही है।

दबंगों ने दी झूठे पुलिस केस में फंसाने की धमकी

बाराबंकी जनपद में अपनी पुश्तैनी जायदाद में हिस्सा मांगना एक पत्रकार के परिवार को भारी पड़ गया। पट्टीदारों ने जमकर पिटाई कर दी। इतना ही नहीं धमकी देते हुए कहा पुलिस मेरा कुछ नहीं कर सकती है। यदि फिर जायदाद मांगने आए तो जान से हाथ धो बैठोगे। इतना ही नहीं झूठे पुलिस केस में फंसाने की धमकी भी दी जाती है। पुलिस दोनों पक्षों की तरफ से मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच कर रही है।

ये है पूरा मामला

बाराबंकी जनपद के कोतवाली हैदरगढ़ के गांव पूरेझाम तिवारी का पुरवा निवासी पूर्व विधायक स्‍वर्गीय राम किशोर त्रिपाठी के छह बेटे हैं। इनकी मौत के बाद इनकी सम्पत्ति पर सभी भाइयों का बराबर हक बनता है लेकिन बड़े बेटे बृजेश त्रिपाठी ने अपने छोटे भाई स्वर्गीय संजय त्रिपाठी के परिवार को यह हक देने से मना कर दिया। बीते दिनों इसी मामले को लेकर जब बृजेश के भाई स्‍वर्गीय संजय त्रिपाठी की पत्नी शीला त्रिपाठी, बेटा अंकित त्रिपाठी व भाई प्रमोद त्रिपाठी ने अपनी जायदाद की मांग की। इस पर बृजेश त्रिपाठी ने अपने पुत्र सुशील त्रिपाठी और अपनी पत्नी के साथ मिलकर गाली.गलौज करते हुए मारपीट की। जान से मारने की धमकी देते हुए सभी दबंगों ने प्रमोद, शीला व अंकित की जमकर पिटाई की। दबंगों की डर से पीडि़त परिवार ने यूपी 100 पर सूचना देने की कोशिश की लेकिन नेटवर्क के कारण बात नहीं हो सकी। किसी तरह पीडि़त परिवार दबंगों के चंगुल से बचकर थाने पहुंचा। पुलिस को इसकी जानकारी दी। पुलिस ने दोनों पक्षों की तरफ से मुकदमा दर्ज कर लिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। थानाध्यक्ष का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। वहीं पीडि़त परिवार का कहना है कि थाने के अंदर बृजेश का बेटा सुशील और उसके साथियों ने धमकी देते हुए कहा कि तुम लोगों को हम लोग देख लेंगे। बता दें कि लखनऊ के राष्ट्रीय सहारा समाचार पत्र में संजय त्रिपाठी वरिष्ठ फोटो जर्नलिस्ट थे। 25 सितम्बर को उनका निधन हो गया। इसके बाद उनके परिवार ने पैतृक संपत्ति में हिस्सा मांगा। यह बात बृजेश त्रिपाठी को नागवार गुजरी और उसने हाथापाई की।

sudhanshu

sudhanshu

Next Story