Top

रिटायर्ड डीआईजी चाहते थे पोता, बहू संग कर डाला रेप

sudhanshu

sudhanshuBy sudhanshu

Published on 6 July 2018 2:42 PM GMT

रिटायर्ड डीआईजी चाहते थे पोता, बहू संग कर डाला रेप
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: पीएम मोदी के बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान को अब सरकारी विभागों से रिटायर अफसर भी धता बताते नजर आ रहे हैं। ताजा मामला कानपुर के पनकी इलाके का है। जहां एक रिटायर्ड डीआईजी ने अपनी बहू से सिर्फ इसलिए जबरन रेप किया क्‍योंकि उसको पोता चाहिए था। बेटी होने का ताना देकर उसे प्रताडि़त किया जाने लगा। इसके बाद रिटायर्ड डीआईजी ने उससे जबरन शारीरिक संबंध बनाए। इस मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

ये भी पढ़ें: अवध एक्‍सप्रेस से 26 नाबालिग बच्चियां बरामद, पूछताछ में हुआ इस जुर्म का खुलासा

बेटे की करी दूसरी शादी

पनकी थाना क्षेत्र में रहने वाले रामस्वरूप प्रियदर्शी उत्तर प्रदेश में डीआईजी थेl परिवार में पत्नी उमा और बेटे आशीष प्रियदर्शी के साथ रहते हैं। पूर्व डीआईजी के इकलौते बेटे आशीष की पहली शादी नेहा कंचन नाम की महिला से हुई थीl नेहा कंचन ने एक बेटी को जन्म दिया था, लेकिन बेटी होने के बाद जब उसे प्रताड़ित किया जाने लगा तो वह बेटी को छोड़ कर चली गयी थीl

ऐसी ही कहानी मध्य प्रदेश की रहने वाली प्रीति प्रियदर्शी की थी उसकी भी पहली शादी एक फौजी से हुई थी। लेकिन फौजी का किसी से अफेयर था, तो वह प्रीति को छोड़ कर चला गया था।

इसके बाद समाचार पत्रों में शादी के इश्तिहार पर रिटायर्ड डीआईजी ने बेटे आशीष की शादी प्रीति प्रियदर्शी से तय कीl वर्ष 2014 में 7 जून को दोनों की शादी धूम धाम से हुई। लेकिन शादी के बाद जब प्रीति ने पहली बेटी को जन्म दिया तो उसके विरोध में सास, ससुर और पति सभी खड़े हो गएl प्रीति को प्रताड़ित करने का सिलसिला शुरू हो गया। उसके साथ मारपीट और मानसिक टार्चर भी शुरू हो गया।

ये भी पढ़ें:पाकिस्तान : शरीफ को 10 साल, बेटी मरियम को 7 साल की सजा

भगा दिया था मायके

प्रीति ने बताया कि जब मैंने 5 दिसंबर 2016 को छोटी बेटी को जन्म दिया तो जैसे पूरे परिवार में भूचाल आ गयाl मेरे साथ अत्याचार और भी ज्यादा बढ़ गया। मुझे दोनों बेटियों के साथ मायके भगा दिया गयाl वहां पर लगभग 6 माह रहने के बाद जब मैं ससुराल आई तो मुझे कई-कई दिनों तक खाना नही दिया जाता थाl लगातार मेरे पति ,ससुर और सास मारपीट करते। रोजाना बेटियों को लेकर लड़ाई करते थेl

बेटे को बताया नामर्द

पीडिता ने बताया कि ससुर को परिवार बढ़ाने की चिंता सताने लगी। वह मुझ पर दबाव बनाने लगे कि परिवार कैसे बढे़गा। यदि तुम चाहो तो मै तुमसे सम्बन्ध बनाकर बेटा पैदा करना चाहता हूँl मेरा बेटा नामर्द है। वह लड़का पैदा करने में सक्षम नहीं हैl वह मुझ पर रिलेशनशिप बनाने का दबाव बनाने लगेl इसकी बात की जानकारी मेरे पति और सास को भी थीl पति और सास ने इस बात का विरोध नहीं किया बल्कि ससुर का साथ दे रहे थेl

रेप के बाद किया घर से बेदखल

पीडिता के बताया कि बीते 26 जून को मेरे ससुर ने मेरे साथ जबरन रेप किया था। मैं लगातार विरोध करती रही, लेकिन मेरी मदद के लिए कोई नहीं आया था l इसके बाद अगली सुबह जब मैंने इस हरकत का हंगामा करते हुए विरोध कियाl तो इस पर मेरे ससुर ने दोनों बच्चियों के साथ घर से बाहर निकाल दियाl मैंने इसकी सूचना पुलिस को दी तो मेरी कहीं सुनवाई नहीं हुई l

जब स्थानीय लोगों और सामाजिक संगठन मेरी मदद के लिए आये तो पूर्व डीआईजी ने मदद करने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दियाl लेकिन जब पुलिस पर दबाव पड़ा तो उसने मेरी तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया।

पुलिस बोली- ये पारिवारिक विवाद

पनकी थानाध्यक्ष शेष नारायण पाण्डेय के मुताबिक यह पारिवारिक विवाद है। इसमें महिला की तहरीर पर ससुर पर रेप का मुकदमा पंजीकृत किया गया हैl वहीं महिला के ससुर की तहरीर पर भी मुकदमा दर्ज किया गया है, जिसमें बहू को भड़काने का आरोप लगाया हैl दोनों मामलों की विवेचना की जा रही हैl

sudhanshu

sudhanshu

Next Story