Top

नोएडा: छात्र की मौत के बाद नाइजीरियन पर हमले, सुषमा स्वराज ने UP सरकार से मांगी रिपोर्ट

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 27 March 2017 5:31 PM GMT

नोएडा: छात्र की मौत के बाद नाइजीरियन पर हमले, सुषमा स्वराज ने UP सरकार से मांगी रिपोर्ट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा : ग्रेटर नोएडा की एनएसजी सोसाइटी में रहने वाले स्टूडेंट मनीष खारी को नाइजीरिया मूल के छात्र द्वारा कथित तौर पर ड्रग्स की ओवर डोज देने से मौत का मामला सामने आया है। जिसके बाद सोमवार सुबह मनीष के परिजनों ने ग्रामीणों के साथ मिलकर एसएसपी ऑफिस का घेराव किया। सोमवार शाम तक 5 अलग-अलग जगहों पर गुस्साए लोगों ने नाइजीरियन स्टूडेंट्स को जमकर पीटा और उनकी गाड़ियों में तोड़फोड़ की। वहीं मामले की गंभीरता को देखते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने यूपी सरकार से घटनाओं की रिपोर्ट तलब की है।



सोमवार शाम परिचौक पर मृतक के परिजन और उसके दोस्तों ने कैंडल मार्च निकाला और प्रदर्शन किया। इसी दौरान लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। वहां से गुजर रही गाड़ियों में तोड़फोड़ की गईं और कईयों के साथ मारपीट भी हुई है। परिजनों के मुताबिक मृतक मनीष का आज (सोमवार) जन्मदिन भी था। सोमवार शाम करीब आठ बजे लोगों ने कैंडल मार्च निकाला गया।

कैंडल मार्च के दौरान उस समय अफरातफरी मच गई, जब मार्च करने वालों को परी चौक के पास कुछ नाइजीरियन लड़के मिल गए। उन्होंने इनको पीटना शुरू कर दिया। गाड़ियों में तोड़फोड़ भी की गई। पुलिस को खबर मिलने पर मौके पर बड़ी तादात में पुलिस बल पहुचा, और उसने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए हल्का बल प्रयोग किया। घायलों को पुलिस ने अस्पताल में भर्ती करा दिया है।

मृतक के परिजनों का आरोप है कि ग्रेटर नॉएडा में रहने वाले नाइजीरियन नशे का कारोबार करते है। परिजनों का ये भी कहना है कि जबतक उन्हें न्याय नहीं मिलेगा तबतक प्रदर्शन जारी रहेगा।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story