Top

महिला थाने के सिपाही ने अपने ही आफिस के उर्दू अनुवादक को पीटा

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 1 Feb 2018 2:31 PM GMT

महिला थाने के सिपाही ने अपने ही आफिस के उर्दू अनुवादक को पीटा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सुल्तानपुर : फरियादियों और आम-आदमी के साथ अभद्र बरताव करते हुए यूपी पुलिस के सिपाही अब अपने ही विभाग में मारपीट की घटना को अंजाम देने लगे हैं।

मामला एसपी आफिस में तैनात उर्दू अनुवादक के साथ हुई मारपीट का है, उक्त मामले में अब विधिक कार्यवाई हो रही है।

एसपी आफिस का मामला

जानकारी के अनुसार एसपी आफिस में बतौर उर्दू अनुवादक/वरिष्ठ लिपिक मोहम्मद अतीक को महिला थाने में तैनात सिपाही संजय यादव ने जमकर पीटा। बताया जा रहा है कि मारपीट में उर्दू अनुवादक मोहम्मद अतीक को गम्भीर चोटें आई और वो बेहोश हो गया। साथीयों ने आनन-फानन में डिस्ट्रिक हास्पिटल पहुंचाया जहां इलाज के बाद घायल अतीक को होश आया।

रजिस्टर फेंक सिपाही ने की गाली-गलौज

ये पूरा मामला एक कार्ड को तैयार करने को लेकर हुआ। सिपाही संजय का ड्यूटी से संबंधित कार्ड बनना था जिसमें देरी हो रही थी। इसी बात को लेकर सिपाही संजय आज एसपी आफिस पहुंचा और उर्दू अनुवादक मोहम्मद अतीक से उलझ गया।

आरोप है कि उसने पहले रजिस्टर फेंका और फिर गाली गलौज करने लगा। मना करने पर वो मारपीट पर उतर गया।

एसपी ने सिपाही को किया सस्पेंड

एसपी अमित वर्मा ने सिपाही संजय यादव को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर उसे लाइन में भेज दिया है। वहीं घायल उर्दू अनुवादक का मेडिकल कराने के बाद विधिक कार्यवाई के लिये विभागीय लोग कोतवाली पहुंचे। आरोपी सिपाही के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की प्रक्रिया जारी है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story