Top

पैर पर सुसाइड नोट लिखा और मौत को लगा लिया गले, चाचा-चाची का नाम आया सामने

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 11 April 2017 4:51 PM GMT

पैर पर सुसाइड नोट लिखा और मौत को लगा लिया गले, चाचा-चाची का नाम आया सामने
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखीमपुर : यूपी के लखीमपुर खीरी से एक हैरतअंगेज मामला सामने आया है, यहाँ एक लड़की ने अपने पैर पर सुसाइड नोट लिखा और मौत को गले लगा लिया।

ये भी देखें :जाधव को फांसी तो बलूचिस्तान को स्वतंत्र देश की मान्यता

घटना थाना क्षेत्र के पाल पट्टी गांव की है जहाँ रहने वाले राम सुचित किसानी करते हैं। उनके 5 बच्चे हैं बड़े बेटे नीरज ने बताया कि सबसे छोटी बहन कल्पना इंटर की छात्रा थी। रविवार सुबह 10 बजे जब हम उसके कमरे में गए तो वह फंदे पर लटकी हुई दिखी, हमने उसे नीचे उतारा और अस्पताल लेकर भागे, लेकिन उसकी मौत हो चुकी थी।

लोकलाज के डर से परिवारवालों ने पुलिस को बिना सूचना दिए अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू कर दी। ये बात जब कल्पना की एक सहेली को पता चली तो उसने पुलिस को घटना की जानकारी दी। सूचना मिलने पर एसओ खीरी तारकेश्वर राय ने शव को अपने कब्जे में लेकर पंचनामा भरा और पोस्टमॉर्टम हाउस भेज दिया।

पोस्टमॉर्टम के दौरान डॉक्टर ने शव के दहिने पैर पर कुछ लिखा देखा। जब उन्होंने इसे पढ़ा तो उसमें लिखा था मेरी मौत का जिम्मेदार रंगूलाल व उसकी पत्नी हैं।

डॉक्टर ने इस बात की जानकारी पुलिस को दी, जाँच में पता चला कि रंगूलाल कल्पना का चाचा है। इसके बाद शव का पोस्टमार्टम हुआ। अब पुलिस रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story