Top

मेरठ जोन में अपराधियों की शामत 2 महीने में मारे गए 7 इनामी बदमाश

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 15 Sep 2017 2:56 PM GMT

मेरठ जोन में अपराधियों की शामत 2 महीने में मारे गए 7 इनामी बदमाश
X
UP पुलिस में बड़ा बदलाव, कोतवाल के साथ कोतवाली पर पोस्ट होंगे 2 शिफ्ट में इंस्पेक्टर
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : यूपी में अपराधियों पर पुलिस की गोली अब भारी पड़ने लगी है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश से लेकर पूर्वांचल तक अब खाकी का खौफ अपराधियों के सर चढ़ कर बोलने लगा है। मुज़फ्फरनगर, शामली, सहारनपुर और आसपास के जिलों में पुलिस की गोली का खौफ कुछ ऐसा घर कर गया है कि अपराधी खुद ही ज़मानत तुड़वा कर जेल की सलाखों के पीछे जाने के लिए आतुर नजर आ रहे हैं। अपराधियों पर कार्रवाई के लिए एडीजी जोन मेरठ प्रशांत कुमार ने जोन की पुलिस को खुली छूट दी हुई और वो जवानो के साथ खड़े नजर आ रहे हैं।

ये भी देखें:यूपी पुलिस इन एक्शन: 5 महीनों में मार गिराए 15 मोस्टवांटेड

मेरठ ज़ोन में सब ज़्यादा एनकाउंटर

अपराधियों से निपटने के पुलिस ने नई रणनीति पर अमल करना शुरू कर दिया है। अकेले मेरठ जोन में ही अब तक 7 इनामी बदमाश मार गिराए गए हैं। इनमें 50 हजार के 2 इनामी बदमाश शामिल हैं। शामली में जहां 50 के ईनामी नौशाद उर्फ डैनी समेत 4 अपराधी पुलिस मुठभेड़ में मारे गए हैं। तो वहीं मुज़फ्फरनगर में 50 हजारी नितिन समेत 2 अपराधी पुलिस मुठभेड़ में मारे गए हैं। जबकि सहारनपुर में इनामी बदमाश मारा गया है। एडीजी मेरठ जोन प्रशांत कुमार कहते हैं कि अपराधियों को सुधरने का मौका देते हुए चेतावनी भी दी गई है लेकिन अगर अपराधियों ने अपराध किया या फिर पुलिस को निशाना बनाने की कोशिश की तो किसी भी कीमत पर अपराधियों को बख्शा नही जाएगा।

ये भी देखें:रेप के इरादे से के घर में घुसे बदमाशों ने बेटी को उतारा मौत के घाट, मां की हालत गंभीर

एडीजी जोन कहते हैं कि 15 जुलाई से लेकर 14 सितंबर तक 148 अपराधियों पर इनाम घोषित किया गया इनमें से 81 बदमाशों को पुलिस ने गिरफ्तार और 7 बदमाश पुलिस मुठभेड़ में मार गिराए गए हैं। जब की 50 हजार के इनामी बिल्लू दुजाना ने दिल्ली और राहुल ठसराना ने आगरा में खुद को अदालत के सुपुर्द कर दिया।

ये भी देखें:नौनिहालों के पांव में जूते नहीं पहना पाई सरकार, शिक्षा के क्षेत्र में सुधार के दावे फेल

इन अफसरों पर भी बढ़ा है भरोसा

यूपी सरकार को जिन आईपीएस अफसरों पर सब से ज्यादा भरोसा है उन में एडीजी कानून व्यवस्था आनन्द कुमार, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मुज़फ्फरनगर अनंत देव तिवारी, पुलिस अधीक्षक शामली अजय पाल सिंह और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आज़मगढ़ अजय कुमार साहनी पर यूपी पुलिस के मुखिया को सब से ज़्यादा भरोसा है।

ये भी देखें:बिहार : रेत माफिया के हमले में थाना प्रभारी सहित 3 पुलिसकर्मी घायल

दरअसल पश्चिमी यूपी के मुज़फ्फरनगर, सहारनपुर और शामली में अपराधियों की गोली का जवाब पुलिस ने गोली से दिया है तो पूर्वांचल में एसएसपी आजमगढ़ अजय साहनी अकेले ऐसे पुलिस कप्तान हैं। जिसके जिले में 2 अपराधी मारे गए हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story