Top

बदलते रहे चेहरे, नहीं बदला यूपी! पुलिस की गिरफ्त से 10 वर्षो में 742 कैदी भागे

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 9 Oct 2017 4:48 PM GMT

बदलते रहे चेहरे, नहीं बदला यूपी! पुलिस की गिरफ्त से 10 वर्षो में 742 कैदी भागे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ । उत्तर प्रदेश की पुलिस पिछले दस सालों में अपनी अभिरक्षा में 742 बंदियों को संभाल नहीं पाई, नतीजा सैकड़ों बंदी पुलिस अभिरक्षा से फरार हो गए। हालांकि पुलिस ने इन फरार बंदियों में से 621 बंदियों को दोबारा गिरफ्तार कर लिया। वहीं 17 बंदियों की फरार अवधि के दौरान ही मौत भी हो गई। अभी भी 104 बंदी पुलिस की कैद से दूर हैं, जिनकी पुलिस तलाश कर रही है।

ये भी देखें: इसे कहते हैं बेशर्मी की हाईट! हत्यारे गोडसे को अपनी विरासत बता रहे हैं ये

गृह विभाग की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक, एक जनवरी, 2008 से 30 सितंबर 2017 तक लगभग दस साल में पुलिस अभिरक्षा से सबसे ज्यादा बंदी 151 लखनऊ जोन से भागे तो सबसे कम मेरठ जोन से 40 बंदी भागे।

फरार बंदियों को दोबारा गिरफ्तार करने की बात करें, तो इसमें भी लखनऊ जोन सबसे आगे रहा। यहां से 10 साल में 118 बंदी गिरफ्तार कर लिए गए, वहीं दो की फरार अवधि के दौरान मौत हो गई।

ये भी देखें: ओ तेरी! योगी की महिला मंत्री ने कर दिया कांड तो सामने आया हाईकोर्ट

गृह विभाग के अनुसार, 31 बंदी अभी फरार हैं। इसी प्रकार मेरठ जोन से पुलिस अभिरक्षा से भागे 40 में से 37 बंदियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इनमें एक बंदी की मौत हो गई और दो की तलाश आज भी जारी है। आगरा जोन से दस साल में पुलिस अभिरक्षा से 104 बंदी भागे, जिनमें 90 को पकड़ा गया और दो की फरार होने के दौरान मौत हो गई। फिलहाल पुलिस 12 की तलाश कर रही है। इलाहाबाद से 117 बंदी पुलिस अभिरक्षा से भागे, जिनमें से 101 की गिरफ्तारी हुई, 14 अब भी फरार हैं।

ये भी देखें: जानिए कैसे! लखनऊ के बलरामपुर हॉस्पिटल ने एक साथ बना दिए दो व‌र्ल्ड रिकार्ड

जानकारी के अनुसार, उप्र के आठ जोन आगरा, बरेली, इलाहाबाद, मेरठ, लखनऊ, कानपुर नगर, गोरखपुर और वाराणसी से दस साल में 742 बंदी पुलिस अभिरक्षा से फरार हुए। इन फरार बंदियों में 621 दोबारा गिरफ्तार हुए। वहीं 17 बंदियों की फरार अवधि के दौरान ही मौत हो गई और अभी भी 104 बंदी फरार हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story