दिल्ली चुनावः तो यह है केजरीवाल की हैट्रिक सफलता का राज

पूर्वांचल से ताल्लुक रखने वाले मनोज तिवारी को भाजपा दिल्ली प्रदेश बनाने का दांव भी भाजपा के काम नहीं आ सका। चुनाव नतीजों से साफ है कि पूर्वांचल के मतदाताओं का समर्थन पाने में आप कामयाब रही और उसे इतनी भारी विजय हासिल हुई।

भाजपा ने चुनाव प्रचार के अंतिम दौर में शाहीनबाग के मुद्दे को प्रमुखता से उछालकर ध्रुवीकरण की पूरी कोशिश की मगर अरविन्द केजरीवाल को जितनी भारी विजय मिली है उससे साफ है कि भाजपा अपने मकसद में कामयाब नहीं हो सकी।

दिल्ली विधानसभा चुनाव में एक बार फिर बंपर जीत हासिल करने वाली आम आदमी पार्टी ने भारतीय जनता पार्टी की सीटों को दहाई के अंक में पहुंचने से रोक दिया तो वहीं..

दिल्ली विधानसभा चुनावों में प्रवासियों की दूसरी सबसे बड़ी आबादी उत्तराखंड से आकर बसी है। करीब 45 लाख की इस आबादी में लगभग 25 लाख वोटर हैं, जो किसी भी...

दिल्ली विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी उम्मीदों के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर सकी। पार्टी की हार पर दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने आम...

दिल्ली विधानसभा की 70 विधानसभा सीटों पर नतीजे आने वाले हैं। इस बीच आम आदमी पार्टी के समर्थक अरविंद केजरीवाल के घर पहुंचने लगे हैं। उनके साथ उनके बच्चे की...

देश की सबसे पुरानी पार्टी के लिए बहुत शर्मनाक स्थ‍िति है जो कुछ साल पहले ही शीला दीक्ष‍ित के नेतृत्व में लगातार 15 साल शासन कर चुकी है। शीला दीक्ष‍ित के नेतृत्व में दिल्ली में कांग्रेस की सरकार में भी काम हुए लेकिन चुनाव दर चुनाव कांग्रेस का पतन ही हो रहा है।  

कभी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के करीबी रहे डॉ. कुमार विश्वास अब उनके खिलाफ हो गए हैं। कुमार विश्वास सीएम केजरीवाल पर निशाना साधने का एक भी मौका नहीं छोड़ रहे हैं।

दिल्ली: दिल्ली विधानसभा चुनाव की मतगणना लगभग खत्म हो गयी है। वहीं विधानसभा सीटों पर उम्मीदवारों की जीत तय हो चुकी है। बता दें कि दिल्ली की 70 विधानसभा सीटों में 60 पर आम आदमी पार्टी के प्रत्याशियों की जीत और 9 पर भाजपा की जीत का दावा किया जा रहा है। जीत गये ये …

दिल्ली विधानसभा चुनाव के परिणाम आने शुरू हो गए हैं, ताजा रुझानों में आम आदमी पार्टी को शानदार बहुमत मिलती नजर आ रही है। वहीं इसके बाद नेताओं के बयान भी...