Top

AKTU ने 600 कॉलेजों के 20 हजार स्‍टूडेंटस किए सस्‍पेंड, VC बोले- दिया है 8 मार्च तक का टाइम

राजधानी स्थित डॉ एपीजे अब्‍दुल कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी के एडेड और प्राइवेट इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट कालेजों के 20 हजार छात्रों के प्रवेश को फर्जी मानते हुए यूनिवर्सिटी द्वारा निलंबित कर दिया गया है।

tiwarishalini

tiwarishaliniBy tiwarishalini

Published on 25 Feb 2017 11:20 AM GMT

AKTU ने 600 कॉलेजों के 20 हजार स्‍टूडेंटस किए सस्‍पेंड, VC बोले- दिया है 8 मार्च तक का टाइम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

AKTU के छात्रों को घर बैठे मिलेगी डिग्री और माइग्रेशन, मिलेगी ऑनलाइन सुविधा

लखनऊ : राजधानी स्थित डॉ एपीजे अब्‍दुल कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी के एडेड और प्राइवेट इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट कॉलेजों के 20 हजार छात्रों के प्रवेश को फर्जी मानते हुए यूनिवर्सिटी द्वारा निलंबित कर दिया गया है। इसकेे पीछे बड़ी वजह समय से प्रवेश संबंधी दस्‍तावेजों को पूर्ण रूप से जमा न करना बताया जा रहा है। हालांकि यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रोफेसर विनय कुमार पाठक ने बताया कि जिन स्‍टूडेंट्स को निलंबित किया गया है। उनके कॉलेजों को दस्‍तावेजों के सत्‍यापन के लिए 8 मार्च तक का समय दिया जा रहा है।

इन कॉलेजों के स्‍टूडेंट्स हुए निलंबित

-एकेटीयू के रजिस्‍ट्रार पवन गंगवार ने बताया कि पूरे प्रदेश के करीब 600 कालेजों के 20 हजार छात्रों पर निलंबन की कार्रवाई की गई है।

-इसमें एडेड और प्राइवेट दोनों कालेज शामिल हैं।

-इनमें प्रमुख रूप से आईटी लखनऊ, केएनआईटी सुल्‍तानपुर, आनंद इंजीनियरिंग कॉलेज आगरा, एमआईटी मेरठ, एबीईएस कॉलेज गाजियाबाद, हिंदुस्‍तान इंस्‍टीटयूट ऑफ टेक्‍नॉलॉजी एंड मैनेजमेंट आगरा और शेरवुड कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग लखनऊ सहित करीब 600 कॉलेज शामिल हैं।

ऐसे पकड़ी गई कमी

-AKTU के अधिकारियो द्वारा ऑनलाइन डेटाबेस प्रवेश परीक्षा के टाइम पर तैयार किया गया था और बाद में जब कॉलेजो से हार्ड कॉपी में डॉक्यूमेंट आये उसका मैन्युअल चेक किया गया।

-इसमेंं बड़े पैमाने पर खामियांं पाये जाने के बाद प्रदेश के 600 कॉलेजो के 20 हज़ार छात्रों को निलंबित कर दिया गया।

-निलंबित छात्रों का जो छाटा प्रवेश फार्मों में दर्ज था, उसके दस्‍तावेज साथ में संलग्‍न नहीं थे।

-इसके पीछे एकेटीयू के अधिकारी कालेजों द्वारा जल्‍दबाजी में सीटें भरने की कवायद को बता रहे हैं।

8 से 27 मार्च तक मिलेगा मौका

-इस कार्रवाई में जिन छात्र छात्राओं का निलंबन हुआ है ,विश्वविद्यालय स्तर पर उन छात्रों के सम्बंधित संस्थानों को 8 मार्च तक का समय दिया गया है।

-इन निलंबित छात्रों को एकेटीयू 27 फरवरी से 8 मार्च तक मौका देगा।

-इस दौरान कॉलेजो को अपने संसथान के निलंबित छात्रों के दस्तावेजोंं का सत्यापन करवाना होगा।

-जिन छात्रों के दस्तावेजो को संसथान द्वारा दी गयी समय सीमा के अंदर सत्यापित करवा लिया जायेगा।

-उनके यहां के छात्रों का निलंबन बहाल कर दिया जाएगा और उन पर चल रही निलंबन की कार्रवाई खुद ही समाप्त हो जाएगी।

-इसके बाद में शेष निलबिंत पंजीकृत छात्रों के एनरोलमेंट को रद्द कर दिया जाएगा।

फर्जीवाडे में शामिल कॉलेजो पर होगी कार्रवाई

-AKTU से संबद्ध संस्थानों द्वारा फर्जी दस्तावेजों के आधार पर प्रवेश देने वाले कॉलेजो पर विश्वविद्यालय सख्त कार्रवाई करने के मूड में है।

-विश्वविद्यालय स्तर पर सम्बंधित संस्थान की सीटों में कटौती और यूनिवर्सिटी द्वारा दोषी संसथान की संबद्धता समाप्त किए जाने का भी निर्णय लिया जा सकता है।

-गौरतलब है कि पूर्व में भी समाज कल्याण द्वारा दी जाने वाली छात्र प्रतिपूर्ति की धन राशि को गबन करने के लिए कई कॉलेजो द्वारा फ़र्ज़ी प्रवेश भी दिए गए थे।

-जिसके बाद भी विश्वविद्यालय स्तर पर बड़ी कार्रवाई के कदम उठाए गए थे।

tiwarishalini

tiwarishalini

Excellent communication and writing skills on various topics. Presently working as Sub-editor at newstrack.com. Ability to work in team and as well as individual.

Next Story