Education

चयन प्रक्रिया: योग्य अभ्यर्थियों को शैक्षणिक योग्यता और गेट-2019 परीक्षा में प्राप्त अंकों के माध्यम से शॉर्टलिस्ट किया जाएगा। फिर उम्मीदवारों को समूह चर्चा और साक्षात्कार के लिए बुलाया जाएगा।

ट्रेनिंग के जरिए चयनित उम्मीदवारों को लेफ्टिनेंट की रैंक दी जाएगी। इच्छुक व योग्य पुरुष महिला उम्मीदवार इन पदों के लिए आवेदन कर सकते हैं। अभ्यर्थी 25 जून 2019 तक आवेदन कर सकते हैं। लिखित परीक्षा का आयोजन 28 जुलाई 2019 को होगी।

एकल पीठ के इसी आदेश के खिलाफ दायर विशेष अपीलों के जरिये सरकार की ओर से 7 जनवरी के शासनादेश का बचाव करते हुए कहा गया कि क्वालिटी एजुकेशन के लिये सरकार द्वारा यह निर्णय लिया गया है।

जानकारी के अनुसार कल देर रात जब प्रोविजनल आंसर की जारी की गई। इस आंसर की में कई प्रश्नों के उत्तर गलत थे। जिसके चलते आंसर की को फिलहाल एनएलयू के वेबसाइट से अभी आंसर की हटा दी गई है।

आपत्तियों का विश्लेषण किया जाएगा और उसके बाद अंतिम आंसर की जारी की जाएगी। इसके बाद ही नीट का रिजल्ट 05 जून 2019 को घोषित होगा। बता दें कि देशभर से इस साल करीब 15,19,375 स्टूडेंट्स ने रजिस्ट्रेशन किया था।

एग्जाम ख़तम नहीं होता की बच्चों की टेंसन बढ़ जाती है की रिजल्ट कब आएगा।  UP बोर्ड और सीबीएसई के रिजल्ट आ चुके है और अब उत्तराखंड बोर्ड का भी रिजल्ट आ चूका है। 12वीं के साथ साथ 10वीं का रिजल्ट भी घोषित कर दिया गया है।

पीसीएस मेंस 2018 में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों को एक विषय छोड़ना है। पिछली परीक्षा के अंकपत्र दिखाए जाने पर अभ्यर्थियों को सही विषय का चयन करने में आसानी होगी।

सिंगल बेंच ने यह आदेश दर्जनों असफल अभ्यर्थियों की ओर से दाखिल याचिकाओं पर दिया था। उक्त याचिकाओं में 28 फरवरी 2019 की चयन सूची को चुनौती दी गई थी।

सूत्रों ने बताया कि सोमवार को हुई बैठक में यह फैसला किया गया कि 30 मई से पंजीकरण प्रक्रिया शुरू की जायेगी जो अगले 15 दिन तक चलेगी। पंजीकरण प्रक्रिया के खत्म होने के करीब एक सप्ताह बाद विश्वविद्यालय कट ऑफ की घोषणा करेगा।

सुप्रीम कोर्ट ने डिविजन बेंच के संशोधित आदेश को खारिज करते हुए, सभी याचियों को सुनवाई का मौका देने का निर्देश देते हुए, मामले की पुनः सुनवाई के लिए वापस हाईकोर्ट भेज दिया। शीर्ष अदालत के आदेश पर सोमवार को वर्तमान अपील पर सुनवाई हुई।