×

DU: कम अंकों में भी हो सकता है एडमिशन, इन विषय पर मिलेगा मौका

By

Published on 8 Jun 2016 11:33 AM GMT

  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : दिल्ली यूनिवर्सिटी (डीयू) में शैक्षणिक सत्र 2016-17 में अंडर ग्रेजुएट कोर्सेज में दाखिले के लिए आवेदन जारी है। 7 दिनों में ही आवेदन का आंकड़ा लगभग 2 लाख तक पहुंच गया है।

कम मार्क्स में हो सकता है एडमिशन

-डीयू में विभिन्न कोर्सेज में हाई कट-ऑफ की चिंता के चलते कम अंक वाले आवेदन करने से डर रहे हैं।

-दरअसल, कम अंकों में भी डीयू में दाखिले लेने का सपना पूरा हो सकता है।

-डीयू में ऐसे कोर्सेज की कमी नहीं है जिनमें 45-50 फीसदी अंक लाने वालों को दाखिला हो जाता है।

-यह ऐसे कोर्सेज हैं जिनके माध्यम से छात्र अपने कैरियर को आगे बढ़ा सकते हैं और सिविल सर्विस की तैयारी कर सकते हैं।

-डीयू में हिंदी, संस्कृत, पर्शियन व उर्दू जैसे कोर्सेज में दाखिला 45-70 फीसदी पर हो जाता है।

-शुरुआत की कट ऑफ में भले ही इन कोर्सेज की कट ऑफ थोड़ी ऊंची रहती हो लेकिन दूसरी कट ऑफ के बाद इसमें कमी होने लगती है।

इन भाषाओं में हैं कोर्सेज

-अधिकारी कहते हैं कि भले ही बड़ी संख्या में यहां आवेदन किया जाता हो लेकिन कम अंक वालों के लिए कॉलेजों के दरवाजे खुले हैं।

-खासकर ऐसे छात्र जिनके 45-70 फीसदी अंक हो वह विभिन्न भाषा वाले कोर्सेज के लिए आवेदन कर सकते हैं।

-डीयू के विभिन्न कॉलेजों में हिंदी, संस्कृत, पर्शियन ऐसे भाषा में कोर्सेज हैं।

-इनमें छात्र कैंपस कॉलेजों में 50-70 फीसदी पर तो ऑफ कैंपस कॉलेजों में 45-50 फीसदी पर एडमिशन हो जाता है।

-ऐसे में कम अंक वालों को भी डीयू में आवेदन जरूर करना चाहिए।

-डीयू के नामी कॉलेज सेंट स्टीफंस कॉलेज में संस्कृत ऑनर्स में ही 70 फीसदी पर दाखिला हो जाता है।

संस्कृत में भी बन सकता है करियर

-विशेषज्ञों का कहना है कि संस्कृत को लेकर यह समझा जाता है कि इसमें करियर नहीं बन सकता।

-संघ लोक सेवा आयोग के इस बार के रिजल्ट को देखें तो 18 छात्र संस्कृत विषय से सफल रहे हैं।

-डीयू में संस्कृत ऑनर्स के लिए दसवीं तक संस्कृत पढ़ा होना अनिवार्य है।

Next Story