श्मशान से अर्थीबाबा का ऐलान, चुनाव जीता तो मुफ्त कराउंगा सेनेटरी, जानें इनके बारे में?

बता दें कि सेनेटरी पैड को मुद्दा बनाने वाला ये पहला व्यक्ति होगा, क्योंकि आज तक तमाम राजनेता और मुद्दे आपने देखे, लेकिन ये पहला प्रत्याशी है, जो अर्थी पर सवार होकर सेनेटरी पैड की माला पहन कर चुनाव मैदान में पहुंचेगा, और अखिलेश यादव और निरहुआ को टक्कर देने आया है, फिलहाल राजन यादव चुनाव जीतेगा या नहीं ये तो कहना मुश्किल है, लेकिन आजमगढ़ कि जनता को ऐसा नेता पहली बार मिला है।

गोरखपुर: आपने बहुत से नेताओं के बारे में सुना होगा जो जनता और मीडिया के बीच में बनने के लिए कुछ न कुछ अजीबोगरीब हरकत करते हैं। आज हम आपको एक ऐसे ही नेता के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका नाम है अर्थी बाबा। जी हां इनका जैसा ही नाम है वैसा ही काम भी है। तो आइये जानते हैं इनके बारे में…

अर्थी बाबा अपना कैम्प कार्यालय शमशान में बनाये हैं। खास बात ये है कि आज सेनेटरी पैड का माला पहन कर जब अर्थी बाबा अर्थी पर सवार होकर अपने कार्यालय पहुंचे तो लोग वाकई में हैरान हो गए। जी हां लेकिन सुनकर हैरान होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि राजन यादव के लिए और गोरखपुर के लिए ये कोई नई बात नहीं है, हां ये और है, कि आजमगढ़ के लोगों के लिए ये एक कौतुहल का विषय जरुर है, भले ही ये आजमगढ़ से चुनाव लड़ रहे हैं, लेकिन अपना कैम्प कार्यालय इन्होंने गोरखपुर के शमसान घाट पर बनाया है।

हर इलेक्शन में ये खड़े होते हैं अर्थीबाबा

गोरखपुर के रहने वाले राजन यादव उर्फ़ अर्थी बाबा, भले ही गोरखपुर के हैं, और हर इलेक्शन में ये खड़े होते हैं, फिर चाहे वो सभासद का हो या फिर राष्ट्रपति का सभी चुनाव लड़ने के वजह से ये चर्चा में रहते हैं, लेकिन इस बार वो एमपी का चुनाव आजमगढ़ से लड़ रहे हैं, जहां पर अखिलेश यादव और निरहुआ चुनाव लड़ रहे हैं, लेकिन इन्होंने अपना कैम्प कार्यालय गोरखपुर के शमसान घाट पर बनाया है, क्योंकि इनका कहना है, कि वहां पर इनके जान को खतरा है।

ये भी पढ़ें— पंजाब में बिखर रहा आप का कुनबा, सूबे की राजनीति में बड़ा परिवर्तन

उन्होंने कहा कि एक तरफ पूर्व मुख्यमंत्री अखलेश यादव दूसरी तरफ निरहुआ दोनों के पास सुरक्षा है, यहाँ तक की नाचने गाने वाले को बीजेपी ने अपना प्रत्याशी बना कर उतार दिया, और उसे भी ‘Y’ श्रेणी की सुरक्षा दे दी गई, क्योंकि बिना सुरक्षा के वहां कोई चुनाव नहीं लड़ सकता है, और इसलिए मैंने यहां पर अपना कैम्प कार्यालय खोला है, जब तक चुनाव आयोग मुझे सुरक्षा नहीं देगा तब तक मैं यहा अपना कैम्प कार्यालय बना कर बैठूंगा।

चुनाव जीते तो सेनेटरी पैड मुफ्त कराउंगा: राजन यादव उर्फ़ (अर्थीबाबा)

राजन यादव की मानें तो, मै आजमगढ़ से चुनाव लड़ रहा हूं, क्योंकि वहां से अखिलेश यादव और एक नचनिया को बीजेपी ने खड़ा किया है, तो मैं भी बाहर यानी गोरखपुर होकर वहां से चुनाव लडूंगा, और अपना कार्यालय गोरखपुर के शमशान घाट पर खोला हूं, और अर्थी पर बैठ कर आया हूं ताबूत पर बैठा हूं, और सेनेटरी पैड का माला पहन कर ये साबित कर रहा हूं, कि सेनेटरी की अर्थी निकल चुकी है|

ये भी पढ़ें— सपा के पूर्व विधायक और उनके समर्थको के खिलाफ मामला दर्ज

क्योंकि पूरे विश्व में महिलाओं में कैंसर पूरी तरह से छाया हुआ है, क्योंकि उन्हें सेनेटरी पैड नहीं मिलता है, गाँव क्षेत्र में या तमाम गरीब महिलायें और उनकी बेटिया सेनेटरी पैड यूज नहीं करती है, क्योंकि उनके पास पैसे नहीं है, किसान अपने बिजली का बिल नहीं भर पाता तो वो महीने का 8 सौ रूपये सेनेटरी पैड का क्या भरेंगे, सरकार जब महिलाओं को मुफ्त में सेनेटरी पैड नहीं दे सकती तो ये विकास क्या करेगी।

अगर ये जितने भी प्रत्याशी बने है, वो चुनाव जीतना चाहते हैं, तो सभी घोषणा करें कि जो चुनाव जीतेगा, वो अपने वेतन से सेनेटरी पैड खरीद कर देगा। आजमगढ़ से मैं चुनाव लड़ कर वहा पर सेनेटरी पैड मुफ्त कराउंगा।

बता दें कि सेनेटरी पैड को मुद्दा बनाने वाला ये पहला व्यक्ति होगा, क्योंकि आज तक तमाम राजनेता और मुद्दे आपने देखे, लेकिन ये पहला प्रत्याशी है, जो अर्थी पर सवार होकर सेनेटरी पैड की माला पहन कर चुनाव मैदान में पहुंचेगा, और अखिलेश यादव और निरहुआ को टक्कर देने आया है, फिलहाल राजन यादव चुनाव जीतेगा या नहीं ये तो कहना मुश्किल है, लेकिन आजमगढ़ कि जनता को ऐसा नेता पहली बार मिला है।

ये भी पढ़ें— नाटो ने आंतरिक फूट के बीच काला सागर में रूस का सामना करने की इजाजत दी