जिसने ‘जिंदगी झंड बा फिर भी घमंड बा’ का जबर ज्ञान दिया उसके बारे में सबकुछ

‘जिंदगी झंड बा फिर भी घमंड बा’ का जबर ज्ञान देने वाले भोजपुरी सुपरस्टार रवि किशन इस बार बीजेपी के टिकट पर गोरखपुर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे। सीट के बारे में तो सबको पता है। लेकिन हम आपको बताएंगे वो जो आपको नहीं पता है..

लखनऊ : ‘जिंदगी झंड बा फिर भी घमंड बा’ का जबर ज्ञान देने वाले भोजपुरी सुपरस्टार रवि किशन इस बार बीजेपी के टिकट पर गोरखपुर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे। सीट के बारे में तो सबको पता है। लेकिन हम आपको बताएंगे वो जो आपको नहीं पता है.. तो अपने रवि किशन आज से घोषित माननीय हो गए हैं। बीजेपी वाले उन्हें मंच से रवि जी किशन जी (बीजेपी की परंपरा है नाम के बीच में जी ठेल देने की) बुलाएंगे।

ये भी देखें : BJP की 21वीं लिस्ट जारी, गाोरखपुर से रवि किशन को मिला टिकट

भोजपुरी सिनेमा के बड़े स्टार हैं अपने रवि जी किशन जी

रवि किशन भोजपुरी सिनेमा के अमिताभ बच्चन हैं। इनकी फ़िल्में हाथों हाथ ली जाती हैं। बॉलीवुड से लेकर साऊथ की इंडस्ट्री में भी डंका बजता है। ऊपर वाले का दिया सबकुछ है। लेकिन संसद जाने का बहुत मन था तो बीजेपी में आए और टिकट भी ले लिया। अब मतदान तक गोरखपुर वाले सेल्फी सेल्फी खेलेंगे। बाकी तो मतगणना के बाद पता चलेगा कि सपना पूरा हुआ या ‘जिंदगी झंड बा फिर भी घमंड बा’ बोलकर निकल लेंगे।

वैसे रवि किशन 2014 में कांग्रेस के टिकट पर जौनपुर से चुनाव लड़ चुके हैं।

ये भी देखें :भोजपुरी एक्टर रवि किशन BJP में शामिल, कहा- PM मोदी के काम से प्रभावित हूं

फिल्मी है लोव (लव) स्टोरी

कोई नहीं मुद्दे की बात करते हैं रवि की अपनी रियल वाली लव स्टोरी भी कम फ़िल्मी नहीं है। रवि की मुलाकात उनकी पत्नी प्रीति से 11वीं क्लास में हुई थी। बाद में शादी बच्चे सब हुए लेकिन इस सबमें एक बात और हुई… रवि फिल्मों में नाम कमाना चाहते थे और इसके लिए उन्होंने काफी संघर्ष किया। उस दौर में प्रीति रवि के साथ रहीं।

रवि और प्रीति चार बच्चों के माता पिता हैं। उनकी तीन बेटियां और एक बेटा है।

इतना पढ़ लिया तो ये भी जान ही लीजिए

रवि का पूरा नाम रवि किशन शुक्ल है। निवासी हैं यूपी के जौनपुर जिले के। बिसुईं गांव में जन्मे और पढ़े भी वहीं। पिता पुजारी हैं।

ये भी देखें : शकील अहमद ने कांग्रेस प्रवक्ता पद से दिया इस्तीफा, निर्दलीय लड़ सकते हैं चुनाव