‘मोदी लहर’ की बदौलत हिन्दी पट्टी में भाजपा का डंका

बिहार में भाजपा एवं सहयोगी दल 39 सीटों पर जीते हैं। छत्तीसगढ़ में पार्टी को 9 सीटें मिली हैं। हरियाणा की सभी 10 सीटें भाजपा के खाते में आयी हैं। हिमाचल प्रदेश की 4 और उत्तराखंड की 5 सीटें भी भाजपा के हिस्से आयी हैं।

नई दिल्ली: हिन्दी पट्टी के राज्य भाजपा के लिये एक बार फिर सत्ता की कुंजी बनकर उभरे हैं और इन राज्यों में लगभग 90 प्रतिशत के स्ट्राइक रेट के साथ भगवा पार्टी लगातार दूसरी बार पूर्ण बहुमत हासिल करने में सफल रही है।

हिन्दी पट्टी के 10 राज्यों में 2014 चुनाव में भाजपा की जीत का स्ट्राइक रेट 85 प्रतिशत था।

ये भी देंखे:पार्टियों के धार्मिक संकेत से जुड़े नाम की समीक्षा संबंधी याचिका पर केंद्र से जवाब तलब

चुनाव के परिणाम और रुझानों के अनुसार, भाजपा हिन्दी पट्टी के 10 राज्यों उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और राजस्थान की 225 सीटों में भाजपा और उसके सहयोगी दलों को 203 सीटें मिली हैं।

बिहार में भाजपा एवं सहयोगी दल 39 सीटों पर जीते हैं। छत्तीसगढ़ में पार्टी को 9 सीटें मिली हैं। हरियाणा की सभी 10 सीटें भाजपा के खाते में आयी हैं। हिमाचल प्रदेश की 4 और उत्तराखंड की 5 सीटें भी भाजपा के हिस्से आयी हैं।

उत्तर प्रदेश में भाजपा एवं सहयोगी दलों को 62 सीटें मिली हैं। मध्यप्रदेश में पार्टी 28 सीटों पर और राजस्थान में भाजपा 24 सीटों पर जीत दर्ज कर चुकी है। राजस्थान की 25वीं सीट भी राजग के सहयोगी दल को मिली है। दिल्ली में सातों सीटें भाजपा के हिस्से आयी हैं। झारखंड में पार्टी 11 सीटों पर जीत चुकी है। जबकि एक सीट उसके सहयोगी दल को मिली है।

ये भी देंखे:वर्ल्ड कप 2019 से पहले इंग्लैंड में फेल हुए भारतीय बल्लेबाज रोहित शर्मा!!!

साल 2014 में हिन्दी पट्टी के 10 राज्यों उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और राजस्थान में 225 सीटों में भाजपा को 190 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। इन राज्यों में भाजपा की जीत का स्ट्राइक रेट 85 प्रतिशत रहा था।

मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों में हाल के विधानसभा चुनाव में पराजय और उत्तर प्रदेश में सपा..बसपा गठबंधन के बाद भाजपा के लिये इन राज्यों में अच्छा प्रदर्शन करना चुनौतीपूर्ण माना जा रहा था।

(भाषा)