भाजपा की जीत से शुरुआती कारोबार में घरेलू शेयर बाजारों में तेजी

सेंसेक्स की कंपनियों में एलएंडटी, भारती एयरटेल, भारतीय स्टेट बैंक, टाटा मोटर्स, बजाज फाइनेंस, एशियन पेंट्स, महिंद्रा एंड महिंद्रा, आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक, इंडसइंड बैंक, इंफोसिस, एचडीएफसी और एचडीएफसी बैंक के शेयर दो प्रतिशत तक की बढ़त में चल रहे थे।

मुंबई: लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की ऐतिहासिक जीत से उत्साहित होकर शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में घरेलू शेयर बाजारों में तेजी रही। सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 400 अंक की तेजी पाने में सफल रहा।

बाजार में कायम उत्साह के दम पर रुपया भी शुरुआती कारोबार में 23 पैसे की तेजी लेकर 69.78 रुपये प्रति डॉलर पर चल रहा था।

ये भी देंखे:मोदी लहर में भी नहीं ढहा नवीन पटनायक का किला, 5वीं बार बनेंगे ओडिशा के सीएम

बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स एक समय 39,223.85 अंक पर पहुंच गया था। हालांकि बाद में कुछ नरम होकर 170.51 अंक यानी 0.44 प्रतिशत की तेजी के साथ 38,981.90 अंक पर चल रहा था। इसी तरह एनएसई का निफ्टी भी 54.15 अंक यानी 0.46 प्रतिशत की बढ़त के साथ 11,711.20 अंक पर चल रहा था।

सेंसेक्स की कंपनियों में एलएंडटी, भारती एयरटेल, भारतीय स्टेट बैंक, टाटा मोटर्स, बजाज फाइनेंस, एशियन पेंट्स, महिंद्रा एंड महिंद्रा, आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक, इंडसइंड बैंक, इंफोसिस, एचडीएफसी और एचडीएफसी बैंक के शेयर दो प्रतिशत तक की बढ़त में चल रहे थे।

हालांकि बजाज ऑटो, ओएनजीसी, हिंदुस्तान यूनिलीवर, कोल इंडिया, एचसीएल टेक, टीसीएस, एनटीपीसी और रिलांयस इंडस्ट्रीज के शेयर दो प्रतिशत तक की गिरावट में चल रहे थे।

पिछले कारोबारी दिवस में सेंसेक्स एक समय एक हजार अंक से भी अधिक की मजबूती के साथ 40 हजार के स्तर को पहली बार पार कर गया था। हालांकि रिकार्ड उच्च स्तर पर बाजार के पहुंचने के बाद निवेशकों द्वारा जमकर मुनाफा वसूली करने से सेंसेक्स ने तेजी खो दी।

ये भी देंखे:बंगाल में शाह की रैली के बाद जिन 9 सीटों पर हुई वोटिंग, वहां हार गई BJP

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भाजपा ने लोकसभा चुनाव की बृहस्पतिवार को हुई मतगणना में 300 से अधिक सीटें प्राप्त की है।

उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, बृहस्पतिवार को विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने 1,352.20 करोड़ रुपये की शुद्ध खरीदारी की। हालांकि घरेलू संस्थागत निवेशक 593.54 करोड़ रुपये के शुद्ध बिकवाल रहे।

एशियाई बाजारों में नकारात्मक रुख रहा।

(भाषा)