सपा बसपा व कांग्रेस चखेंगे सबसे बुरी हार का स्वाद – डा. दिनेश शर्मा 

 उपमुख्यमंत्री डा दिनेश शर्मा ने कहा है कि सपा बसपा और कांग्रेस अपने राजनैतिक इतिहास की सबसे बुरी हार का स्वाद चखने जा रहे हैं।

लखनऊ। उपमुख्यमंत्री डा दिनेश शर्मा ने कहा है कि सपा बसपा और कांग्रेस अपने राजनैतिक इतिहास की सबसे बुरी हार का स्वाद चखने जा रहे हैं। भाजपा अकेले 300 सीटों का आंकडा पार करेगी।  भाजपा उत्तर प्रदेश में 2019 के लोकसभा चुनाव में 2014 से भी अच्छा प्रदर्शन करने जा रही है। उन्होंने कहा कि  लोकसभा चुनाव का सांतवा चरण देश के भाग्य के निर्धारण का अन्तिम चरण होगा। पिछले छह चरण में पार्टी को जनता का अभूतपूर्व समर्थन मिला है। सातवें चरण की सभी 13 सीटो पर भाजपा ही विजय पताका लहराएगी।

यह भी पढ़ें… Lok sabha election 2019: 7वें चरण में सबसे अधिक आपराधिक प्रत्याशियों की संख्या

उन्होंने विधानसभा के उपचुनाव में भी जीत का दावा किया व कहा कि केन्द्र में मोदी जी के नेतृत्व में मजबूत सरकार बनेगी जो देश के मान सम्मान को बढाने का काम करेगी। उन्होंने कहा कि सपा बसपा और कांग्रेस आपस में मिले हुए हैं। पहले सपा कांग्रेस का गठबंधन था और इस बार सपा बसपा का गठबंधन हैं तथा राहुल जी की कांग्रेस वोट काटने का काम कर रही है। इससे साफ है कि गठबंधन के घटक दल वहीं हैं केवल स्वरूप बदला है। भाजपा ने इन्हे 2014 में तथा 2017 में करारी शिकस्त दी थी। इस बार ये दल सबसे बुरी हार का स्वाद चखेंगे।

यह भी पढ़ें… अब प्रदेश में नहीं रही गुंडे माफियाओं की खैर-केशव प्रसाद मौर्य

उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में लोकतांत्रिक मूल्यों का उपहास उडाया गया है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रोड-शो में जिस प्रकार से सुनियोजित हिंसा व अराजकता पैदा की गई वैसा आज तक कभी नहीं हुआ है। हाल इतने बदतर हो गए कि राष्ट्रीय अध्यक्ष को सुरक्षा बलो के घेरे में जाना पडा। चुनाव आयोग को और अधिक कडे कदम उठाने चाहिए। उन्होंने मांग की कि बंगाल में चुनाव केन्द्रीय सुरक्षा बलों की निगरानी में ही कराए जाने चाहिए।

यह भी पढ़ें… लोकसभा चुनाव में अब पिछड़ों को साध कर आगे बढ़ने में जुटे सभी दल

उन्होंने कहा कि अफसोस यह है कि मायावती व अखिलेश यादव ने कांग्रेस के साथ मिलकर प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप में  बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के हिंसात्मक कदमों का समर्थन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी राजनैतिक अवसाद के दौर से गुजर रही हैं इसीलिए वे अनर्गल बयानबाजी कर रही है। उन्होंने ममता बनर्जी को हार को गरिमापूर्ण तरह से स्वीकारने की सलाह भी दी है।