लोकसभा चुनाव : चौथे चरण में 23 फीसद दागदार, करोड़पतियों की भरमार

लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में कुल 928 प्रत्याशियों में से 23 फीसद दागदार प्रत्याशियों की संख्या 210 है। 17 फीसद गंभीर आपराधिक छवि के प्रत्याशियों की संख्या 158 है। 12 प्रत्याशियों ने दोषी ठहराए जाने वाले मामलों की जानकारी दी है।

लखनऊ : लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में कुल 928 प्रत्याशियों में से 23 फीसद दागदार प्रत्याशियों की संख्या 210 है। 17 फीसद गंभीर आपराधिक छवि के प्रत्याशियों की संख्या 158 है। 12 प्रत्याशियों ने दोषी ठहराए जाने वाले मामलों की जानकारी दी है। इसी तरह 306(33%) प्रत्याशी करोड़पति हैं। इनके पास एक करोड़ या उससे अधिक की संपत्ति है।

यह भी पढ़ें…कोर्ट से अतीक को झटका, UP से गुजरात जेल में ट्रांसफर, CBI करेगी केस की जांच

चौथे चरण के चुनाव में 23 फीसद हैं दागदार

लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में हिस्सा ले रहे 943 प्रत्याशियों में से 928 के स्वघोषित हलफनामों का नेशनल इलेक्शन वाच और एसोसिएशन फार डेमोक्रेटिक रिफार्म ने विश्लेषण किया। इस रिपोर्ट को तैयार करते समय 15 प्रत्याशियों के शपथ पत्रों का आधे अधूरे होने के कारण विश्लेषण नहीं हो सका।

इस चरण में पांच प्रत्याशियों ने अपने खिलाफ हत्या के मामलों की जानकारी दी है। हत्या के प्रयास में नामजद प्रत्याशियों की संख्या 24 है। चार प्रत्याशियों के खिलाफ फिरौती के लिए अपहरण, अपहरण, गलत नीयत से अगवा करने आदि के मामले हैं।

· महिलाओं के प्रति आपराधिक मामलों वाले प्रत्याशियों की संख्या 21 है। जिसमें महिलाओं से आपराधिक जबरदस्ती, शील भंग करने के लिए बल प्रयोग या विवाहित महिला के पति या रिश्तेदार के रूप में उत्पीड़न के मामले दर्ज हैं। 16 प्रत्याशियों के खिलाफ घृणा फैलाने वाला भाषण देने के मामले हैं।

पार्टीवार दागदार प्रत्याशियों की स्थिति

चौथे चरण में भाजपा के 57 में से 25 (44%), कांग्रेस के 57 में से 18(32%), बसपा के 54 में से 11(20%), शिवसेना के 21 में से 12(57%), 345 निर्दलीय प्रत्याशियों में 60(17%) ने अपने आपराधिक रिकार्ड की जानकारी दी है। इस तरह से प्रमुख पार्टियों में दलगत आधार पर गंभीर आपराधिक प्रवृत्ति के प्रत्याशियों की संख्या देखे तो भाजपा के 57 में बीस (35%), कांग्रेस के 57 में नौ (16%), बसपा के 54 में दस (19%), शिवसेना के 21 में नौ (43%) और 345 निर्दलीय प्रत्याशियों में से 45(13%) हैं।

यह भी पढ़ें…सौराष्ट्र में बीजेपी बचा पाएगी अपने दरकते दुर्ग को, पीएम की असली परीक्षा

इसी तरह से 71 निर्वाचन क्षेत्रों में 37 संवेदनशील हैं। जिसमें तीन या अधिक आपराधिक छवि के प्रत्याशी चुनाव लड़ रहे हैं।

दलगत आधार पर करोड़पति प्रत्याशी

प्रमुख दलों के भाजपा और कांग्रेस के 57-57 प्रत्याशियों में 50-50 (88%) करोड़पति हैं। बसपा के 54 प्रत्याशियों में 20 (37%), शिवसेना के 21 प्रत्याशियों में 13(62%) और सपा के दस में से आठ (80%) करोड़पति हैं। इस चरण में प्रति प्रत्याशी औसत संपत्ति 4.53 करोड़ है। दलगत आधार पर भाजपा के प्रत्याशियों के पास 13.63 करोड़, कांग्रेस के प्रत्याशियों के पास 29.03 करोड़, बसपा के प्रत्याशियों के पास 2.69 करोड़, शिवसेना के प्रत्याशियों के पास 17.85 करोड़ औसत संपत्ति है।

मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा से कांग्रेस प्रत्याशी नकुल नाथ के पास 660 करोड़ से अधिक की कुल संपत्ति है। महाराष्ट्र के मुम्बई साउथ सेंट्रल से वंचित बहुजन अगाधी से प्रत्याशी संजय सुशील भोसले के पास 125 करोड़ से अधिक की कुल संपत्ति है। और उत्तर प्रदेश के झांसी से भाजपा प्रत्याशी अनुराग शर्मा के पास 124 करोड़ से अधिक की संपत्ति है।

जहां एक ओर इतनी भारी संपत्ति के उम्मीद्वार इस चरण में मैदान में हैं वहीं जीरो संपत्ति वाले प्रत्याशी भी मैदान में हैं। महाराष्ट्र के नासिक से कांग्रेस प्रत्य़ाशी प्रियंका रामाराव शिरोले की कुल संपत्ति जीरो है। इसी पार्टी के ठाणे से प्रत्याशी विट्ठलनाथ चवान की संपत्ति भी जीरो है। और इसी पार्टी की राजस्थान ठोक सवाई माधोपुर से प्रत्याशी प्रेमलता बंसीवाल की संपत्ति भी जीरो है।

इस चरण में सबसे कम संपत्ति वाले प्रत्याशी भी कांग्रेस के हैं। राजस्थान के झालवाड़ बरान से प्रत्याशी प्रिंस कुमार के पास कुल संपत्ति पांच सौ रुपए हैं। राजस्थान के ही चित्तौड़गढ़ से प्रत्याशी शमशुद्दीन की कुल संपत्ति 786 रुपए है। जबकि मुंबई नार्थ ईस्ट से प्रत्याशी बबन सोपन ठोके की कुल संपत्ति 11 सौ रुपए है।

चौथे चरण में कुल 459 प्रत्याशियों ने अपनी देनदारी घोषित की है। जिसमें सर्वाधिक देनदारी 107 करोड़ की है। आठ फीसद यानी 70 प्रत्याशियों ने अपने पैन का ब्योरा नहीं दिया है।

यह भी पढ़ें……BJP प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर बयान देकर फंसी, कलेक्टर ने जारी किया नोटिस

शैक्षिक विवरण

44 फीसद यानी 404 प्रत्याशियों ने खुद को पांचवीं से 12वीं पास बताया है। 454 प्रत्याशियों ने खुद को स्नातक या अधिक बताया है। जबकि 34 प्रत्याशियों ने खुद को साक्षर और नौ प्रत्याशियों ने खुद को अशिक्षित बताया है।

चौथे चरण में 31 फीसद यानी 287 प्रत्याशियों ने अपनी उम्र 25 से 40 साल के बीच बतायी है। जबकि 53 फीसद ने अपनी उम्र 41 से 60 साल के बीच बतायी है। जबकि 16 फीसदी यानी 148 प्रत्याशियों ने अपनी उम्र 61 से 80 साल बतायी है। एक प्रत्याशी ने अपनी उम्र 80 से ऊपर बतायी। तीन प्रत्याशियों ने अपनी उम्र नहीं बतायी है।

यह भी पढ़ें……बीजेपी ने साध्वी प्रज्ञा को भोपाल से दिया टिकट, दिग्विजय से होगी टक्कर