करारी हार के बाद कांग्रेस में इस्तीफे का दौर जारी, इन नेताओं ने भेजा अपना इस्तीफा

राहुल को लेकर तरह-तरह की अटकलें चल रही हैं। हालांकि राहुल के इस्तीफे की पेशकश के बाद कांग्रेस पार्टी ने अभी चुप्पी साध रखी है, लेकिन कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार, राहुल अब भी अपने इस्तीफे पर अड़े हुए हैं।

नई दिल्ली: लोकसभा चुनावों में एनडीए के प्रचंड जीत और कांग्रेस पार्टी की करारी हार के बाद से कांग्रेस में एक के बाद एक इस्तीफों की पेशकश का दौर शुरू हो चुका है। पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस्तीफे की पेशकश की और अब राज्य प्रदेश प्रभारी इस्तीफा ऑफर कर रहे हैं।

आलम यह है कि असम से लेकर पंजाब और मध्य प्रदेश से लेकर राजस्थान तक के दिग्गज नेता पद से इस्तीफे की बात कर चुके हैं। अब तक कई प्रदेशों के 13 वरिष्ठ नेताओं ने अपना इस्तीफा कांग्रेस अध्यक्ष के पास भेज दिया है।

ये भी पढ़ें— करारी हार के बाद आरजेडी में बगावत, पार्टी नेता ने कहा, इस्तीफा दें तेजस्वी

उधर, राहुल को लेकर तरह-तरह की अटकलें चल रही हैं। हालांकि राहुल के इस्तीफे की पेशकश के बाद कांग्रेस पार्टी ने अभी चुप्पी साध रखी है, लेकिन कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार, राहुल अब भी अपने इस्तीफे पर अड़े हुए हैं।

अब तक 13 बड़े नेताओं ने की इस्तीफे की पेशकश
कांग्रेस अध्यक्ष के रास्ते पर चलते हुए अब तक 13 बड़े नेताओं ने इस्तीफे की पेशकश की है। महाराष्ट्र में पार्टी के प्रभारी अशोक चव्हाण ने लोकसभा चुनाव नतीजों के अगले ही दिन इस्तीफा देने की बात कही थी। पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़, झारखंड कांग्रेस चीफ अजय कुमार और असम कांग्रेस अध्यक्ष रिपुन बोरा ने सोमवार को अपने इस्तीफे कांग्रेस अध्यक्ष को भेजे हैं। जाखड़ ने गुरदासपुर उपचुनाव में जीत मिली थी, लेकिन इस बार वह सनी देओल से हार गए।

ये भी पढ़ें— कुटिया में रहते हैं दुनिया के सबसे गरीब भारतीय सांसद, जानें इनके बारे में

इससे पहले राज बब्बर और कमलनाथ ने भी नैतिक जिम्मेदारी कहते हुए इस्तीफा देने की बात कही थी। झारखंड कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार और असम कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रिपुन बोरा ने भी निराशाजनक प्रदर्शन के बाद अपना इस्तीफा कांग्रेस अध्यक्ष को भेजा है। इसके अलावा कई अन्य क्षेत्रों से भी पार्टी के विभिन्न पदों से कांग्रेस नेताओं ने निराशाजनक प्रदर्शन के कारण इस्तीफे दिए हैं। यूपी कांग्रेस चीफ राज बब्बर, ओडिशा कांग्रेस अध्यक्ष निरंजन पटनायक और महाराष्ट्र कांग्रेस चीफ अशोक चव्हाण भी इस्तीफे की पेशकश कर चुके हैं।

कांग्रेस में मंथन का दौर जारी, कई वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात
करारी शिकस्त के बाद कांग्रेस पार्टी के लिए यह अस्तित्व की लड़ाई है। ऐसे वक्त में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं ने मुलाकात की है। आज कांग्रेस के वरिष्ठ नेता के सी वेणुगोपाल और अहमद पटेल ने राहुल से मुलाकात की। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कांग्रेस अध्यक्ष जल्द ही राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत से भी मुलाकात कर सकते हैं। विधानसभा चुनावों में जीत के बाद भी कांग्रेस को प्रदेश से एक भी सीट नहीं मिली।

पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने इस्तीफे के साथ दिया भावुक संदेश
गुरदासपुर में अभिनेता एवं बीजेपी उम्मीदवार सनी देओल से लोकसभा चुनाव हारने वाले पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को अपना त्यागपत्र भेज दिया है। इस्तीफे में, उन्होंने अपनी सीट हारने और कांग्रेस शासित राज्य में पार्टी का उत्कृष्ट प्रदर्शन नहीं रहने की नैतिक जिम्मेदारी ली। कांग्रेस ने पंजाब में 13 में से आठ सीटें जीती हैं। अकाली दल और बीजेपी ने दो-दो सीटें, जबकि आम आदमी पार्टी (आप) ने एक सीट जीती है।

ये भी पढ़ें— बंगाल में BJP की धमाकेदार जीत के बाद इनकी तलाश कर रही हैं ममता बनर्जी

अपने पत्र में, जाखड़ ने कहा कि वह कांग्रेस अध्यक्ष, महासचिव प्रियंका गांधी और मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह द्वारा पूरा समर्थन मिलने के बावजूद अपनी सीट बरकरार नहीं रख पाए। 77,000 से अधिक वोटों से हारे जाखड़ ने कहा, ‘सभी ने मेरा पूरा समर्थन किया और मेरे लिए अपना सर्वश्रेष्ठ दिया लेकिन मैं अपनी सीट का बचाने में नाकामयाब रहा, ऐसे में मैं पार्टी के राज्य प्रमुख पद पर नहीं रह सकता। मैं नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए पद छोड़ता हूं।’