वायनाड से राहुल गांधी ने करीब साढ़े सात लाख वोटों से रिकॉर्ड जीत दर्ज की

केरल की वायनाड लोकसभा सीट 2008 में अस्तित्व में आई थी। तब से अब तक इस सीट पर कांग्रेस का ही कब्जा रहा है। इस सीट के तहत 7 विधानसभा सीटें आती हैं। ये सातों विधानसभा सीटें मनंथावाड़ी, सुल्तानबथेरी, कल्पेट्टा और कोझीकोड जिलों में पड़ती हैं।

file photo

 नई दिल्ली : मतगणना के शुरू होने के बाद रुझानों के बाद अब अंतिम परिणाम भी आने शुरू हो गए हैं। इसी बीच राहुल गांधी ने वायनाड सीट जीत ली है। उन्होंने करीब साढ़े सात लाख वोटों से रिकॉर्ड जीत दर्ज की है।  हालांकि, सुबह से जिस तरह से रुझान आ रहे थे उसको देखकर लग रहा था कि वायनाड सीट से उनकी जीत लगभग तय है। ऐसा माना जा रहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के केरल से चुनाव लड़ने के कारण कांग्रेस की अगुवाई वाली यूडीएफ को फायदा हुआ क्योंकि केरल में कांग्रेस काफी सीटों पर बढ़त बनाए हुए है।

ये भी देखें : बेगूसराय में बीजेपी कार्यकर्ताओं सीपीआई समर्थकों में हिंसक झड़प

केरल की वायनाड लोकसभा सीट 2008 में अस्तित्व में आई थी। तब से अब तक इस सीट पर कांग्रेस का ही कब्जा रहा है। इस सीट के तहत 7 विधानसभा सीटें आती हैं। ये सातों विधानसभा सीटें मनंथावाड़ी, सुल्तानबथेरी, कल्पेट्टा और कोझीकोड जिलों में पड़ती हैं।

ये भी देखें : भीषण गर्मी का असर: मतगणना में लगाए गए 25 कर्मचारियों की हालत बिगड़ी

2009 से इस सीट पर कांग्रेस के एमआई शानवास सांसद हैं। अब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के यहां से चुनाव लड़ने की वजह से यह संसदीय सीट हाई-प्रोफाइल सीटों में शुमार हो गई थी और सभी की नज़रें इस सीट पर लगी हुई थीं। हालांकि, कांग्रेस का गढ़ होने के कारण राहुल गांधी की जीत इस सीट पर लगभग पक्की मानी जा रही थी।